1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. अमेरिका में मिलेगा ‘दशहरी’ और ‘लंगड़ा’ का स्वाद, घरेलू निर्यातक जल्द कर सकेंगे आम का निर्यात

अमेरिका में मिलेगा ‘दशहरी’ और ‘लंगड़ा’ का स्वाद, घरेलू निर्यातक जल्द कर सकेंगे आम का निर्यात

भारतीय आम फिलहाल अमेरिका को निर्यात योग्य नहीं है। लेकिन अब इसके निर्यात की संभावना बनी है

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: November 24, 2021 8:40 IST
अमेरिका में मिलेगा...- India TV Paisa

अमेरिका में मिलेगा ‘दशहरी’ और ‘लंगड़ा’ का स्वाद, घरेलू निर्यातक जल्द कर सकेंगे आम का निर्यात

Highlights

  • भारत ने पिछले दो साल में अमेरिका को आम का निर्यात नहीं किया है
  • कैलीफोर्निया की चेरी दिल्ली के सुपर मार्केट में उपलब्ध होगी
  • आम के अलावा अनार के निर्यातकों को भी मिलेगा फायदा

नयी दिल्ली। घरेलू निर्यातक जल्दी ही दशहरी और लंगड़ा जैसे आम का निर्यात अमेरिका को कर सकते हैं। अमेरिका ने भारत की निर्दिष्ट एजेंसियों के परीक्षण प्रमाणपत्र स्वीकार करने पर सहमति व्यक्त की है। एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने मंगलवार को यह कहा। भारत ने पिछले दो साल में अमेरिका को आम का निर्यात नहीं किया है। निर्धारित व्यवस्था के तहत फल और पौधों की सेहत की निगरानी से जुड़ा अमेरिकी निरीक्षक यहां आकर प्रक्रिया को देखता है। इसे निर्यात से पहले पूर्व मंजूरी प्रक्रिया कहते हैं। निरीक्षक 2020 और 2021 में नहीं आये। 

व्यापार नीति मंच की मंगलवार को हुई बैठक के दौरान वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल और अमेरिकी व्यापार प्रतिनिधि कैथरीन ताई ने भारत से आम, अनार के निर्यात और अमेरिका से चेरी तथा पशुओं के लिये चारे में उपयोग होने वाले ‘अल्फाल्फा हे’ के आयात के उपायों पर काम करने पर बनी सहमति का स्वागत किया। संयुक्त बयान के अनुसार भारत से आम और अनार के निर्यात को सुगम बनाने के लिये अमेरिका दोनों फलों के लिए पूर्व मंजूरी कार्यक्रम/ विकिरण के नियामकीय निरीक्षण के हस्तांतरण को अंतिम रूप देगा और भारतीय अधिकारियों को सौंपेगा। 

अधिकारी ने इसे स्पष्ट करते हुए कहा कि भारतीय आम फिलहाल अमेरिका को निर्यात योग्य नहीं है। लेकिन अब इसके निर्यात की संभावना बनी है क्योंकि दोनों पक्ष निर्यात को लेकर मुद्दों के समाधान पर सहमत हुए हैं। उसने कहा, ‘‘अब हमारे निरीक्षक आम का निरीक्षण करेंगे। हमारी निगरानी व्यवस्था को अमेरिका स्वीकार करेगा। इसका मतलब है कि अब हमारे आम को उनकी प्रयोगशालाओं में परीक्षण की जरूरत नहीं है बल्कि हमारे प्रयोगशाला प्रमाणपत्र को वे स्वीकार करेंगे। इस प्रक्रिया पर सहमति बनी है। 

अधिकारी ने कहा, ‘‘हम उनका प्रमाणपत्र स्वीकार करेंगे और वे (अमेरिकी निरीक्षक) प्रमाणन के लिये भारत नहीं आएंगे।’’ उसने कहा, ‘‘इसके आधार पर आप कह सकते हैं कि दशहरी और लंगड़ा जैसे आम की किस्में अब न्यूयॉर्क और दूसरे अमेरिकी शहरों में उपलब्ध होंगी। वहीं कैलीफोर्निया की चेरी दिल्ली के सुपर मार्केट में उपलब्ध होगी।’’ इस बारे में भारतीय निर्यात संगठनों के महासंघ (फियो) के महानिदेशक अजय सहाय ने कहा कि अमेरिका भारत के लिए एक प्रमुख बाजार है और इसकी पहुंच न केवल निर्यात को बढ़ावा देगी बल्कि आम उत्पादकों को उनकी उपज का अच्छा मूल्य प्राप्त करने में भी मदद करेगी।

Write a comment
bigg boss 15