1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. कब छोड़ देनी चाहिए आपको कंपनी, ये पांच इंडिकेटर्स निर्णय लेने में करेंगे आपकी मदद

कब छोड़ देनी चाहिए आपको कंपनी, ये पांच इंडिकेटर्स निर्णय लेने में करेंगे आपकी मदद

Job Switch: एक प्रोफेशनल जॉब होल्डर (Job Holder) होने के नाते आपको सही समय पर कुछ बातों को ध्यान में रखते हुए नौकरी बदलनी होती है। वो कौन सी बातें हैं जिसका ख्याल रखते हुए अगर जॉब चेंज किया जाए तो करियर में ग्रोथ की संभावना ज्यादा होगी। ऐसे ही पांच प्वॉइंट पर आज हम बात करने वाले हैं।

Vikash Tiwary Written By: Vikash Tiwary @ivikashtiwary
Updated on: August 21, 2022 15:57 IST
कब छोड़ देनी चाहिए...- India TV Hindi
Photo:INDIA TV कब छोड़ देनी चाहिए आपको कंपनी

Highlights

  • जब आप Overqualified हो जाएं
  • आपके ऑफिस में ग्रोथ की संभावनाएं दिखनी बंद हो जाए
  • जब डूबने के कगार पर आ जाए कंपनी

Job Switch: आज के समय में हर कोई अच्छी नौकरी (Job) करने की तलाश में लगा हुआ है, जहां मोटे पैकेज के साथ सुविधाएं भी मिल रही हो। प्राइवेट सेक्टर (Private Sector) में काम करने वाले अधिकतर कर्मचारी बेहतर सैलरी के पीछे भाग रहे होते हैं, जो कि उनके करियर (Career) के लिए कई बार मुश्किल खड़ा कर देता है। एक प्रोफेशनल जॉब होल्डर (Job Holder) होने के नाते आपको सही समय पर कुछ बातों को ध्यान में रखते हुए नौकरी बदलनी होती है। वो कौन सी बातें हैं जिसका ख्याल रखते हुए अगर जॉब चेंज किया जाए तो करियर में ग्रोथ की संभावना ज्यादा होगी। ऐसे ही पांच प्वॉइंट पर आज हम बात करने वाले हैं।

जब आप Overqualified हो जाएं

शुरुआती दौर में अधिक जानकारी होने के बावजूद भी अगर एंट्री लेवल पोजिशन पर आपको काम करने का मौका मिलता है तो उस मौके को हाथ से जाने नहीं देना चाहिए, लेकिन एक बार जब आपके पास साल-दो साल का अनुभव हो जाए तो अपनी योग्यता के मुताबिक वाले पोजिशन के लिए कोशिश शुरु कर देनी चाहिए। इससे आपको करियर में एक्सप्लोर करने का मौका अधिक मिलता है। इतना ही नहीं बल्कि, जब आप एक कंपनी से दूसरे कंपनी में जाते हैं तो आपको नए लोग नई टेक्निक और ढेर सारी स्किल सीखने को मिलती है जो करियर में आगे काम आती है। 

आपके ऑफिस में ग्रोथ की संभावनाएं दिखनी बंद हो जाए

आमतौर पर लोगों के मन में ये सवाल आता है कि ये कैसे पता चलता है कि ABC नाम की कंपनी में कितना ग्रोथ है। ये उस आधार पर तय होता है कि आप जिस प्रोफाइल के लिए कंपनी ज्वॉइन कर रहे हैं उस पर आपको कुछ नया करने या सीखने को मिलता है या नहीं। आपको कंपनी नए आईडिया पर काम करने देती है या नहीं। कंपनी अपना कारोबार विस्तार करती है या नहीं, क्योंकि कंपनी अगर अपना विस्तार करती है तो आपको मौका मिलने की संभावना बढ़ जाती है। अगर आपको लग रहा है कि आपका कोई ग्रोथ नहीं हो रहा है तो नई नौकरी की तलाश शुरु कर दीजिए।

जब डूबने की कगार पर आ गई कंपनी

वित्तीय संकट से जब कोई कंपनी गुजरने लगती है तो उससे कंपनी के ग्रोथ के साथ-साथ वहां काम करने वाले कर्मचारियों के ग्रोथ पर भी पड़ता है। उस दौरान कंपनी छंटनी भी शुरु कर देती है। अगर आप जिस कंपनी में काम कर रहे हैं वहां ऐसी कोई समस्या है तो आपको दूसरे जॉब की तलाश शुरु कर देनी चाहिए। ऐसी स्थिति में सबसे अधिक खतरा नौकरी जाने का रहता है।

जब आपसे बेतुका व्यवहार किया जाने लगे

कई बार जब कंपनी के मैनेजमेंट में बदलाव होता है तो वहां काम करने वाले कुछ कर्मचारियों से बेतुका व्यवहार शुरु कर दिया जाता है। उनकी गलती ना होने पर भी उनसे सवाल पूछने शुरु कर दिए जाते हैं। उनको बार-बार परेशान किया जाता है। अगर आपके साथ भी ऐसा व्यवहार हो रहा है तो आप रिजाइन मारने की सोच सकते हैं। क्योंकि उस स्थिति में आपका ग्रोथ रुक जाता है। आप कुछ नया नहीं कर पा रहे होते हैं। जितना करते आ रहे थे उसी में परेशान होने लगते हैं। हालांकि रिजाइन मारने से पहले नई नौकरी जरूर ढूंढ लेनी चाहिए, क्योंकि बाद में जब दूसरा जॉब नहीं मिलता है तो आपके सीवी में गैप दिखने लगता है। फिर नई कंपनी में अप्लाई करने पर HR आपसे कई तरह की सवाल पूछने लगती है। इसलिए ऐसी स्थिति में आपको अपने दोस्तों और उस फील्ड से जुड़े एक्सपर्ट से राय ले लेनी चाहिए। 

काम के मुताबिक सैलरी ना मिले

आपको पहले से तय किए गए काम के अलावा नया टास्क सौंप दिया जाए। आप बिना कोई सवाल के वह काम कर रहे हों और ऐसा काफी समय से होता चला आ रहा है, लेकिन कंपनी काम के मुताबिक आपको भुगतान नहीं कर रही है। ऐसे में आप अपनी कंपनी से पैसे की डिमांड कर सकते हैं और ना मिलने पर दूसरी नौकरी तलाश सकते हैं। ऐसा करना आपके ग्रोथ के लिए फायदेमंद साबित होगा। 

Latest Business News