Tuesday, June 25, 2024
Advertisement

मणिपुर के बाद अरुणाचल प्रदेश की आठ सीटों पर भी दोबारा होगा मतदान, चुनाव आयोग का बड़ा फैसला

चुनाव आयोग ने मणिपुर के 11 मतदान केंद्रों में दोबारा वोटिंग कराई है। अब अरुणाचल प्रदेश के 8 मतदान केंद्रों में दोबारा वोटिंग कराने का फैसला किया गया है।

Edited By: Shakti Singh
Updated on: April 22, 2024 16:43 IST
अरुणाचल प्रदेश में दोबारा मतदान होगा- India TV Hindi
Image Source : PTI अरुणाचल प्रदेश में दोबारा मतदान होगा

भारतीय चुनाव आयोग ने मणिपुर के बाद अरुणाचल प्रदेश में भी दोबारा मतदान कराने का फैसला किया है। अरुणाचल प्रदेश के आठ मतदान केंद्रों पर दोबारा वोटिंग कराई जाएगी। अरुणाचल प्रदेश में 19 अप्रैल को पहले चरण के मतदान में कई मतदान केंद्रों पर हिंसा हुई थी। इसके बाद चुनाव आयोग ने इन केंद्रों पर दोबारा मतदान कराने का फैसला किया है। यहां 19 अप्रैल को हुआ मतदान मान्य नहीं होगा। अरुणाचल प्रदेश में 19 अप्रैल को लोकसभा के साथ विधानसभा चुनाव के लिए भी पूरे राज्य में मतदान हुआ था।

चुनाव आयोग के अधिकारी ने बताया कि अरुणाचल प्रदेस में विधानसभा चुनाव मतदान के दौरान हिंसा और ईवीएम को नुकसान पहुंचाने की खबरें आई थीं। चुनाव आयोग ने आठ मतदान केंद्रों में 19 अप्रैल को हुए मतदान को अमान्य करार देते हुए 24 अप्रैल को दोबारा मतदान की तारीख तय की है। उप मुख्य चुनाव अधिकारी लिकेन कोयू ने बताया कि राज्य के आठ मतदान केंद्रों पर सुबह 6 बजे से दोपहर जो बजे तक मतदान होगा।

इन राज्यों में होगी दोबारा वोटिंग

चुनाव आयोग ने पूर्वी कामेंग जिले के बामेंग विधानसभा क्षेत्र में सारियो, कुरुंग कुमेय में न्यापिन विधानसभा सीट के लोंगटे लोथ, ऊपरी सुबनसिरी जिले में नाचो निर्वाचन क्षेत्र के डिंगसेर, बोगिया सियुम, जिम्बारी और लेंगी, सियांग जिले के रुमगोंग विधानसभा क्षेत्र के बोग्ने और मोलोम मतदान केंद्रों पर पुनर्मतदान कराने का फैसला किया है। अरुणाचल प्रदेश में 50 विधायकों के चयन के लिए 19 अप्रैल को मतदान किया था। यहां मतदान प्रतिशत 76.44 रहा था। राज्य में 60 विधानसभा सीट हैं, लेकिन 10 सीटों पर उम्मीदवार निर्दलीय चुनाव जीत चुके हैं।

मणिपुर में क्यों हुआ दोबारा मतदान?

मणिपुर में पिछले एक साल के अंदर जमकर हिंसा हुई है। यहां दो समुदायों के बीच संघर्ष जारी है, जिसके कारण कई लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है और सैकड़ों परिवार भी इससे प्रभावित हुए हैं। अब हजारों लोग अपना घर छोड़कर राहत शिविर में रहने के लिए मजबूर हैं। ऐसे में यहां चुनाप के प्रति ज्यादा उत्साह नहीं था। सभी उम्मीदवारों ने शांतिपूर्ण तरीके से प्रचार किया। चुनाव आयोग को पहले ही मतदान के दौरान हिंसा का डर था। इस वजह से आउटर मणिपुर सीट पर दो चरण में मतदान कराने का फैसला किया गया ताकि कानून व्यवस्था बनाई जा सके और सभी की सुरक्षा सुनिश्चित करते हुए निष्पक्ष तरीके से मतदान हो। हालांकि, भीतरी मणिपुर में एक ही चरण में मतदान होना था, लेकिन यहां भी कई बूथों पर हिंसा हुई। इसके बाद आयोग ने 11 बूथों पर दोबारा मतदान कराने का फैसला किया।

यह भी पढ़ें-

Lok Sabha Elections 2024: मणिपुर के 11 बूथ पर दोबारा मतदान, वोटिंग के लिए उमड़ी भीड़, सुबह से लगी लंबी कतार

लोकसभा चुनाव 2024: सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव नहीं लड़ेंगे चुनाव, कन्नौज से तेज प्रताप होंगे उम्मीदवार

Latest India News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Politics News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement