1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. एजुकेशन
  4. CBSE ने कोर्स से इस्लामी साम्राज्य और शीतयुद्ध पर चैप्टर हटाया, फैज़ की नज़्मों को भी किया सिलेबस से बाहर

CBSE ने कोर्स से इस्लामी साम्राज्य और शीतयुद्ध पर चैप्टर हटाया, फैज़ की नज़्मों को भी किया सिलेबस से बाहर

कक्षा 10 के सिलेबस में 'खाद्य सुरक्षा' से संबंधित चैप्टर से ‘कृषि पर वैश्वीकरण का प्रभाव’ विषय को हटा दिया गया है। इसके साथ ही 'धर्म, सांप्रदायिकता और राजनीति-सांप्रदायिकता धर्मनिरपेक्ष राज्य' खंड से फैज अहमद फैज की दो उर्दू कविताओं के अनुवादित अंश को भी इस साल बाहर कर दिया गया है।   

IndiaTV Hindi Desk Edited by: IndiaTV Hindi Desk
Published on: April 23, 2022 17:28 IST
CBSE- India TV Hindi
Image Source : FILE PHOTO CBSE

Highlights

  • CBSE ने कोर्स से इस्लामी साम्राज्य और शीतयुद्ध पर चैप्टर हटाया
  • 11 और 12 के इतिहास एवं राजनीति विज्ञान के सिलेबस से हटाए चैप्टर
  • फैज अहमद फैज की दो उर्दू कविताओं के अनुवादित अंश को सिलेबस से बाहर किया

नई दिल्ली: केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने कक्षा 11 और 12 के इतिहास एवं राजनीति विज्ञान के सिलेबस से गुटनिरपेक्ष आंदोलन, शीतयुद्ध के दौर, अफ्रीकी-एशियाई क्षेत्रों में इस्लामी साम्राज्य के उदय, मुगल दरबारों के इतिहास और औद्योगिक क्रांति से संबंधित चैप्टर हटा दिए हैं। 

इसी तरह, कक्षा 10 के सिलेबस में 'खाद्य सुरक्षा' से संबंधित चैप्टर से ‘कृषि पर वैश्वीकरण का प्रभाव’ विषय को हटा दिया गया है। इसके साथ ही 'धर्म, सांप्रदायिकता और राजनीति-सांप्रदायिकता धर्मनिरपेक्ष राज्य' खंड से फैज अहमद फैज की दो उर्दू कविताओं के अनुवादित अंश को भी इस साल बाहर कर दिया गया है। 

सीबीएसई ने सिलेबस से 'लोकतंत्र और विविधता' संबंधी चैप्टर भी हटा दिए हैं। विषयों या अध्यायों को हटाए जाने से संबंधित तर्क के बारे में पूछे जाने पर अधिकारियों ने कहा कि बदलाव सिलेबस को और भी ज्यादा विवेकशील बनाए जाने का हिस्सा है और राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) की सिफारिशों के तहत है।

बोर्ड के एक सीनियर अधिकारी ने बताया कि सीबीएसई कक्षा नौ से 12 के लिए सालाना सिलेबस देता है, जिसमें एजुकेशनल मैटेरियल समेत कई चीजें होती हैं। 

हालांकि, यह पहली बार नहीं है जब बोर्ड ने कुछ ऐसे चैप्टरों को हटाया है जो दशकों से सिलेबस का हिस्सा रहे हैं।  पहले भी ऐसा किया जा चुका है। (इनपुट: एजेंसी)

erussia-ukraine-news