Lucknow LuLu Mall: लखनऊ के लुलु मॉल में 'नमाज पढ़ने' वालों के खिलाफ FIR दर्ज, जानें पूरा मामला

Lucknow LuLu Mall: लखनऊ में पिछले दिनों खुला लुलु मॉल अपने परिसर के अंदर नमाज पढ़ने देने और सिर्फ मुसलमानों को ही नौकरी देने को लेकर विवाद में आ गया है। यह विवाद टोपी पहने कुछ लोगों द्वारा मॉल के अंदर नमाज पढ़ने का वीडियो वायरल होने के बाद पैदा हुआ।

Reported By : Vishal Pratap Singh Edited By : Khushbu RawalPublished on: July 14, 2022 23:49 IST
Lucknow LuLu Mall- India TV Hindi News
Image Source : SOCIAL MEDIA Lucknow LuLu Mall

Highlights

  • लखनऊ के लुलु मॉल में नमाज पढ़ने पर विवाद के बाद FIR दर्ज
  • मॉल में नमाज पढ़ने देने और सिर्फ मुसलमानों को ही नौकरी देने को लेकर विवाद
  • वीडियो वायरल होने पर हिंदू महासभा ने सबसे पहले मामले को उठाया

Lucknow LuLu Mall: लखनऊ में लुलु मॉल में नमाज पढ़े जाने मामले में मॉल प्रबंधन ने नमाज़ियों के खिलाफ FIR दर्ज कराई है। लूलू मॉल की तहरीर पर सुशांत गोल्फसिटी थाने में एफआईआर दर्ज की गई है। बता दें कि लखनऊ में सार्वजनिक स्थलों पर पूजा-पाठ या नमाज अदा करने पर धारा 144 के तहत पाबंदी है। पुलिस ने धारा 153A, 295A, 341 समेत कई अन्य धाराओं में केस दर्ज किया है।

हिंदू महासभा का धरना-प्रदर्शन

बता दें कि राजधानी लखनऊ में पिछले दिनों खुला बहुचर्चित लुलु मॉल अपने परिसर के अंदर नमाज पढ़ने देने और सिर्फ मुसलमानों को ही नौकरी देने को लेकर विवाद में आ गया है। यह विवाद टोपी पहने कुछ लोगों द्वारा कथित रूप से लुलु मॉल के अंदर नमाज पढ़ने का वीडियो वायरल होने के बाद पैदा हुआ। दक्षिणपंथी संगठन अखिल भारतीय हिंदू महासभा के कुछ सदस्यों ने गुरुवार को लुलु मॉल के गेट पर धरना-प्रदर्शन किया। खुद को महासभा का राष्ट्रीय प्रवक्ता बताने वाले शिशिर चतुर्वेदी ने आरोप लगाया कि एक समुदाय विशेष के लोगों को मॉल के अंदर नमाज पढ़ने की अनुमति दी जा रही है। तब तो मॉल के अधिकारियों को हिंदुओं तथा अन्य धर्मावलंबियों को भी मॉल के अंदर प्रार्थना करने की इजाजत देनी चाहिए।

लुलु मॉल के मैनेजर ने जारी किया वीडियो
चतुर्वेदी ने दावा किया कि उसे और महासभा के अन्य साथियों को मॉल के अंदर दाखिल होने की इजाजत नहीं दी गई। इस बीच, लुलु मॉल के मैनेजर समीर वर्मा ने एक वीडियो जारी कर कहा "लुलु मॉल सभी धर्मों का आदर करता है। मॉल के अंदर किसी भी तरह का धार्मिक कार्य या इबादत की इजाजत नहीं है। हम अपने स्टाफ तथा सुरक्षा कर्मियों को ऐसी गतिविधियों पर नजर रखने का प्रशिक्षण देते हैं।"

लुलु मॉल प्रबंधन लव जिहाद को बढ़ावा दे रहा है?
धरना प्रदर्शन के दौरान सुशांत गोल्फ सिटी थाने के कुछ पुलिसकर्मी कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए लुलु मॉल के बाहर पहुंचे। उसके बाद शिशिर चतुर्वेदी और संगठन के अन्य लोगों ने थाने पहुंचकर शिकायत दर्ज कराई। शिकायत में कहा गया "मॉल के अंदर नमाज पढ़ी गई जो कि सार्वजनिक स्थलों पर नमाज पढ़ने की इजाजत नहीं होने संबंधी नीति के खिलाफ है। सोशल मीडिया पर प्रसारित खबरों के मुताबिक लुलु मॉल में पुरुष कर्मचारियों में 70% मुस्लिम हैं और 30% महिला कर्मचारी हिंदू समुदाय से है। ऐसा करके लुलु मॉल प्रबंधन लव जिहाद को बढ़ावा दे रहा है।"

CM योगी ने किया था मॉल का उद्घाटन
महासभा के सदस्यों ने पुलिस से शुक्रवार को लुलु मॉल के बाहर हनुमान चालीसा का पाठ करने की अनुमति भी मांगी है। इस बीच, पुलिस उपायुक्त (दक्षिणी) गोपाल कृष्ण चौधरी ने बताया था कि महासभा सदस्यों द्वारा पुलिस को दी गई शिकायत पर गौर किया जा रहा है। जहां तक अनुमति का सवाल है, तो इसके लिए निर्धारित प्रोटोकॉल के अनुसार संबंधित विभागों से विचार-विमर्श कर निर्णय लिया जाएगा। गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के सबसे बड़े मॉल कहे जा रहे लुलु मॉल का मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गत रविवार को उद्घाटन किया था। इस दौरान राज्य सरकार के कई मंत्री तथा लुलु समूह के अध्यक्ष यूसुफ अली भी मौजूद थे।

Latest Uttar Pradesh News

navratri-2022