Dabangg 3 Movie Review: सलमान खान के स्वैग और एक्शन से भरपूर एंटरटेनमेंट का फुल पैकेज

'दबंग' सीरीज की तीसरी कड़ी 'दबंग 3' में एक बार फिर सलमान का एक्शन, स्वैग, कॉमेडी और एंटरटेनमेंट देखने को मिलेगा।

Sonam Kanojia Sonam Kanojia
Updated on: December 22, 2019 10:23 IST
Dabangg 3 Movie Review salman khan

सलमान खान की 'दबंग 3' की मूवी रिव्यू

Photo:TWITTER
  • फिल्म रिव्यू: दबंग 3
  • पर्दे पर: DEC 20, 2019
  • डायरेक्टर: प्रभुदेवा
  • शैली: एक्शन

मुंबई: सुपरस्टार सलमान खान की जिस फिल्म का फैंस बेसब्री से इंतज़ार कर रहे थे, वो रिलीज हो चुकी है। फिल्म में सलमान खान उर्फ चुलबुल पांडे का नया अवतार दर्शकों को भा जाएगा क्योंकि इस फिल्म के जरिए सलमान ने अपने ऑडिएंस को एक्शन, स्वैग और कॉमेडी का फुल कॉम्बो दिया है, जिसे उनके फैंस ने सिर आंखों पर लिया है। हर बार की तरह इस बार भी सलमान खान ने अपने चुलबुल पांडे के किरदार में जान भर दी है। सलमान ने इस फिल्म में एंटरटेनमेंट का जो तड़का लगाया है वो आपको हंसाएगा, रुलाएगा और रोमांच से भी भर देगा। सलमान के फैंस को और क्या चाहिए... 

कहानी

दबंग के पहले और दूसरे पार्ट से आगे जाकर सलमान ने इस फिल्म में चुलबुल पांडे का फ्लेशबैक दिखाया है, जो आपको इमोशनली जोड़ेगा। फिल्म की शुरुआत होती है उत्तर प्रदेश के टुंडला गांव से, जहां एक अमीर घराने में शादी का जश्न मन रहा होता है। तभी कुछ गुंडे आकर वहां लूटपाट मचाते हैं। उस एरिया के पुलिस ऑफिसर चुलबुल पांडे (सलमान खान) पहले तो धमाकेदार एंट्री मारते हैं और फिर उनकी जमकर कुटाई करते हैं। इसके बाद शुरू होती है फिल्म की असली कहानी। दरअसल, इन गुंडों का कनेक्शन मूवी के विलेन बाली सिंह (किच्चा सुदीप) से है और जब दोनों का आमना-सामना होता है तो चुलबुल पांडे को अपने अतीत के घाव याद आ जाते हैं, जो बाली सिंह ने उसे दिए थे।  

चुलबुल पांडे रज्जो (सोनाक्षी सिन्हा) से पहले खुशी (सई मांजरेकर) से प्यार करते थे। दोनों जल्द ही शादी करने वाले थे, लेकिन इसी दौरान उनके साथ कुछ ऐसा घटता है कि चुलबुल पांडे की जिंदगी बदल जाती है। आखिर इस घटना का बाली सिंह से क्या कनेक्शन है? क्या चुलबुल पांडे अपने अतीत के घाव को मिटा पाते हैं? अगर आप फिल्म का धमाकेदार क्लाइमेक्स देखना चाहते हैं तो आपको सिनेमाघर का रुख करना पड़ेगा।  

एक्टिंग

सलमान खान ने एक बार फिर अपने किरदार को बखूबी जिया है। उनका अंदाज, स्वैग, बोलने का तरीका, चलने का स्टाइल.. सब कुछ दिखा है। जब-जब वो स्क्रीन पर आते हैं...तालियां, सीटियां बजने लगती हैं। उनके हार्डकोर फैंस के तो रोंगटे खड़े हो सकते हैं, जब चुलबुल का स्वैग चरम पर होता है। अपनी कॉमेडी से दर्शकों को हंसाने से लेकर विलेन को धूल चटाने तक, सलमान हर सीन में खूब जमे हैं।

