1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. विदेश
  4. यूरोप
  5. यूक्रेन छोड़कर भाग रहे 2,200 लोग हिरासत में लिए गए, युद्ध की मार झेल रहे देश में लगा है मार्शल लॉ

Ukraine News: यूक्रेन छोड़कर भाग रहे हिरासत में लिए गए 2,200 लोग, युद्ध की मार झेल रहे देश में लगा है मार्शल लॉ

यूक्रेन की बॉर्डर गार्ड एजेंसी ने बताया कि उसने युद्ध लड़ने की उम्र के 2,200 यूक्रेनियाई पुरुषों को उस समय हिरासत में ले लिया जब वे मार्शल लॉ का उल्लंघन कर देश छोड़कर जाने का प्रयास कर रहे थे।

IndiaTV Hindi Desk Edited by: IndiaTV Hindi Desk
Published on: April 10, 2022 21:04 IST
2200 people leaving Ukraine were detained at borders- India TV Hindi
Image Source : PTI 2200 people leaving Ukraine were detained at borders

Highlights

  • युद्ध लड़ने की उम्र के लोग भाग रहे थे यूक्रेन छोड़कर
  • सीमा से 2,200 यूक्रेनियाई पुरुषों को हिरासत में लिया गया
  • सीमा रक्षकों को रिश्वत देने की भी कर रहे थे कोशिश

कीव: यूक्रेन की बॉर्डर गार्ड एजेंसी ने बताया कि उसने युद्ध लड़ने की उम्र के 2,200 यूक्रेनियाई पुरुषों को उस समय हिरासत में ले लिया जब वे मार्शल लॉ का उल्लंघन कर देश छोड़कर जाने का प्रयास कर रहे थे। एजेंसी ने रविवार को बताया कि इनमें से कुछ ने फर्जी दस्तावेज का इस्तेमाल किया था जबकि अन्य ने देश छोड़ने के लिए सीमा रक्षकों को रिश्वत देने की कोशिश की थी। एजेंसी ने बताया कि कार्पैथियन पहाड़ी खराब मौसम में पार करने के दौरान कुछ लोगों की मौत हुई है। लेकिन उनकी संख्या नहीं बताई गई है। 

गौरतलब है कि यूक्रेन में लगे मार्शल लॉ के तहत 18 से 60 साल उम्र के यूक्रेनियाई पुरुषों के देश छोड़ने पर रोक लगाई है और उन्हें युद्ध में लड़ने के लिए बुलाया जा सकता है। वहीं इस बीच अमेरिका के एक अधिकारी ने रविवार को दावा किया कि सैन्य कार्रवाई के उपरांत मिले झटके के बाद रूस ने यूक्रेन युद्ध के लिए नया कमांडर नियुक्त किया है। अमेरिकी अधिकारी ने पहचान गुप्त रखते हुए बताया कि रूस ने अपने सबसे अनुभवी सैन्य अधिकारी जनरल एलेक्सजेंडर दिवोर्निकोव (60) को यूक्रेन युद्ध का नया कमांडर नियुक्त किया है।

उन्होंने बताया कि दिवोर्निकोव का सीरिया और अन्य युद्ध स्थलों पर आम नागरिकों के खिलाफ क्रूरता का रिकॉर्ड है। वहीं, व्हाइट हाउस के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जैक सुलिवन ने कहा, ‘‘किसी भी जनरल की नियुक्ति से इस तथ्य को मिटाया नहीं जा सकता कि रूस पहले ही यूक्रेन में रणनीतिक असफलता का सामना कर चुका है।’’ सुलिवन ने सीएनएन के ‘स्टेट ऑफ द यूनियन’ कार्यक्रम में कहा, ‘‘यह जनरल यूक्रेन की असैन्य नागरिकों के खिलाफ अपराध और क्रूरता का महज एक और अध्याय लिखेगा।’’