Sunday, April 21, 2024
Advertisement
  1. Hindi News
  2. पैसा
  3. बिज़नेस
  4. क्या US Fed इस साल नहीं घटाएगा ब्याज दर? अर्थशास्त्रियों के अनुमान फेर रहे उम्मीदों पर पानी

Rate Cut Expectations : क्या US Fed इस साल नहीं घटाएगा ब्याज दर? अर्थशास्त्रियों के अनुमान फेर रहे उम्मीदों पर पानी

Rate Cut in US : पहले ऐसा माना जा रहा था कि अमेरिकी केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व मार्च से प्रमुख ब्याज दर में कटौती करना शुरू कर देगा। लेकिन अब ऐसे आसार नहीं लग रहे हैं। इकॉनोमी सुस्त नहीं हो रही है और महंगाई के संकेत देखने को मिल रहे हैं।

Pawan Jayaswal Written By: Pawan Jayaswal
Updated on: March 02, 2024 7:10 IST
यूएस फेड रेट कट- India TV Paisa
Photo:REUTERS यूएस फेड रेट कट

Rate Cut in US : भारत समेत दुनियाभर के उभरते बाजारों को इस समय अमेरिका में ब्याज दरों में गिरावट का बेसब्री से इंतजार है। भारतीय शेयर बाजार (Indian Stock Market) के निवेशक भी लंबे समय से यह आस लगाए बैठे हैं, खासकर आईटी कंपनियों के निवेशक। क्योंकि जब अमेरिका में प्रमुख ब्याज दर घटेगी, तो वहां के निवेशक उस सस्ती पूंजी को उभरते बाजारों में लगाएंगे। लेकिन कुछ अर्थशास्त्रियों की मानें, तो इन उम्मीदों पर पानी फिर सकता है। अमेरिका में 20 महीने से ज्यादा समय से महंगाई और ऊंची ब्याज दरों का सामना करने के बाद, अर्थशास्त्रियों और निवेशकों को लगा था कि इस साल अर्थव्यवस्था में सुधार होगा, जिससे फेडरल रिजर्व ब्याज दरों में कटौती कर पाएगा। हालांकि, ऐसा होता नजर नहीं आ रहा है।

मार्च में रेट कट का था अनुमान

शुरुआत में अनुमान लगाया गया था कि इस साल मार्च से शुरू होकर छह बार ब्याज दरों में कटौती होगी, लेकिन अब यह संभव नहीं लगता। यूएस फेड (US Fed) के चेयरमैन जेरोम पॉवेल (Jerome Powell) ने जनवरी की बैठक में कहा था, "मुझे नहीं लगता कि मार्च की बैठक तक कमेटी इतना भरोसा कर पाएगी कि मार्च में ही दरों में कटौती की जाए।" अब कुछ अर्थशास्त्रियों का मानना है कि इस साल ब्याज दरों में बिल्कुल भी कटौती नहीं होगी।

"इस साल रेट कट नहीं करेगा फेड"

अपोलो ग्लोबल मैनेजमेंट के मुख्य अर्थशास्त्री टॉर्स्टन स्लोक ने शुक्रवार को निवेशकों के लिए लिखे नोट में कहा कि अर्थव्यवस्था धीमी नहीं हो रही है और मुद्रास्फीति के कुछ आंशिक संकेत बढ़ रहे हैं। उन्होंने आगे कहा, "इस साल फेड दरों में कटौती नहीं करेगा और दरें लंबे समय तक ऊंची बनी रहेंगी।" अमेरिकी लोग महंगाई से जूझ रहे हैं, खासकर किराए, खाने का सामान और पेट्रोल जैसी जरूरी चीजों के दाम आसमान छू रहे हैं। दिसंबर और जनवरी के बीच खाने के सामान की कीमतों में 0.4% की बढ़ोतरी हुई, जो एक साल में सबसे ज्यादा मासिक बढ़ोतरी है।

ग्रोथ रेट के साथ बढ़ेगी महंगाई

एसएंडपी 500 ग्लोबल रेटिंग्स के अर्थशास्त्रियों का अब अनुमान है कि 2024 में अमेरिकी वास्तविक सकल घरेलू उत्पाद में 2.4% की ग्रोथ होगी, जो नवंबर में उनके 1.5% के पूर्वानुमान से अधिक है। श्रम बाजार अभी भी अविश्वसनीय रूप से लचीला बना हुआ है, बेरोजगारी ऐतिहासिक रूप से निम्न स्तर पर है और मजदूरी मुद्रास्फीति ऊंची बनी हुई है। लेकिन अर्थव्यवस्था के विस्तार से मुद्रास्फीति की दर भी बढ़ सकती है। हाल के आंकड़ों से पता चलता है कि फेड का पसंदीदा मुद्रास्फीति माप जनवरी में भी केंद्रीय बैंक के लक्ष्य से ऊपर बना हुआ था। हाल के राष्ट्रीय स्वतंत्र व्यापार संघ के सर्वे के अनुसार, महंगाई कम नहीं हो रही है, ऐसे ही कुछ संकेत और भी मिल रहे हैं। छोटे व्यवसायों को जल्द ही कीमतें बढ़ने की उम्मीद है। हाल के आंकड़ों के अनुसार, मैन्युफैक्चरिंग और सर्विस कंपनियों द्वारा भुगतान की जाने वाली कीमतें भी बढ़ रही हैं।

उच्च बनी रह सकती हैं ब्याज दरें

स्लोक ने कहा, "नतीजतन, फेड 2024 का ज्यादातर समय महंगाई से लड़ने में लगाएगा।" इसका मतलब है कि ब्याज दरें ऊंची रहेंगी। सीएनएन की एक रिपोर्ट के अनुसार, नेवी फेडरल क्रेडिट यूनियन के कॉर्पोरेट अर्थशास्त्री रॉबर्ट फ्रिक ने बताया, "खाद्य पदार्थों के दाम लगातार बढ़ रहे हैं और यह लोगों के लिए बहुत मुश्किल है।" एक तरह से, ब्याज दरों में कटौती की उम्मीदों ने फेड के प्रयासों को ही कमजोर कर दिया है। ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि निवेशकों और अर्थशास्त्रियों ने आसान वित्तीय स्थितियों को ध्यान में रखते हुए 2024 के लिए अमेरिकी विकास की उम्मीदों में उछाल देखा।

निवेशकों को है उम्मीद

फिर भी, सीएमई फेडवॉच टूल के अनुसार, लगभग आधे निवेशक फेड की जून की बैठक में ब्याज दर में कटौती की उम्मीद कर रहे हैं। अधिकांश निवेशकों को जुलाई तक कटौती की उम्मीद है। अगले हफ्ते में पॉवेल बुधवार और गुरुवार को क्रमशः हाउस फाइनेंशियल सर्विसेज कमेटी और सीनेट बैंकिंग कमेटी के सामने अपनी बात रखेंगे। इस दौरान वह ब्याज दर में कटौती की उम्मीदों के बारे में संकेत देंगे, जिन पर निवेशकों की नजर बनी हुई है।

Latest Business News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Business News in Hindi के लिए क्लिक करें पैसा सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement