लोकतंत्र और गणतंत्र में क्या है डिफरेंस? बहुत कम लोगों को इस बात की है जानकारी

हम सब हर साल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस(Republic Day) के रूप में मनाते हैं। लेकिन क्या आप लोग यह जानते हैं कि लोकतंत्र और गणतंत्र में आखिर अंतर क्या होता है? आज हम आपको इस खबर के माध्यम से इसके बारे में डिटेल्ड जानकारी देंगे।

Akash Mishra Written By: Akash Mishra @Akash25100607
Updated on: January 24, 2023 0:07 IST
भारत एक संप्रभु लोकतांत्रिक गणराज्य है- India TV Hindi
Image Source : INDIA TV भारत एक संप्रभु लोकतांत्रिक गणराज्य है

Difference Between Democracy And Republic: देश में पूरे जोश के साथ गणतंत्र दिवस(Republic Day) की तैयारियां जोरो-शोरो से चल रही है। हमारा देश भारत एक संप्रभु लोकतांत्रिक गणराज्य है। हम सब हर साल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस(Republic Day) के रूप में मनाते हैं। हमारा देश भारत पूरी दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र भी है। लेकिन क्या आप लोग यह जानते हैं कि लोकतंत्र और गणतंत्र होता क्या है? आखिर लोकतंत्र और गणतंत्र में अंतर क्या होता है? अक्सर लोग इस बत पर कंफ्यूज होते हैं। अगर आपको इसके अंतर के बारे में नहीं पता है तो आपके लिए यह खबर इन सारे सवालों का जवाब है। आज हम आपको इस खबर के माध्यम से  बताएंगे कि लोकतंत्र और गणतंत्र में क्या अंतर होता है। 

लोकतंत्र यानी डेमोक्रेसी(Democracy) एक सरकार का वह रूप है जहां लोग अपने प्रतिनिधियों को कानून बनाने के लिए चुनते हैं। इसका मतलब यह है कि यह लोगों द्वारा, लोगों के लिए, लोगों की सरकार है। यह सरकार का एक रूप है जहां लोगों के पास अधिकार है। वहीं, गणतंत्र एक प्रकार की सरकार है जहाँ देश को एक सार्वजनिक मामला माना जाता है। रिपब्लिक शब्द लैटिन शब्द Res Publica शब्द से लिया गया है। लेकिन हमारा देश भारत एक संप्रभु लोकतांत्रिक गणराज्य है। 

लोकतंत्र और गणतंत्र में क्या होता है डिफरेंस?

  • लोकतंत्र में जनता के पास स्वयं की शक्ति होती है, वहीं सरकार के गणतंत्र रूप में शक्ति व्यक्तिगत नागरिकों की होती है
  • लोकतंत्र के प्रमुख 3 प्रकार हैं, इसमें पहला- प्रत्यक्ष लोकतंत्र, दूसरा- प्रतिनिधि लोकतंत्र और तीसरा- संवैधानिक लोकतंत्र। वहीं, गणतंत्र मुख्यत: पांच प्रकार के होते हैं जैसे संवैधानिक गणतंत्र, संसदीय गणतंत्र, राष्ट्रपति गणराज्य, संघीय गणराज्य और थियोक्रेटिक गणराज्य।
  • सरकार की एक लोकतांत्रिक प्रणाली में सभी कानून बहुमत (प्रतिनिधियों / लोगों) द्वारा बनाए जाते हैं। वहीं सरकार के गणतंत्र रूप में, देश के लोगों द्वारा चुने हुए प्रतिनिधियों द्वारा कानूनों को बनाया जाता है। 
  • एक देश में एक से ज्यादा प्रकार के लोकतंत्र हो सकते हैं। वहीं, एक देश में 1 से ज्यादा प्रकार के गणतंत्र भी हो सकते हैं।
  • लोकतंत्र में यह बहुमत की इच्छा है जिसे मौजूदा अधिकारों को ओवरराइड करने का अधिकार है। सरकार के गणतंत्र रुप में संविधान अधिकारों की रक्षा करता है, इसलिए लोगों की कोई भी इच्छा किसी भी अधिकार पर हावी नहीं हो सकती है।
  • लोकतंत्र प्रमुख रूप से लोगों की सामान्य इच्छा पर केंद्रित है। वहीं, गणतंत्र मुख्य रूप से संविधान पर केंद्रित है।
  • लोकतंत्र में सरकार पर कोई बंदिश नहीं होती। वहीं, एक गणराज्य में सरकार पर बाधाएं हैं (संविधान द्वारा बाध्य)।

यह भी पढ़ें-

क्या आपके भी हैं 12वीं के बोर्ड एग्जाम्स? अगर हां, तो इन शानदार टिप्स से करें तैयारी; टॉपर्स में होगा नाम

आखिर बर्फ पर इतनी फिसलन क्यों होती है, जिससे गाड़ियां तक फिसल जाती हैं, कभी सोचा है?

 

Latest Education News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। News in Hindi के लिए क्लिक करें एजुकेशन सेक्‍शन