1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. आज से दो दिन की हड़ताल पर बैंक कर्मचारी, लोग को करना पड़ रहा है परेशानी का सामना

आज से दो दिन की हड़ताल पर बैंक कर्मचारी, लोग को करना पड़ रहा है परेशानी का सामना

Bank Strike News: देश भर के सरकारी बैंकों में आज और कल कोई काम नहीं होगा। दरअसल सरकारी बैंकों के प्राइवेटाइजेशन के सरकार के फैसले के खिलाफ़ बैंक यूनियनों ने हड़ताल का ऐलान किया है।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Updated on: March 15, 2021 11:51 IST
आज से दो दिन की हड़ताल...- India TV Paisa
Photo:TWITTER.COM/RAJESHROXU

आज से दो दिन की हड़ताल पर बैंक कर्मचारी, करना पड़ सकता है मुश्किल का सामना

नई दिल्ली. देश भर के सरकारी बैंकों में आज और कल कोई काम नहीं हो रहा है। दरअसल सरकारी बैंकों के प्राइवेटाइजेशन के सरकार के फैसले के खिलाफ़ बैंक यूनियनों ने हड़ताल का ऐलान किया है। इसको लेकर पिछले एक महीने से करीब 10 लाख बैंक कर्मचारी  देशभर में विरोध-प्रदर्शन कर रहे हैं। अब आज और कल बैंकों की दो दिन की हड़ताल है। यूनाइटेड फोरम आफ बैंक यूनियंस (यूएफबीयू) के आह्वान पर सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की हड़ताल से सोमवार को देशभर में बैंकों में चेक क्लीयरेंस सहित अन्य बैंक सेवाओं पर असर दिखा।

पढ़ें- दिल्ली से गाजियाबाद, नोएडा जाने वालों के अच्छी खबर, आज से खोला गया NH-24 का एक हिस्सा

सार्वजनिक क्षेत्र के दो बैंकों के निजीकरण की सरकार की घोषणा के खिलाफ इस हड़ताल का आह्वान किया गया है। यूएफबीयू ने 15 और 16 मार्च को दो दिन की हड़ताल का आह्वान किया है। उसका दावा है कि 10 लाख बैंक कर्मचारी और अधिकारी इस हड़ताल में भाग लेंगे। यूएफबीयू बैंकों के अधिकारी और कर्मचारियों की नौ यूनियनों का एक संयुक्त मंच है।

पढ़ें- राजनीति से लेकर खेल की दुनिया तक, एक क्लिक पर पढ़िए पूरे दिन की सभी बड़ी खबरें

हालांकि, इस दौरान निजी क्षेत्र के बैंकों आईसीआईसीआई बैंक, एचडीएफसी बैंक और एक्सिस बैंक की शाखायें रोजमर्रा की तरह काम कर रही हैं। निजी क्षेत्र के बैंक इस हड़ताल में शामिल नहीं हैं। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने पिछले महीने पेश आम बजट में सार्वजनिक क्षेत्र के दो बैंकों के निजीकरण की घोषणा की है। सरकार के निजीकरण कार्यक्रम के तहत इसकी घोषणा की गई।

अभय चौटाला ने हरियाणा के डिप्टी सीएम के परिवार को दी बड़ी चुनौती, क्या करेंगे स्वीकार?

सरकार इससे पहले आईडीबीआई बैंक का निजीकरण कर चुकी है। आईडीबीआई बैंक की बहुलांश हिस्सेदारी बीमा क्षेत्र की कंपनी भारतीय जीवन बीमा निगम को बेच दी गई। इसके अलावा सरकार पिछले चार साल के दौरान 14 बैंकों का आपस में विलय भी कर चुकी है। आल इंडिया बैंक एम्पलायीज एसोसियेसन (एआईबीईए) के महासचिव सी एच वेंकटचलम के मुताबिक बैंकों के शाखा स्तर पर चेक क्लीयरेंस और सरकारी लेनदेन पर असर पड़ा है। इसके साथ ही उनहोंने कहा कि मुद्रा बाजार और शेयर बाजार पर भी इसका असर दिख सकता है।

2 फीट के व्यक्ति को है दुल्हन की तलाश, सीएम योगी को लिख चुके हैं पत्र, अब यूपी पुलिस से मांगी मदद

यूएफबीयू के बैनर तले आने वाली बैंक यूनियनों में आल इंडिया बैंक एम्पलायीज एसोसियेसन (एआईबीईए), आल इंडिया बेंक आफीसर्स कन्फेडरेशन (एआईबीओसी), नेशनल कन्फेडरेशन आफ बैंक एम्पलायीज (एनसीबीई), आल इंडिया बैंक आफीसर्स एसोसियेसन (एआईबीओए) और बैंक एम्पलायीज कन्फेडरेशन आफ इंडिया (बीईएफआई) के साथ ही इंडियन नेशनल बैंक एम्पलायीज फेडरेशन (आईएनबीईएफ), इंडियन नेशनल बैंक आफीसर्स कांग्रेस (आईएनबीओसी), नेशनल आगर्नाइजेशन आफ बैंक वर्कर्स (एनओबीडब्ल्यू) और नेशनल आगर्नाइजेशन आफ बैंक आफीसर्स (एनओबीओ) शामिल हैं।

कहां सेवाएं प्रभावित होंगी और कहां पर नहीं?

  1. बैंकों की ब्रांच में पैसा जमा करने, पैसे निकाले, चेक क्लियरेंस और लोन अप्रूवल जैसी सेवाएं प्रभावित  होंगी।
  2. एटीएम सेवाओं पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा।
  3. SBI सहित पब्लिक सेक्टर बैंकों में से कईयों ने अपने ग्राहकों को सूचित किया है कि उनके बैंक की ब्रांच में सेवाएं प्रभावित हो सकती हैं। 
  4. HDFC बैंक, ICICI बैंक, कोटक महिंद्रा बैंक, Axis बैंक और IndusInd बैंक जैसे प्राइवेट बैंकों में सेवाएं सामान्य रूप से चलेंगी।

Write a comment
X