1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. Independence Day: आजादी से अब तक सोने ने दिया 56,000 फीसदी का बंपर रिटर्न, जानिए 75 साल पहले 10 ग्राम सोने का रेट

Independence Day: आजादी से अब तक सोने ने दिया 56 हजार फीसदी का बंपर रिटर्न, जानिए 75 साल पहले 10 ग्राम सोने का क्या था भाव

Independence Day: दुनिया के सबसे बड़े सोने (Gold) के आयातकों में से एक भारत है। आज हम इन 75 सालों में भारत के विकास के साथ सोने के दाम में कितनी वृद्धि हुई उसे समझने की कोशिश करेंगे।

Vikash Tiwary Edited By: Vikash Tiwary @ivikashtiwary
Updated on: August 15, 2022 12:11 IST
आजादी से अब तक सोने ने...- India TV Hindi News
Photo:FILE आजादी से अब तक सोने ने दिया 56,000 फीसदी का रिटर्न

Highlights

  • 1942 में प्रति 10 ग्राम सोने की कीमत 44 रुपये थी
  • आजादी के समय 88.62 रुपये प्रति 10 ग्राम थी सोने की कीमत
  • 56 हजार फीसदी से अधिक का रिटर्न दिया सोने ने पिछले 75 साल में

Independence Day: भारत (India) दुनिया का सबसे बड़ा सोने (Gold) का आयातक देश है। आज भारत अपनी स्वतंत्रता का 75वीं वर्षगांठ मना रहा है। इस मौके पर हम आपको सोने के उस इतिहास से रूबरू करा रहे हैं, जिससे शायद आप वाकिफ नहीं होंगे। क्या आप जानते हैं कि आजादी के समय देश में सोने की कीमत प्रति 10 ग्राम क्या थी? अगर नहीं जानते हैं तो चौंक जाएंगे। उस समय प्रति दस ग्राम सोने की कीमत 88 रुपये हुआ करती थी। जो आज 50 हजार के पार चली गई है। तो आइए आज भारत के उस इतिहास को जानते हैं। 

1942 में प्रति 10 ग्राम सोने की कीमत 44 रुपये

1942 में जब भारत छोड़ो आंदोलन अपने चरम पर था। 10 ग्राम सोने की कीमत 44 रुपये थी। अगले पांच वर्षों के भीतर 1947 में यह कीमत दोगुनी हो गई थी। समय के साथ सोने का मूल्य एक मूल्यवान संपत्ति के रूप में बढ़ा है। सोना सबसे प्रतिष्ठित निवेश विकल्पों में से एक है। ऐसा माना जाता है कि सोना के पास वो क्षमता होती है जो महंगाई को मात दे सकती है।

आजादी के समय 88.62 रुपये प्रति 10 ग्राम थी सोने की कीमत

इंडियन पोस्ट गोल्ड कॉइन सर्विसेज से मिली जानकारी के अनुसार, आजादी के समय यह 88.62 रुपये था। आजादी के सात दशकों के बाद 10 ग्राम सोने की कीमत में 300 गुना से अधिक की वृद्धि हुई, जिसकी कीमत ₹28,500 (जुलाई के अंत तक) लगभग हो गई। इसे आपको और आसान भाषा में बताएं तो इसकी कीमत इकोनॉमी क्लास की भारत से लंदन की फ्लाईट के बराबर थी।

56 हजार फीसदी से अधिक का रिटर्न

भारत को आजादी मिलने के साथ ही सोने की कीमतें भी बढ़ने लगी थी। 10 ग्राम सोने की कीमत 88 रुपये हुआ करती थी जब देश को आजादी मिली। सोने ने निवेशकों को 1950 और 1960 के बीच लगभग 12% का रिटर्न प्रदान किया। आज की तुलना में देखें तो सोने ने देश को 56 हजार फीसदी से अधिक का रिटर्न दिया है। बता दें, हमने रिटर्न को कैलकुलेट करने के लिए सोने का भाव 50 हजार रुपये लिया है।

कुछ इस तरह बढ़ी कीमतें

1970 में सोने की औसत कीमत प्रति 10 ग्राम ₹184, 1980 में ₹1,330 और 1990 में ₹3,200 तक पहुंच गई। 2000 से 2010 के बीच, सोने की कीमत ₹4,400 से ₹18,500 तक पहुंच गई। एचडीएफसी सिक्योरिटीज के अनुसार, 14 अगस्त 2022 को नई दिल्ली में सोने की कीमत 90 रुपये घटकर 52,915 रुपये प्रति 10 ग्राम रह गई। पिछले कारोबार में कीमती धातु ₹53,005 प्रति 10 ग्राम पर बंद हुई थी। अंतरराष्ट्रीय बाजार में दोनों सोना 1,789 डॉलर प्रति ounce पर कारोबार कर रहा था।

Latest Business News

Write a comment
navratri-2022