1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. विदेश
  4. अमेरिका
  5. अमेरिका-कनाडा सीमा के पास मृत मिले भारतीय परिवार की पहचान हुई, ठंड की चपेट में आने से हुई थी मौत

अमेरिका-कनाडा सीमा के पास मृत मिले भारतीय परिवार की पहचान हुई, ठंड की चपेट में आने से हुई थी मौत

मृतकों की पहचान जगदीश बलदेवभाई पटेल (39), वैशालीबेन जगदीशकुमार पटेल (37), विहंगी जगदीशकुमार पटेल (11) और धार्मिक जगदीशकुमार पटेल (3) के तौर पर हुई है। ये सभी एक ही परिवार के सदस्य थे

IndiaTV Hindi Desk Edited by: IndiaTV Hindi Desk
Published on: January 28, 2022 12:16 IST
अमेरिका-कनाडा सीमा के पास मृत मिले भारतीय परिवार की पहचान हुई, ठंड की चपेट में आने से हुई थी मौत- India TV Hindi
Image Source : AP (FILE) अमेरिका-कनाडा सीमा के पास मृत मिले भारतीय परिवार की पहचान हुई, ठंड की चपेट में आने से हुई थी मौत

Highlights

  • एक पुरुष, एक महिला, एक किशोर और एक शिशु की हुई थी मौत
  • 26 जनवरी को शवों का पोस्टमार्टम पूरा किया गया

 न्यूयॉर्क /टोरंटो: अमेरिका-कनाडा सीमा के पास मृत मिले चार भारतीय नागरिकों के परिवार की पहचान हो गई है। कनाडा के अधिकारियों ने बताया कि परिवार कुछ समय से देश में था और उन्हें कोई सीमा पर ले गया था। मामला मानव तस्करी का प्रतीत होता है। मैनिटोबा की रॉयल कैनेडियन माउंटेड पुलिस ने कहा कि मृतकों की पहचान जगदीश बलदेवभाई पटेल (39), वैशालीबेन जगदीशकुमार पटेल (37), विहंगी जगदीशकुमार पटेल (11) और धार्मिक जगदीशकुमार पटेल (3) के तौर पर हुई है। ये सभी एक ही परिवार के सदस्य थे, जो 19 जनवरी को कनाडा-अमेरिका सीमा से लगभग 12 मीटर दूर मैनिटोबा के इमर्सन के पास मृत मिले थे। 

अधिकारियों ने पहले बताया था कि परिवार में एक वयस्क पुरुष, एक वयस्क महिला, एक किशोर और एक शिशु शामिल हैं, लेकिन अब मृतकों में एक किशोर की जगह किशोरी के होने की बात सामने आई है। कनाडा के अधिकारियों ने मृतकों की पहचान की पुष्टि की और 26 जनवरी को शवों का पोस्टमार्टम पूरा किया गया। रॉयल कैनेडियन माउंटेड पुलिस (आरसीएमपी) ने बृहस्पतिवार को एक बयान में बताया कि मैनिटोबा के मुख्य चिकित्सा परीक्षक के कार्यालय ने पुष्टि की है कि मौत ठंड की चपेट में आने से हुई। 

कनाडा के ओटावा में स्थित भारत के उच्चायोग ने एक प्रेस विज्ञप्ति में मृतकों की पहचान की पुष्टि की और बताया कि उनके परिवार को घटना की जानकारी दे दी गई है। टोरंटो में भारत का महावाणिज्य दूतावास मृतक के परिवार के सम्पर्क में है और सभी वाणिज्यि स्तर की सहायता प्रदान की जा रही है। उसने एक बयान में कहा, ‘‘ उच्चायोग पीड़ितों के परिवार और दोस्तों के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करता है।’’ 

आरसीएमपी ने पटेल परिवार के 12 जनवरी 2022 को टोरंटो पहुंचने और वहां से 18 जनवरी के आसपास इमर्सन जाने की पुष्टि भी की है। आरसीएमपी ने बयान में कहा, ‘‘ मौके से कोई वाहन बरामद नहीं हुआ है, जिससे प्रतीत होता है कि कोई परिवार को सीमा तक लाया था और फिर वहीं छोड़कर चला गया।’’ उसने कहा, ‘‘ कनाडा में उनकी गतिविधियों और अमेरिका में जो गिरफ्तारी हुई है, उससे यह मामला मानव तस्करी का लगता है।’’ 

टोरंटो में भारतीय उच्चायोग और भारतीय वाणिज्य दूतावास इस घटना की जांच के सभी पहलुओं पर कनाडा के अधिकारियों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं। अमेरिका के मिनेसोटा जिले में पिछले हफ्ते ‘यूएस डिस्ट्रिक्ट कोर्ट’ में 47 वर्षीय अमेरिकी नागरिक स्टीव शैंड के खिलाफ एक आपराधिक मामला दायर किया गया था। शैंड पर मानव तस्करी का आरोप लगाया गया है। शैंड ‘‘बिना दस्तावेज वाले विदेशी नागरिकों की मदद करने वाला संदिग्ध तस्कर है’’।

अमेरिकी अधिकारियों ने उसे 19 जनवरी को अमेरिका-कनाडा सीमा के पास से गिरफ्तार किया था। उसे दो भारतीय नागरिकों को ले जाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था, जो अमेरिका में अवैध रूप से रह रहे थे। शैंड को जिस दिन गिरफ्तार किया गया था, उसी दिन अमेरिकी सीमा गश्त अधिकारियों को रॉयल कैनेडियन माउंटेड पुलिस से एक रिपोर्ट मिली थी कि पटेल परिवार के सदस्यों के शव अंतरराष्ट्रीय सीमा पर कनाडा की ओर के हिस्से में जमे हुए मिले हैं। शैंड को सशर्त तथा बिना किसी बॉन्ड के रिहा कर दिया गया है। 

इनपुट-भाषा

erussia-ukraine-news