यूरोप में खौफ फैलाना चाहते हैं पुतिन? जानें स्पेन में मिले 'लेटर बम' के पीछे कौन

'लेटर बम के माध्यम से यह संकेत देने का इरादा था कि रूस और उसके प्रतिनिधि पूरे यूरोप में आतंकवादी हमले कर सकते हैं।'

Shashi Rai Written By: Shashi Rai @km_shashi
Published on: January 23, 2023 20:27 IST
रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर- India TV Hindi
Image Source : फाइल फोटो रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर

पिछले साल नवंबर और दिसंबर में 6 लेटर बम के जरिए स्पेन की हाई प्रोफाइल सरकार, सेना और राजनयिकों को निशाना बनाया गया था। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक अज्ञात अमेरिकी अधिकारियों का हवाला देते हुए रविवार को खबर दी गई कि रूस की सैन्य खुफिया एजेंसी ने पीटर्सबर्ग स्थित व्हाइट मिलिटेंट ग्रुप को लेटर बम अभियान चलाने का आदेश दिया था।  इसके बाद से स्पेन लेटर बम घटना को लेकर रूस की मिलिट्री इंटेलिजेंस एजेंसी पर शक गहरा गया है। 

यूरोप में आतंकवादी हमले कर सकते हैं

एक अखबार ने बिना नाम लिए अमेरिकी अधिकारियों का हवाला देते हुए लिखा, "लेटर बम के माध्यम से यह संकेत देने का इरादा था कि रूस और उसके प्रतिनिधि पूरे यूरोप में आतंकवादी हमले कर सकते हैं।" 2020 में, संयुक्त राज्य अमेरिका ने रूसी इंपीरियल मूवमेंट का प्रचार किया, जो सेंट पीटर्सबर्ग में एक आतंकवादी समूह के रूप में सैन्य-शैली के प्रशिक्षण केंद्र संचालित करता है।

लेटर बम अभियान में क्रेमलिन की भूमिका 

अमेरिकी अधिकारी के मुताबिक कभी-कभी रूसी इंपीरियल मूवमेंट को प्रॉक्सी बल के रूप में उपयोग करने की क्षमता रूसी खुफिया के लिए उपयोगी है। खासकर प्रतिद्वंद्वी देशों को रूस के खिलाफ कार्रवाई करने में दिक्कत होती है। लेटर बम अभियान में क्रेमलिन के शामिल होने की कोई स्पष्ट जानकारी नहीं है। हालांकि, रूसी साम्राज्यवादी आंदोलन ने यूक्रेन में क्रेमलिन के युद्ध के प्रयासों की आलोचना की और राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया।

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Europe News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन