1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. हेल्थ
  4. बच्चों को भी प्रभावित कर रहा है लॉन्ग कोविड, रिसर्च में आया सामने

बच्चों को भी प्रभावित कर रहा है लॉन्ग कोविड, रिसर्च में आया सामने

हाल में आई स्टडी के अनुसार कोरोना से ठीक हो चुके बच्चे लॉन्ग कोविड से भी शिकार हो रहे हैं।

India TV Lifestyle Desk India TV Lifestyle Desk
Updated on: February 23, 2021 13:29 IST
बच्चों को भी प्रभावित कर रहा है लॉन्ग कोविड, रिसर्च में आया सामने- India TV Hindi
Image Source : PEXEL बच्चों को भी प्रभावित कर रहा है लॉन्ग कोविड, रिसर्च में आया सामने

दुनियाभर में कोरोना वायरस ठीक होने की संख्या तेजी से बढ़ रही हैं। वहीं कोरोना वायरस के संक्रमण से ठीक हो चुके मरीजों में लंबे समय तक कोविड 19 के प्रभाव देखने को मिल रहे हैं। अधिकतर मरीजों में सुस्त दर्द, भ्रम और पुरानी स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। अभी लगातार डॉक्टर्स इसको लेकर अध्ययन कर रहे हैं। लेकिन इससे बड़ी हैरान करने वाली ये बात सामने आ रही है कि 6 से कम उम्र के बच्चे लॉन्ग कोविड से जुड़े कई जोखिमों का शिकार हो रहे हैं।

लॉन्ग कोविड को उन लक्षणों के एक मेजबान के रूप में जाना जाता है जो संक्रमण से लड़ने के बाद  कोविड रोगियों के हफ्तों या महीनों के बाद भी ठीक हो जाते हैं।

52 की उम्र में भी 30 की नजर आती हैं भाग्यश्री, इन वीडियो में छिपा है फिटनेस का राज़

क्लासिक कोविड लक्षणों के कारण लोगों को खांसी, बुखार, सांस फूलना, भ्रम और कई मामलों में हार्ट बीच बढ़ जाना, सांस की समस्या के साथ न्यूरोलॉजिकल जैसे लक्षणों का सामना करना पड़ रहा है।  वहीं बच्चों की बात करे तो वह और भी ज्यादा खतरनाक हो सकते हैं। डॉक्टरों के अनुसार जो बच्चे एसिम्प्टोमैटिक के शिकार हो रहे हैं वह जल्दी से ठीक हो रहे हैं। लेकिन पैरैंट्स और डॉक्टर्स बच्चों में लॉन्ग कोविड साइड इफेक्ट में कई ऐसी दुर्लभ बीमारियां हो रही हैं। जिसके बारे में पैरैंट्स और डॉक्टर समझ नहीं पा रहे हैं। 

बच्चों को मल्टीसिस्टम इंफ्लेमेटरी सिंड्रोम की समस्या का सामना करना पड़ रहा है। जिसके कारण हार्ट, लंग्स, लिवर, दिमार, स्किन सहित शरीर के कई हिस्सों में सूजन पैदा हो रही हैं। 

हाई बीपी के कारण हो सकता है हार्ट अटैक और ब्रेन हैमरेज, स्वामी रामदेव से जानिए हाइपरटेंशन का इलाज

हाल में ही लीसेस्टर विश्वविद्यालय और नेशनल स्टैटिस्टिक्स कार्यालय द्वारा 129 बच्चों में अध्ययन किया  था। यह बच्चे वह लोग थे जिनमें कोरोना के लक्षण थे और जो बच्चे इसके कारण अस्पताल में एडमिट थे। इस पूरे अध्ययन को मेडरिक्सिव  नामक एक पत्रिका में प्रकाशित किया हया है। 

इस रिसर्च में सामने आया कि ठीक होने के बाद तीन बच्चों में से एक में कोरोना वायरस के 1-2 लक्षण दिखाई देते हैं, जबकि 5 में से एक में कोविड के 2 से अधिक लक्षण दिखाई दे रहे हैं। इस रिसर्च में पाया गया कि 18.6 फीसदी बच्चों को सोने में कठिनाई की शिकायत थी और 14.7 फीसदी बच्चों ने सीने में दर्द सहित सांस संबंधी समस्याएं होने की शिकायत थी। वहीं कई बच्चों में बंद नाक, थकान, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द जैसे लक्षण दिखे। वहीं 10 फीसदी बच्चों को ध्यान केंद्रित करने में समस्या हो रही हैं। 

वहीं यूके में दूसरी स्टडी हुई जिसमें पाया गया कि कोरोना वायरस से ठीक हो चुके लोगों में पैरालिसिस या एक्यूट सिरदर्द का सामना करना पड़ रहा है।

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। बच्चों को भी प्रभावित कर रहा है लॉन्ग कोविड, रिसर्च में आया सामने News in Hindi के लिए क्लिक करें हेल्थ सेक्‍शन
Write a comment
womens-day-2021