1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. उत्तर प्रदेश
  5. आजमगढ़ लोकसभा उपचुनाव के लिए वोटिंग जारी, सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त

Azamgarh Lok Sabha By-Election : आजमगढ़ लोकसभा उपचुनाव के लिए वोटिंग जारी, सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त

Azamgarh Lok Sabha By-Election: मतदान केंद्रों पर सुबह से ही मतदाताओं की लंबी कतार नजर आ रही है। यह सीट समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव के इस्तीफे के बाद खाली हुई है।

Niraj Kumar	Written by: Niraj Kumar @nirajkavikumar1
Updated on: June 23, 2022 12:18 IST
Azamgarh Lok Sabha By-Election- India TV Hindi
Image Source : ANI/TWITTER Azamgarh Lok Sabha By-Election

Highlights

  • बीजेपी से भोजपुरी फिल्म स्टार निरहुआ लड़ रहे चुनाव
  • सपा की ओर से धर्मेंद्र यादव चुनाव मैदान में आजमा रहे किस्मत

Azamgarh Lok Sabha By-Election : उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ (Azamgarh) में लोकसभा उपचुनाव (Lok Sabha By-Election) के लिए आज सुबह सात बजे से वोटिंग जारी है। जानकारी के मुताबिक सुबह 11 बजे तक आजमगढ़ में 19.84 प्रतिशत वोटिंग हुई थी। मतदान केंद्रों पर सुबह से ही मतदाताओं की लंबी कतार नजर आ रही है। यह सीट समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) के इस्तीफे के बाद खाली हुई है। भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने इस सीट से भोजपुरी फिल्म स्टार दिनेश लाल यादव निरहुआ को टिकट दिया है। उनहोंने पिछले लोकसभा चुनाव में भी अखिलेश यादव को टक्कर दी थी लेकिन वे चुनाव हार गए थे। 

सपा से धर्मेंद्र यादव लड़ रहे चुनाव

इस चुनाव में समाजवादी पार्टी ने धर्मेंद्र यादव को टिकट दिया है जबकि बसपा से शाह आलम उर्फ गुड्डू जमाली मैदान में हैं। हाल के विधानसभा चुनाव में आजमगढ़ की सभी चार विधानसभा सीटों- मुबारकपुर, सागदी, गोपालपुर और मेहनगर पर सपा ने जीत हासिल की थी। 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान सपा ने बसपा के गठबंधन में चुनाव लड़ा था और अखिलेश यादव इस सीट पर चुनाव जीते थे। उस चुनाव में अखिलेश यादव को 6. 21 लाख मत मिले थे, जबकि भाजपा के दिनेश लाल यादव उर्फ निरहुआ को 3.61 लाख वोट मिले थे। 

 शांतिपूर्ण तरीके से चल रहा मतदान

चुनाव आयोग से प्राप्त जानकारी के मुताबिक सुबह 9 बजे तक आजमगढ़ में 9.21 फीसदी वोटिंग हुई थी। यहां वोटिंग शांतिपूर्ण तरीके से चल रही है। किसी तरह की अप्रिय घटना की कोई खबर नहीं है। आजमगढ़ सीट से अखिलेश यादव से पहले उनके पिता मुलायम सिंह यादव सांसद थे। इसलिये इस सीट का उपचुनाव समाजवादी पार्टी के लिये प्रतिष्ठा का सवाल बन गया है। वहीं भारतीय जनता पार्टी की ओर से निरहुआ दूसरी बार चुनाव लड़ रहे हैं। उनके लिए भी यह चुनाव प्रतिष्ठा का सवाल बन चुका है।