Wednesday, February 28, 2024
Advertisement

आसमान में धधकता सूरज छोटा होता जा रहा है? वैज्ञानिकों ने जो बताया जानकर होंगे हैरान

वैज्ञानिकों ने बताया है कि आसमान में चमक रहे सूरज का आकार दिन-ब-दिन छोटा होता जा रहा है। खगोलविदों की टीम को कुछ ऐसा तथ्य मिले हैं जिससे पता चलता है कि सूरज का आकार सिकुड़ रहा है। जानें महत्वपूर्ण तथ्य-

Kajal Kumari Edited By: Kajal Kumari @lallkajal
Updated on: November 09, 2023 6:22 IST
sun size matters- India TV Hindi
Image Source : NASA IMAGE सूरज का आकार छोटा होता जा रहा है

सूरज के बारे में वैज्ञानिकों ने जो तथ्य बताए हैं उसे जानकर आपको हैरानी होगी। एक अभूतपूर्व खोज में, खगोलविदों की एक टीम को ऐसे साक्ष्य मिले हैं जो बताते हैं कि हमारे सौर मंडल के केंद्र में स्थित सबसे बड़ा धधकता तारा, सूर्य, पहले की तुलना में थोड़ा छोटा होता जा रहा है। ऐसा माना जाता है कि सूर्य की त्रिज्या पहले के विश्लेषणों की तुलना में कुछ प्रतिशत पतली है। हालांकि आफको यह जानकारी महत्वहीन लग सकती है, लेकिन यह जानकारी हमारे ग्रह पर जीवन को बनाए रखने वाले खगोलीय पिंड सूर्य के बारे में वैज्ञानिकों की समझ को महत्वपूर्ण रूप से बदल सकती है। एक अभूतपूर्व खोज में, खगोलविदों की एक टीम को ऐसे साक्ष्य मिले हैं जो बताते हैं कि सूर्य, पहले की तुलना में थोड़ा छोटा हो सकता है।

खगोलविदों ने बताई ये बात

हालांकि, कुछ खगोलविदों का तर्क है कि पारंपरिक रूप से सूर्य की भूकंपीय त्रिज्या को मापने के लिए उपयोग किए जाने वाले एफ-मोड पूरी तरह से विश्वसनीय नहीं हैं क्योंकि वे सूर्य के प्रकाशमंडल के किनारे तक फैलते नहीं हैं। इसकी बजाय, वे उस चीज़ को फैलते हुए दिखाई देते हैं जिसे खगोलविद टकाटा और गफ "प्रेत सतह" के रूप में संदर्भित करते हैं। दूसरी ओर, पी-मोड, सूर्य के ऊपरी संवहन क्षेत्र में चुंबकीय क्षेत्र और हलचल वाले क्षेत्र के प्रति कम संवेदनशीलता के कारण आगे तक पहुंचते हैं, इस कारण से सूर्य का आकार पता नहीं चल पाता।

घट सकता है सूरज का आकार

तकाता और गफ भूकंपीय माप पर सूर्य की त्रिज्या को आधार बनाते समय पी-मोड के उपयोग की वकालत करते हैं। केवल पी-मोड आवृत्तियों का उपयोग करके उनकी गणना से पता चलता है कि सौर फोटोस्फेरिक त्रिज्या मानक सौर मॉडल की तुलना में बहुत कम है। खगोल भौतिकीविद् एमिली ब्रंसडेन ने न्यू साइंटिस्ट को बताया कि छोटी सी त्रुटि के बावजूद, इन निष्कर्षों को समायोजित करने के लिए पारंपरिक मॉडल को समायोजित करना एक महत्वपूर्ण उपक्रम होगा। उन्होंने न्यू साइंटिस्ट को बताया, " सूर्य का आकार और उनके अंतर का कारण समझना मुश्किल है क्योंकि बहुत सी चीजें चल रही हैं।"

ये भी पढ़ें:

"ना ही पार्टी ना ही जनता उन्हें गंभीरता से लेती है", राहुल गांधी पर योगी आदित्यनाथ का बड़ा हमला

महुआ मोइत्रा के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच करेगी सीबीआई, बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे का दावा

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Around the world News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement