1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. जैसे-जैसे भारत और अधिक लोकतांत्रिक होता जाएगा, लोकतंत्र ज्यादा भारतीय होता जाएगा: जयशंकर

जैसे-जैसे भारत और अधिक लोकतांत्रिक होता जाएगा, लोकतंत्र ज्यादा भारतीय होता जाएगा: जयशंकर

जयशंकर ने कहा कि देश का बाहरी दृष्टिकोण अनिवार्य रूप से इसके आंतरिक मूल्यों के साथ चलता है और केवल यह उम्मीद की जानी चाहिए कि एक राष्ट्र और उसके नागरिक समान विचारधारा वाले लोगों के साथ सहज होंगे।

Bhasha Bhasha
Published on: September 15, 2021 22:45 IST
As India becomes ever more democratic, democracy will become ever more Indian: Jaishankar- India TV Hindi
Image Source : PTI जयशंकर ने कहा कि जैसे-जैसे भारत और अधिक लोकतांत्रिक होता जाएगा, लोकतंत्र ज्यादा भारतीय होता जाएगा।

नयी दिल्ली: विदेश मंत्री एस जयशंकर ने बुधवार को कहा कि जैसे-जैसे भारत आगे बढ़ेगा और इसकी क्षमताएं बढ़ेंगी, यह स्वाभाविक रूप से दुनिया के लिए और अधिक योगदान देगा और वैश्विक मंच पर फिर से उभरने वाला एक सभ्यतागत राष्ट्र स्पष्ट रूप से अपनी छाप छोड़ेगा। भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद द्वारा आयोजित एक अंतरराष्ट्रीय वेबिनार 75 का स्वतंत्र भारत: लोकतांत्रिक परंपराएं को संबोधित करते हुए जयशंकर ने कहा कि जैसे-जैसे भारत और अधिक लोकतांत्रिक होगा, लोकतंत्र भी अपनी संवेदनशीलता और बनावट दोनों में और अधिक भारतीय बन जाएगा।

जयशंकर ने कहा कि चाहे शौचालय, बिजली और पाइप से पानी मुहैया कराने की बात हो या बैंक खातों के लगभग सार्वभौमिकरण की बात हो, लोकतांत्रिक साधन अब लोकतांत्रिक उद्देश्यों को साकार कर रहे हैं। उन्होंने कहा, “मतदान की समानता अनिवार्य रूप से मानवीय गरिमा की समानता के साथ सह-अस्तित्व में होनी चाहिए। एक के बिना दूसरा व्यर्थ है। उस ढांचे में देखा गया है, भारत की उपलब्धियां इसकी लोकतांत्रिक साख को मान्यता प्रदान कर रही हैं।”

जयशंकर ने कहा कि देश का बाहरी दृष्टिकोण अनिवार्य रूप से इसके आंतरिक मूल्यों के साथ चलता है और केवल यह उम्मीद की जानी चाहिए कि एक राष्ट्र और उसके नागरिक समान विचारधारा वाले लोगों के साथ सहज होंगे। उन्होंने कहा कि यह समान विचारधारा वाले लोगों को वैश्विक मुद्दों पर मिलकर काम करने के लिए प्रोत्साहित करता है।

जयशंकर ने कहा, ‘‘यह मानदंडों और नियमों द्वारा शासित एक वैश्विक समानता के लिए, विविधता और बहु-ध्रुवीयता को समायोजित करने वाली राजनीतिक और सांस्कृतिक व्यवस्था के लिए और व्यापार, बुनियादी ढांचे तथा संपर्क परियोजनाओं के लिए पारदर्शिता, स्थिरता और मेजबान समुदायों में भारत की इच्छा के संदर्भ की व्याख्या करता है।"

उन्होंने कहा, “जैसे-जैसे भारत आगे बढ़ेगा और इसकी क्षमता और सामर्थ्य बढ़ेगा, वह स्वाभाविक रूप से दुनिया के लिए और अधिक योगदान देगा। एक सभ्यतागत राष्ट्र जो विश्व मंच पर फिर से उभरता है और अपनी विरासत को आकर्षित करता है, वह स्पष्ट रूप से अपनी छाप बनाएगा।” 

मंत्री ने कहा, “वास्तव में एक लोकतांत्रिक दुनिया में, ऐसा भारत ज्यादा पश्चिम के बजाय अधिक भारत होगा। इसका विकासात्मक खाका और व्यापक जिम्मेदारियों को अपनाना इसके मॉडल की सुस्पष्टता की तरफ और भी अधिक ध्यान आकर्षित करेगा।” 

उन्होंने जोर देकर कहा कि ग्लोबल साउथ के एक पूर्ण सदस्य के रूप में, एक ऐसी प्रणाली के रूप में जो पश्चिम के साथ काफी कुछ साझा करती है, और एक विशिष्ट मिजाज वाले व्यवस्थित समाज के रूप में भारत की यात्रा निश्चित रूप से वैश्विक यात्रा को प्रभावित करेगी। 

जयशंकर ने कहा कि यह उचित है कि विश्व के सबसे बड़े और सबसे ऊर्जावान लोकतंत्र में अंतरराष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस विशेष उत्साह के साथ मनाया जाए। उन्होंने कहा, “आखिरकार, भारत के लिए लोकतंत्र केवल एक विकल्प नहीं था जिसे हमने 1947 में चुना था, बल्कि उससे काफी पहले जीवन जीने का एक तरीका था। कुछ समाज बहुलवाद की तुलना कर सकते हैं जो हमारी ऐतिहासिक विशेषता रही है।”

Click Mania
Modi Us Visit 2021