Tuesday, June 18, 2024
Advertisement

ऑनलाइन स्केमस्टर्स ने महिला को यूं किया डिजिटल अरेस्ट, हड़पे करोड़ रुपये; चौंकाने वाला मामला

ऑनलाइन ठगी का एक और चौंकाने वाला मामला सामने आया है। ठगों ने बेंगलुरु में एक महिला सॉफ्टवेयर इंजीनियर से एक करोड़ रुपये ठग लिए। आधे घंटे के बाद जब पीड़िता के पैसे वापस नहीं आए, तब उसे एहसास हुआ कि उसके साथ ठगी हुई है।

Reported By : T Raghavan Edited By : Malaika Imam Updated on: May 22, 2024 12:35 IST
प्रतीकात्मक फोटो - India TV Hindi
Image Source : PIXABAY.COM प्रतीकात्मक फोटो

फेडेक्स लॉजिस्टिक्स के नाम पर ऑनलाइन ठगी का एक और चौंका देने वाला मामला सामने आया है। ठगों ने बेंगलुरु में एक महिला सॉफ्टवेयर इंजीनियर से एक करोड़ रुपये ठग लिए। मामला बेंगलुरु के ईस्ट जोन का है। पीड़िता ने पुलिस में दर्ज की गई शिकायत में बताया कि 16 मई को उसे एक अज्ञात नंबर से कॉल आया। कॉलर ने खुद को फेडेक्स लॉजिस्टिक्स का एग्जीक्यूटिव बताया और कहा कि उनके नाम से ताइवान भेजे गए पार्सल में ड्रग्स और कुछ जाली पासपोर्ट मिले हैं, जिसे कस्टम विभाग के अधिकारियों ने मुंबई एयरपोर्ट पर जब्त कर लिया है। कस्टम विभाग ने उनके खिलाफ मामला दर्ज किया है।

इस कॉल से पीड़ित पैनिक हो गई। इतने में उसे एक और नंबर से कॉल आया। इस शख्स ने खुद को कस्टम विभाग का अधिकारी बताया और कहा कि उसके खिलाफ NDPS एक्ट में एक गंभीर मामला दर्ज किया गया है। ये महिला और भी डर गई। महिला ने इस नकली अधिकारी से कहा कि उसने ऐसा कोई पार्सल ताइवान नहीं भेजा है, लेकिन उस अधिकारी ने कहा कि पार्सल पर इस महिला का नाम और मोबाइल नंबर दिया हुआ है। इसके बाद इस अधिकारी ने पीड़िता की मदद करने की बात करते हुए उसे स्काइप कॉल में जुड़ने को कहा और उसे निर्देश दिया गया कि वो अगले दो दिन तक खुद को एक कमरे में बंद रखेगी और किसी से फोन पर या निजी तौर पर बात नहीं करेगी।

महिला से कैसे लिए गए पैसे?

इन दो दिनों के दौरान पूछताछ के नाम पर उसे कई अलग-अलग नंबर से कॉल आए। पीड़िता के अनुसार, पहले स्काइप कॉल में वीडियो के जरिए दूसरी तरफ एक पुलिस स्टेशन का सेट अप दिखाया गया, ताकि इस महिला को भरोसा दिलाया जा सके कि जो भी जांच हो रही है, वो सच है। पीड़िता के मुताबिक, कुछ देर में दूसरी तरफ का वीडियो बंद कर दिया गया और महिला को अपना वीडियो ऑन रखने को कहा गया। इसके बाद अलग-अलग अधिकारियों ने जांच के नाम पर पीड़िता से लगातार पूछताछ की। इसी दौरान एक शख्स ने कहा कि उसके आधार कार्ड के जरिए जब बैंक अकाउंट की जांच की गई, तो मनी लॉन्ड्रिंग की बात भी पता चली है। पीड़िता बहुत ज्यादा डर गई, उससे कहा गया कि ये मामला और भी संगीन है और इसको वेरिफाई करना होगा। इस काम के लिए महिला को अपने बैंक में जमा पैसों को RBI के बैंक अकाउंट में जमा करना होगा, जिसके बाद वेरिफिकेशन होगा और आधे घंटे के बाद उसके पैसे वापस उसके बैंक अकाउंट में डाल दिए जाएंगे।

1 करोड़ ट्रांसफर करवा लिए

महिला को इस काम के लिए राजी करने के बाद ऑनलाइन ठगों ने तीन अलग-अलग अकाउंट में 1 करोड़ रुपये ट्रांसफर करवा लिए। आधे घंटे के बाद जब पीड़िता के पैसे वापस नहीं आए, तब उसे एहसास हुआ कि उसके साथ ठगी हुई है। बेंगलुरु के राममूर्ति नगर में महिला ने शिकायत दर्ज करवाई है। पुलिस फिलहाल उन अकाउंट्स को सीज करने की कोशिश में है, जहां पैसे भेजे गए।

ये भी पढ़ें- 

Latest India News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement