UN News: ISIS का अगला गढ़ बन सकता है अफ्रीका, सिक्योरिटी एक्सपर्ट ने UN को दी चेतावनी

UN News: मार्टिन एवी ने कहा कि इस्लामिक स्टेट ने अफ्रीका में अपना दबदबा बढ़ाया है और कम से कम 20 देश आतंकवादी संगठन की गतिविधियों का प्रत्यक्ष तौर पर अनुभव कर रहे हैं।

Shailendra Tiwari Edited By: Shailendra Tiwari @@Shailendra_jour
Published on: August 10, 2022 9:19 IST
Representational Image- India TV Hindi News
Image Source : FILE PHOTO Representational Image

Highlights

  • अफ्रीकी युवाओं को IS बना रहा कट्टर
  • धन और अन्य संसाधन जुटाने के लिए हो रहा 20 से ज्यादा देशों का इस्तेमाल
  • IS का गढ़ बना हुआ है सोमालिया

UN News: अफ्रीका के सिक्योरिटी एक्सपर्ट मार्टिन एवी ने मंगलवार को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को आगाह किया कि अफ्रीका में इस्लामिक स्टेट आतंकवादी संगठन का खतरा हर दिन बढ़ रहा है और यह महाद्वीप उसकी खिलाफत का भविष्य हो सकता है। ISIS अपना अगला अड्डा अफ्रीका में बना सकता है।

अफ्रीका में इस्लामिक स्टेट की गतिविधि

मार्टिन एवी ने कहा कि इस्लामिक स्टेट ने अफ्रीका में अपना दबदबा बढ़ाया है और कम से कम 20 देश आतंकवादी संगठन की गतिविधियों का प्रत्यक्ष तौर पर अनुभव कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि 20 से अधिक अन्य देशों का इस्तेमाल धन और अन्य संसाधन जुटाने के लिए किया जा रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘ये अब क्षेत्रीय गढ़ हैं, जो अफ्रीका में अस्थिरता लाने का जरिया बन गए हैं।’’ एवी ने कहा कि चाड, नाइजीरिया, नाइजर और कैमरून की सीमा से लगता लेक चाड बेसिन आतंकवादी संगठन की गतिविधियों का सबसे बड़ा अड्डा है, साहेल के कई इलाके अब ‘‘अनियंत्रित’’ हैं और सोमालिया अफ्रीका में आईएस का गढ़ बना हुआ है।

IS के सफल होने के कई कारण

एवी ने अफ्रीका में IS के सफल होने के कई कारण बताए, जिनमें प्राकृतिक संसाधनों की मौजूदगी भी शामिल है, जिससे दाएश जैसे संगठनों को खुद के लिए धन एकत्रित करने में मदद मिलती है। इसके अलावा गरीबी और फलस्तीन के मुद्दे से निपटने के लिए राजनीतिक इच्छाशक्ति की कमी कई अफ्रीकी युवाओं के ‘‘कट्टर’’ बनने की मुख्य वजह हैं। संयुक्त राष्ट्र के आतंकवाद रोधी प्रमुख व्लादिमीर वोरोंकोव ने भी सुरक्षा परिषद को आगाह किया कि 2020 की शुरुआत में कोविड-19 वैश्विक महामारी फैलने के बाद से ही इस्लामिक स्टेट का खतरा बढ़ रहा है। हमें इसे रोकने की ओर कदम बढ़ाना होगा।

Latest World News

navratri-2022