1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राजनीति
  5. केरल: 12 घंटे के भीतर दो नेताओं की हत्या, अलाप्पुझा जिले में धारा 144 लागू; जानें- क्या है पूरा मामला

केरल: 12 घंटे के भीतर दो नेताओं की हत्या, अलाप्पुझा जिले में धारा 144 लागू; जानें- क्या है पूरा मामला

जिले के अधिकारियों ने बताया है कि एसडीपीआई के प्रदेश सचिव की हत्या के बाद करीब 12 घंटे बाद भाजपा के एक नेता की हत्या कर दी गई।

Neeraj Jha Edited by: Neeraj Jha
Updated on: December 19, 2021 12:09 IST
केरल में दो नेताओं की...- India TV Hindi
Image Source : ANI केरल में दो नेताओं की हत्या, सुलगी राजनीति

Highlights

  • एसडीपीआई के प्रदेश सचिव की हत्या के 12 घंटे बाद भाजपा नेता की हत्या
  • जिले में धारा 144 लागू
  • जानें- पूरा मामला

नयी दिल्ली: केरल के तटीय अलप्पुझा जिले में दो पार्टी के नेताओं की हत्या कर दी गई है। इनमें एक सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (एसडीपीआई) के नेता हैं जबकि दूसरे भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता हैं। इन घटनाओं के बाद रविवार को पुलिस ने क्षेत्र में धारा 144 लागू कर दी है। 

जिले के अधिकारियों ने बताया है कि एसडीपीआई के प्रदेश सचिव की हत्या के बाद करीब 12 घंटे बाद भाजपा के एक नेता की हत्या कर दी गई। इसके बाद रविवार को पूरे अलाप्पुझा जिले में दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) की धारा 144 के तहत प्रतिबंध लागू कर दिया गया है। केरल में एसडीपीआई के प्रदेश सचिव के एस शान पर शनिवार की रात घर लौटते समय बेरहमी से हमला किया गया था। 

एस शान की पार्टी एसडीपीआई ने आरोप लगाया है कि घटना के पीछे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) का हाथ है। पुलिस ने बताया है कि शान ने आधी रात के करीब कोच्चि के एक अस्पताल में दम तोड़ दिया।

पुलिस ने बताया है कि इसके कुछ घंटों बाद रविवार सुबह कुछ हमलावरों ने भाजपा के अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) मोर्चा के प्रदेश सचिव रंजीत श्रीनिवास के घर में घुसकर उनकी हत्या कर दी। 

पुलिस को संदेह है कि शान की हत्या के प्रतिशोध में श्रीनिवास पर घातक हमला किया गया है। श्रीनिवास भाजपा प्रदेश समिति के सदस्य भी थे। पुलिस ने बताया है कि एसडीपीआई नेता जब घर लौट रहे थे तभी एक कार ने उनकी बाइक को टक्कर मार दी। टक्कर के बाद जैसे ही वो गिरे हमलावरों ने उनके साथ मारपीट की जिससे उनकी मौत हो गई। भाजपा नेता की हत्या के बाद क्षेत्र में तनाव को देखते हुए  धारा 144 लागू कर दिया गया है।

इनपुट- भाषा

erussia-ukraine-news