1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. महंगे कच्‍चे तेल से राहत के लिए सरकार की योजना, पेट्रोल में 20% एथनॉल मिलाने का लक्ष्य 5 साल कम कर 2025 किया

महंगे कच्‍चे तेल से राहत के लिए सरकार की योजना, पेट्रोल में 20% एथनॉल मिलाने का लक्ष्य 5 साल कम कर 2025 किया

पिछले साल सरकार ने 2022 तक पेट्रोल में 10 प्रतिशत एथनॉल मिश्रण (90 प्रतिशत पेट्रोल के साथ 10 प्रतिशत एथनॉल का मिश्रण) और 2030 तक 20 प्रतिशत का लक्ष्य रखा था।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Updated on: January 28, 2021 11:06 IST
India brings forward target of 20% ethanol-blending in petrol by 5 yrs- India TV Paisa
Photo:FILE PHOTO

India brings forward target of 20% ethanol-blending in petrol by 5 yrs

नई दिल्‍ली। पेट्रोलियम मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने बुधवार को कहा कि भारत ने पेट्रोल में 20 प्रतिशत एथनॉल मिलाने का लक्ष्य हासिल करने की समय सीमा पांच साल कम कर 2025 कर दी गई है। मंहगे तेल आयात पर निर्भरता कम करने के इरादे से यह कदम उठाया गया है। उन्होंने एफआईपीआई (फेडरेशन ऑफ इंडियन पेट्रोलियम इंडस्ट्री) पुरस्कार समारोह में कहा कि वर्ष 2014 में पेट्रोल में एक प्रतिशत से भी कम एथनॉल का मिश्रण हो रहा था, जबकि लक्ष्य 5 प्रतिशत का था। पिछले चीनी वर्ष में यह अनुपात 8.5 प्रतिशत पर पहुंच गया है और अगले साल यह 10 प्रतिशत होगा।

पिछले साल सरकार ने 2022 तक पेट्रोल में 10 प्रतिशत एथनॉल मिश्रण (90 प्रतिशत पेट्रोल के साथ 10 प्रतिशत एथनॉल का मिश्रण) और 2030 तक 20 प्रतिशत का लक्ष्य रखा था। उन्होंने कहा कि लेकिन अब 20 प्रतिशत का लक्ष्य 2024-25 तक हासिल करने का लक्ष्य रखा गया है। प्रधान ने कहा कि अगर इस लक्ष्य को हासिल किया जाता है तो भारत पेट्रोल में एथनॉल मिलाने वाला ब्राजील के बाद दूसरा देश होगा। लेकिन निरपेक्ष रूप से हम ब्राजील से आगे होंगे।

यह भी पढ़ें: TCS बना दुनिया का तीसरा सबसे मूल्यवान IT ब्रांड, IBM से बस कुछ कदम है पीछे

भारत अपनी तेल जरूरतों को पूरा करने के लिए 83 प्रतिशत आयात पर निर्भर है। पेट्रोल में एथनॉल के मिश्रण से आयात में कमी की जा सकेगी। साथ ही एथनॉल कम प्रदूषण फैलाना वाला ईंधन है। अत: इससे कार्बन उत्सर्जन में कमी आएगी। प्रधान ने कहा कि 2025 तक 20 प्रतिशत एथनॉल मिलाने के लिए 1,000 करोड़ लीटर की जरूरत होगी। मौजूदा भाव पर यह 60,000 से 65,000 करोड़ रुपये का है।

यह भी पढ़े: भारत में अपना कारोबार बंद करने वाली Tiktok ने कमबैक के लिए बताई अपनी योजना....

पेट्रोल में एथनॉल का मिश्रण बढ़ाने से चीनी मिलों को आय का अतिरिक्त स्रोत प्राप्त होगा और उन्हें किसानों के बकाये के भुगतान में मदद मिलेगी। प्रधान ने कहा कि हमारे पास क्षमता है कि हम एथनॉल-पेट्रोल मिश्रण अनुपात में नंबर वन देश बन पाएं। सरकार भी देश की बढ़ती ऊर्जा जरूरतों को पूरा करने के लिए घरेलू तेल और गैस उत्‍पादन पर खासा ध्‍यान दे रही है। उन्‍होंने कहा कि भारत दुनिया में सबसे तेजी से विकसित होता ऊर्जा उपभोक्‍ता होगा और सरकार का लक्ष्‍य सभी को किफायती, आसान, टिकाऊ, दक्ष और सुरक्षित ऊर्जा उपलब्‍ध कराना है।  

यह भी पढ़ें: व्‍हीकल स्‍क्रैप पॉलिसी को मिली मंजूरी, जानिए कब से और किन वाहनों के लिए होगी लागू

यह भी पढ़ें: सरकार ने BSNL-MTNL के विलय को टाला, BSNL को दी बेचने की मंजूरी

Write a comment
Click Mania
bigg boss 15