1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. गृह मंत्री ने लद्दाख को दी स्पेशल विंटर ग्रेड डीजल की सौगात, अब बर्फीले मौसम में भी दौड़ेंगे वाहन

गृह मंत्री ने लद्दाख को दी स्पेशल विंटर ग्रेड डीजल की सौगात, अब बर्फीले मौसम में भी दौड़ेंगे वाहन

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की उपस्थिति में रविवार को लद्दाख क्षेत्र के लिए स्पेशल विंटर ग्रेड डीजल का शुभारंभ किया गया।

Devendra Parashar Devendra Parashar
Updated on: November 18, 2019 9:54 IST
Union Home Minister Amit Shah with Petroleum Minister Dharmendra Pradhan and Ladakh MP Jamyang Tseri- India TV Paisa
Photo:PTI

Union Home Minister Amit Shah with Petroleum Minister Dharmendra Pradhan and Ladakh MP Jamyang Tsering Namgyal during the launch of winter-grade diesel for Ladakh, in New Delhi on Sunday

नई दिल्ली। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की उपस्थिति में रविवार को लद्दाख क्षेत्र के लिए स्पेशल विंटर ग्रेड डीजल का शुभारंभ किया गया। इस अवसर पर केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान के साथ ही लद्दाख के सांसद श्री जाम्यांग टेरसिंग नामग्याल भी मौजूद रहे। केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्रालय की पहल पर इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड ने इसका उत्पादन शुरू किया है। स्पेशल विंटर ग्रेड डीजल -33 डिग्री सेल्सियस जैसी पर्यावरणीय स्थिति में भी यह अपनी तरलता बरकरार रखता है। 

दरअसल लद्दाख में तापमान की गिरावट के साथ सर्दियों में विशेष रूप से डीजल जम जाता है, जिससे वहां परिवहन से जुड़ी गतिविधियों में काफी समस्या आती है, यही नहीं दुनिया भर से आने वाले पर्यटकों को खासी दिक्कतों का भी सामना करन पड़ता है। उच्च दबाव वाले क्षेत्रों जैसे लद्दाख, करगिल, काज़ा और किलोंग में डीजल का बर्फ बन जाना सामान्य घटना होती है। ऐसी स्थितियों से बचने के लिए इंडियन ऑयल ने स्पेशल विंटर ग्रेड डीजल तैयार किया है।

50 हजार करोड़ की लागत से शुरू हो रहे विकास के कार्य

इस अवसर पर केंद्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह ने लद्दाख के लोगों को शुभकामनाएं दीं। उन्होंने कहा कि केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा मिलने के साथ ही लद्दाख के लोगों की सालों से लंबित मांग और उनकी जन आकांक्षाएं पूरी होने लगी हैं। अब लद्दाख के लोग भी शेष भारत के साथ विकास की राह पर कदमताल कर रहे हैं, तरक्की का यह सफर और भी गति पकड़ेगा। उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार लद्दाख के समूचित विकास के लिए 50 हजार करोड़ की लागत से बिजली, सौर ऊर्जा, शिक्षा और पर्यटन को प्रोत्साहित कर रही है।

केंद्र सरकार ने बजट में लद्दाख के लिए निर्धारित बजट राशि को खर्च करने की अवधि की अनिवार्यता को भी समाप्त किया है, यानी लद्दाख के हिस्से की राशि वहां के लोग अपनी जरुरत के मुताबिक विकास कार्यों में जब तक खर्च नहीं कर लेते वह शून्य घोषित नहीं की जाएगी। उन्होंने कहा कि लद्दाख के लोगों ने प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में लद्दाख विकास की नई गाथा लिखने का साक्षी बनेगा।

परिवहन आसान और अर्थव्यस्था मजबूत होगी- प्रधान

इस अवसर पर केंद्रीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस तथा इस्पात मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने इंडियन ऑयल की मानवीय आवश्यकता और सेवा पर आधारित इस पहल की तारीफ की। उन्होंने कहा कि इससे लद्दाख में विंटर ग्रेड डीजल की अबाध आपूर्ति संभव होगी, परिवहन की गतिविधियां यदि बिना रुकावट चलती रहेंगी तो वहां लोगों के रोजगार और पर्यटन आधारित अर्थव्यस्था को मजबूती मिलेगी। उन्होंने कहा कि हो सकता है लद्दाख के लोगों के दैनिक जीवन को प्रभावित करने वाले इस प्रयास का शुभारंभ करने खुद केंद्रीय गृह मंत्री पहुंचे हैं, यह प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में हमारी सरकार की लद्दाख के विकास और वहां के लोगों के प्रति लगाव को व्यक्त करता है।

जानिए क्या है विंटर ग्रेड डीजल की ख़ासियत

स्पेशल विंटर ग्रेड डीजल में लगभग पांच प्रतिशत बायोडीजल का मिश्रण भी किया गया है। इसकी वजह से जहां डीजल वाहन के लिए बेहतर रहेगी वहीं इसके जम जाने की समस्या से निजात मिलेगी। पेट्रोलियम एक्सपर्ट की माने इसे माइनस33 डिग्री सेल्सियस के तापमान पर भी उपयोग में लाया जा सकता है।

बीआईएस के मानक पर आधारित

स्पेशल विंटर ग्रेड डीजल बीआईएस (ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड) के मानकों पर भी खरा है। इसकी पहली खेप को इंडियन ऑयल की पानीपत रिफाइनरी से हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया है, इसके साथ ही इस स्पेशल विंटर ग्रेड डीजल की आपूर्ति जालंधर से भी की जाएगी।

 
यह भी जानिए

  1. लद्दाख में 7,500 मेगावाट की क्षमता वाला सौर ऊर्जा प्लांट लगाया जा रहा है।
  2. 9 मेगावाट की पनबिजली परियोजना शुरू हो चुकी है।
  3. पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए 5 टूरिज्म सर्किट विकसित और नए रुट खोले गए हैं।
  4. दूरदराज के क्षेत्र में बिजली पहुंचाने के लिए श्रीनगर-लेह ट्रांसमिशन का कार्य भी 2014-2019 की अवधि के दौरान पूरा किया गया।
Write a comment