1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. सिनेमा
  4. बॉलीवुड
  5. Happy Birthday Jeetendra: फर्स्ड डे फर्स्ट शो देखने वाला लड़का कैसे बन गया सदाबहार जीतेंद्र, दिलचस्प है कहानी

Happy Birthday Jeetendra: फर्स्ड डे फर्स्ट शो देखने वाला लड़का कैसे बन गया सदाबहार जीतेंद्र, दिलचस्प है कहानी

हिंदी फिल्मों के सदाबहार सितारे जीतेन्द्र का जन्म 7 अप्रैल 1942 को पंजाब के अमृतसर में एक जौहरी परिवार में हुआ था। बहुत कम लोग जानते हैं कि जीतेन्द्र को पहले रवि के नाम से जाना जाता था।

India TV Entertainment Desk India TV Entertainment Desk
Updated on: April 07, 2021 12:35 IST
Jeetendra- India TV Hindi
Image Source : TWITTER फर्स्ड डे फर्स्ट शो देखने वाला लड़का कैसे बन गया सदाबहार जीतेंद्र

आज जीतेंद्र का 79वां जन्मदिन है। हिंदी फिल्मों के सदाबहार सितारे जीतेन्द्र का जन्म 7 अप्रैल 1942 को पंजाब के अमृतसर में एक जौहरी परिवार में हुआ था। बहुत कम लोग जानते हैं कि जीतेन्द्र को पहले रवि के नाम से जाना जाता था। जीतेन्द्र कपूर को उनके डांस के लिए विशेष रूप से जाना जाता है। रवि कपूर या जीतेंद्र कपूर का परिवार एक व्यवसाय से गुजरा। उनका बिजनेस आभूषण बनाने का था। वह एक मध्यम वर्गीय परिवार से ताल्लुक रखते थे।

मुंबई के गोरेगांव में हमेशा लड़कों का एक समूह फिल्मों का पहला शो देखता था। फिल्म देखने के बाद वह लोगों को बताता था कि फिल्म कैसी है। निर्देशक वी शांताराम फिल्म देखने आए थे। उन्होंने लड़कों के समूह में से एक लड़के को फिल्म के बारे में लोगों से बात करते हुए देखा। वी शांताराम लड़के से बहुत प्रभावित थे और उन्होंने फैसला किया कि वह उन्हें अपनी फिल्म में काम करने का मौका देंगे।

 
उन्होंने उसे फोन किया और अपनी फिल्म 'गीत गाया पत्थरों ने' में काम करने का प्रस्ताव दिया। वह लड़का कोई और नहीं बल्कि रवि कपूर था जिसे बाद में फिल्म इंडस्ट्री में जीतेन्द्र के नाम से जाना गया। गहनों के व्यापारी के परिवार में 07 अप्रैल, 1942 को जन्मे जीतेन्द्र का झुकाव बचपन से ही फिल्मों की ओर था और वह अभिनेता बनना चाहते थे। वह हमेशा फिल्में देखने के लिए घर से भाग जाते थे। जीतेंद्र ने अपने फ़िल्मी करियर की शुरुआत 1959 में आई फ़िल्म 'नवरंग' से की जिसमें उन्हें एक छोटी सी भूमिका निभाने का मौका मिला। लगभग 5 साल तक जीतेन्द्र ने फिल्म इंडस्ट्री में एक अभिनेता के रूप में काम पाने के लिए संघर्ष किया। वर्ष 1964 में, उन्हें वी शांताराम की फिल्म 'गीत गाया पत्थरों ने' में काम करने का मौका मिला। इस फिल्म के बाद जीतेन्द्र अपनी पहचान बनाने में कामयाब रहे।

यहां पढ़ें

बॉलीवुड एक्ट्रेस कटरीना कैफ भी हुईं कोविड पॉजिटिव, खुद को किया होम आइसोलेट

नवाजुद्दीन सिद्दीकी के पहले म्यूजिक वीडियो 'बारिश की जाए' ने मचाया धमाल, मिले 60 मिलियन व्यूज

सोनू सूद ने उनके नाम पर ठगी करने वाले को पकड़ने पर तेलंगाना पुलिस को दिया धन्यवाद

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। Bollywood News in Hindi के लिए क्लिक करें सिनेमा सेक्‍शन
Write a comment
X