1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. लाइफस्टाइल
  4. जीवन मंत्र
  5. Hanuman Jayanti 2019: जानें शुभ मुहूर्त, पूजा सामग्री और पूजा विधि

Hanuman Jayanti 2019: जानें शुभ मुहूर्त, पूजा सामग्री और पूजा विधि

Hanuman Jayanti 2019: हिंदू पंचांग के अनुसार कार्तिक कृष्ण चतुर्दशी के अलावा चैत्र शुल्क पक्ष की पूर्णिमा को हनुमान जंयती मनाई जाएगी। इस बार 17 अप्रैल को मनाई जा रही हैं। आचार्य इंदु प्रकाश के अनुसार मंगल ग्रह से संबंधित चित्रा नक्षत्र, हर्षण योग और राज योग के संयोग में श्री हनुमान जयंती भी है।

India TV Lifestyle Desk India TV Lifestyle Desk
Updated on: April 18, 2019 16:58 IST
Lord Hanuman- India TV
Lord Hanuman

Hanuman Jayanti 2019: हिंदू पंचांग के अनुसार कार्तिक कृष्ण चतुर्दशी के अलावा चैत्र शुल्क पक्ष की पूर्णिमा को हनुमान जंयती मनाई जाएगी। यह पर्व हिंदू धर्म में बहुत ही धूमधाम के साथ मनाया जाता है। इस बार 17 अप्रैल, शुक्रवार को पड़ रही है। आचार्य इंदु प्रकाश के अनुसार मंगल ग्रह से संबंधित चित्रा नक्षत्र, हर्षण योग और राज योग के संयोग में श्री हनुमान जयंती भी है।

जी हां, इस दिन भगवान शिव के 11वें रुद्रावतार, यानी श्री हनुमान जी का जन्म हुआ था। वैसे मतांतर से चैत्र पूर्णिमा के अलावा कार्तिक कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को भी हनुमान जयंती के रूप में मनाया जाता है। पौराणिक ग्रन्थों में दोनों का ही जिक्र मिलता है। लेकिन वास्तव में चैत्र पूर्णिमा को हनुमान जयंती और कार्तिक कृष्ण चतुर्दशी को विजय अभिनन्दन महोत्सव के रूप में मनाया जाता है।

हनुमान जंयती का शुभ मुहूर्त

17 अप्रैल की शाम 07 बजकर 30 मिनट तक चित्रा नक्षत्र रहेगै। इसके साथ ही दोपहर पहले 11 बजकर 32 मिनट तक खुशी प्रदान करने वाला हर्षण योग और शाम 04 बजकर 42 मिनट तक धार्मिक कार्यों के लिये शुभ राज योग भी रहेगा।

हनुमान जी की पूजा करने के लिए पूजन सामग्री
हनुमान जी की पूजा करते समय किसी भी चीज की कमी नहीं होनी चाहिए। इसीलिए हम आपको बता रहें है कि पूजन के समय क्या-क्या रखें।

  • एक चौकी
  • एक लाल कपड़ा
  • हनुमान जी की मूर्ति या फोटो
  • एक कप अक्षत
  • घी से भरा एक दीया
  • कुछ ताजे फूल
  • चंदन या रोली
  • गंगाजल
  • कुछ तुलसी की पत्तियां
  • एक धूप
  • नैवेद्य (गुड और भुने चने)

ऐसें करें हनुमान जी की पूजा
ब्रह्म मुहूर्त में उठकर सभी कामों ने निवृत्त होकर स्नान करें। इसके बाद हनुमान जी को ध्यान कर हाथ में गंगाजल लेकर व्रत का संकल्प करें। साफ-स्वच्छ वस्त्रों में पूर्व दिशा की ओर भगवान हनुमानजी की प्रतिमा को स्थापित करें। विनम्र भाव से बजरंग बली की प्रार्थना करें।

एक चौकी पर अच्छी तरह से लाल कपड़ा बिछा दें। चौकी पर हनुमान जी की मूर्ति या फोटो लगाएं। ध्यान रखना चाहिए कि कोई भी पूजा भगवान गणेश को सर्वप्रथम नमन किए बिना पूरी नहीं होती है। दीया और धूप जलाएं। हनुमान जी को लाल और राम जी को पीले फूल अर्पित करें। लड्डुओं के साथ साथ तुलसी दल भी अर्पित करें। पहले श्री राम के मंत्र "राम रामाय नमः" का जाप करें। फिर हनुमान जी के मंत्र "ॐ हं हनुमते नमः" का जाप करें।

शुक्र कर चुका है मीन राशि पर प्रवेश, वृष से लेकर वृश्चिक राशि के जातक रहें संभलकर हो सकता है भारी नुकसान

साप्‍ताहिक राशिफल 15 से 21 अप्रैल: इस सप्ताह इन राशि वाले जातक को मिलेगा प्यार और नौकरी

हनुमान जयंती: भूलकर भी इन मौकों में न करें हनुमान जी की पूजा, होगा नुकसान ही नुकसान

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Religion News in Hindi के लिए क्लिक करें लाइफस्टाइल सेक्‍शन
Write a comment