वहीं, किच्चा सुदीप ने साबित कर दिया कि वो हिंदी सिनेमा में लंबी पारी खेलने आए हैं। उन्होंने अपने हाव-भाव और डायलॉग्स डिलीवरी में कोई कमी नहीं छोड़ी है। सोनाक्षी सिन्हा ने हर बार की तरह रज्जो का किरदार शिद्दत से निभाया है। वो बिलकुल घरेलू अंदाज में चुलबुल पांडे के साथ डील करती हैं। रोमांस हो या रूठना, उनकी एक्टिंग में यूपी की टोन मजा बांध देती है। 

अब बात करते हैं सलमान की फिल्म में फ्रेश फेस के रूप में शामिल हुईं सई मांजरेकर की। सई सलमान का पहला प्यार बनी हैं। उनके सीन्स आपको रोमांस में गोते लगाने के लिए मजबूर करते हैं। वो बेहद मासूम दिखी हैं...पहली फिल्म में सलमान के साथ स्क्रीन शेयर करना ही बड़ी बात है, लेकिन सई काफी सहज लगी हैं और उनके हिस्से भले ही डायलॉग्स कम आए हैं, लेकिन उनकी अदाकारी को कम नंबर नहीं दिए जा सकते।

फिल्म में अरबाज खान, डिंपल कपाड़िया, प्रमोद खन्ना और महेश मांजरेकर समेत कई कलाकारों ने शानदार काम किया है।

सलमान रिश्तों को बखूबी निभाते हैं। विनोद खन्ना की मौत के बाद चुलबुल के पिता का किरदार किसी और अभिनेता को दिया जा सकता था, लेकिन सलमान ने उनके भाई प्रमोद खन्ना को ये किरदार देकर साबित किया कि वो भावनाओं की कद्र करते हैं। चूंकि प्रमोद खन्ना, विनोद खन्ना की तरह दिखते हैं औऱ उनके भाई भी हैं, इसलिए फिल्म में चुलबुल और उनके पिता का रिश्ता पहले ही तरह ही गर्माहट भरा दिखा है।

म्यूजिक

'मुन्ना बदनाम हुआ' और 'हुड़ हुड़ दबंग' गाना फिल्म की रिलीज के पहले से ही लोगों की जुबां पर चढ़ा हुआ है। इनके अलावा 'यूं करके' और 'आवारा' जैसे कई गाने आपका दिल छू लेंगे। गानों के म्यूजिक और लिरिक्स दोनों ही शानदार हैं।

डायरेक्शन

जहां तक डायरेक्शन की बात करें तो प्रभुदेवा ने हर एंगल पर मेहनत की है। सलमान की स्टार पॉवर का सही इस्तेमाल होना ही फिल्म की खासियत है। प्रभुदेवा इससे पहले सलमान के साथ ही 'वॉन्टेड' कर चुके हैं। दोनों की केमेस्ट्री यहां भी जोरदार दिखी है। कई सीन ऐसे हैं जो इमोशनली टच करते हैं, मक्खी और चुलबुल के सीन को खास अहमियत दी गई है। 

अगर आप सलमान के फैन हैं तो इसे कर्तव्य की तरह देखेंगे ही लेकिन अगर आप सलमान के फैन नहीं भी हैं तो फिल्म आपको सलमान की तारीफ करने पर मजबूर कर देगी। दरअसल उस दौर में जहां दर्शक नए मुद्दों पर बनी फिल्मों को वरीयता दे रहे हैं, अपनी स्टार पॉवर को बनाए रखना और दर्शकों को फुल एंटरटेन करना सलमान को बखूबी आता है और इस फिल्म में सलमान खान ने वही दिया है जो उनके फैंस चाहते है।

bigg-boss-13