1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. राजस्थान
  4. कोरोना का नया स्ट्रेन: ब्रिटेन से पिछले दो महीने में 700 लोग राजस्थान आए, मचा हड़कंप

कोरोना का नया स्ट्रेन: ब्रिटेन से पिछले दो महीने में 700 लोग राजस्थान आए, मचा हड़कंप

 ब्रिटेन में कोरोना का नया स्ट्रेन सामने आने के बाद पिछले 2 महीनों में वहां से 700 लोग राजस्थान के विभिन्न जिलों में आए हैं। 

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Published on: December 25, 2020 10:28 IST
कोरोना का नया स्ट्रेन: ब्रिटेन से पिछले दो महीने में 700 लोग राजस्थान आए, मचा हड़कंप- India TV Hindi
Image Source : PTI कोरोना का नया स्ट्रेन: ब्रिटेन से पिछले दो महीने में 700 लोग राजस्थान आए, मचा हड़कंप

जयपुर: ब्रिटेन में कोरोना का नया स्ट्रेन सामने आने के बाद पिछले 2 महीनों में वहां से 700 लोग राजस्थान के विभिन्न जिलों में आए हैं। 700 में से 443 लोग अकेले जयपुर जिले में आए हैं। स्वास्थ्य निदेशालय को इन लोगों की लिस्ट केंद्र सरकार ने भेजी है। स्वास्थ्य विभाग ने जिलों के अधिकारियों से कहा है कि वे लोगों को चिन्हित करें। जयपुर स्वास्थ विभाग के अनुसार 7 नवंबर तक जयपुर जिले में 272 यात्री आए हैं इसके अलावा बीते 15 दिनों में 171 यात्री जयपुर आए हैं।

ब्रिटेन में कोरोना वायरस के एक नए प्रकार (स्ट्रेन) से संक्रमण की दर बढ़ने को लेकर वहां सख्त पाबंदियों के साथ लॉकडाउन लागू किया गया है, जिसके चलते लाखों लोग घरों के अंदर ही रहने को मजबूर हो गए हैं। गैर-जरूरी वस्तुओं की दुकानें और प्रतिष्ठान भी बंद कर दिए गए हैं। माना जा रहा है कि कोरोना वायरस का नया प्रकार देश में संक्रमण को तेजी से फैलाने के लिए जिम्मेदार है। 

इधर कोरोना वायरस के नए स्वरूप के मद्देनजर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) में कहा गया है कि ब्रिटेन से आने वाले यात्रियों की आरटी-पीसीआर जांच करानी चाहिए और संक्रमित पाए जाने पर उन्हें संस्थानिक पृथक-वास केंद्र में भेजना चाहिए। ब्रिटेन में कोरोना वायरस के नए स्वरूप का पता लगने के बाद भारत ने बुधवार से 31 दिसंबर या अगले आदेश तक ब्रिटेन से आने-जाने वाली उड़ानों पर रोक लगा दी है। 

स्वास्थ्य मंत्रालय की एसओपी में 25 नवंबर से 23 दिसंबर तक ब्रिटेन होकर आने वाले यात्रियों के स्वास्थ्य की निगरानी के संबंध में विभिन्न गतिविधियों का उल्लेख किया गया है। इसमें कहा गया है कि ब्रिटेन से आने वाले सभी यात्रियों को पिछले 14 दिनों की यात्रा का ब्योरा देना होगा और कोविड-19 की जांच के लिए एक आवेदन भरना होगा। 

एसओपी में कहा गया है कि संबंधित राज्य 21 से 23 दिसंबर के बीच ब्रिटेन से आने वाले सभी यात्रियों की आरटी-पीसीआर तरीके से जांच कराएंगे। हवाई अड्डे पर संक्रमित नहीं पाए गए यात्रियों को घर में पृथक-वास में रहने की सलाह दी जाएगी। संक्रमित पाए गए यात्रियों को संस्थानिक पृथक-वास केंद्रों में अलग कक्ष में भेजा जाएगा। जीनोम अनुक्रमण विश्लेषण को लेकर नमूनों को राष्‍ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान (एनआईवी), पुणे या किसी उपयुक्त प्रयोगशाला में भेजने के लिए आवश्यक कदम उठाए जाएंगे। 

एसओपी में कहा गया कि जीनोम अनुक्रमण में कोरोना वायरस के नए स्वरूप का पता लगने पर मरीज को पृथक-वास के अलग कक्ष में ही रखा जाएगा। मौजूदा परामर्श के तहत आवश्यक उपचार किया जाएगा और शुरुआती जांच के 14 वें दिन फिर से जांच की जाएगी। दिशा-निर्देश में कहा गया, ‘‘अगर 14 वें दिन भी नमूनों में संक्रमण की पुष्टि होती है तो आगे 24 घंटे के अंतराल पर दो बार और नमूने लेकर जांच की जाएगी।’’ 

जिन यात्रियों में संक्रमण की पुष्टि नहीं होगी उनकी सूची एकीकृत बीमारी निगरानी कार्यक्रम (आईडीएसपी) के साथ साझा की जाएगी। ऐसे यात्रियों को भी घर पर पृथक-वास में रहने की सलाह दी जाएगी। ब्रिटेन से 25 नवंबर और आठ दिसंबर के बीच भारत आने वाले यात्रियों से जिला निगरानी अधिकारी संपर्क करेंगे और उन्हें अपने स्वास्थ्य की स्थिति की निगरानी करने के लिए कहेंगे और किसी भी तरह के लक्षण पाए जाने पर आरटी-पीसीआर तरीके से जांच करायी जाएगी। 

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। कोरोना का नया स्ट्रेन: ब्रिटेन से पिछले दो महीने में 700 लोग राजस्थान आए, मचा हड़कंप News in Hindi के लिए क्लिक करें राजस्थान सेक्‍शन
Write a comment