1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. लाइफस्टाइल
  4. जीवन मंत्र
  5. बात बात पर आता है गुस्सा तो इस ग्रह की चपेट में हैं आप, ये उपाय देंगे राहत

बात बात पर आता है गुस्सा तो इस ग्रह की चपेट में हैं आप, ये उपाय देंगे राहत

अगर आपको भी बात बात पर गुस्सा आता है और वो आपको ही नुकसान पहुंचाता है तो आपको कुछ उपाय करने की जरूरत है। जानिए उपाय।

Vineeta Vashisth Edited by: Vineeta Vashisth
Updated on: April 20, 2022 16:14 IST
anger - India TV Hindi
Image Source : TAITTER/@WPAGE_FILES anger

आज बदलते और भागदौड भरे माहौल में बड़ी बड़ी जिम्मेदारियों के बीच लोगों का चिड़चिड़ा और गुस्सा होना जायज हो गयाहै। लेकिन कई लोगों को कुछ ज्यादा ही गुस्सा आता है। ऐसे लोग बात बात पर गुस्सा करते हैं या फिर बेवजह ही किसी भी व्यक्ति पर भड़क जाते हैं। 

गुस्सा केवल व्यवहार और दिमाग से ही जुड़ा नहीं है। इसका ज्योतिष आकलन देखे तो राहु दोष और मंगल दोष के चलते भी लोगों को ज्यादा गुस्सा आता है। अगर आप भी ज्यादा गुस्से के शिकार है और इसकी वजह से कई बार गलत परिणाम झेल चुके हैं तो आपको एंगर मैनेजमेंट के साथ साथ कुछ ज्योतिषीय उपाय भी लाभ दे सकते हैं।

गुस्सा कम करने के ज्योतिषीय उपाय (astrological remedy for anger)

ज्‍योत‍िषशास्‍त्र के अनुसार अपने आसपास चंदन प्रयोग करें। वह टैल्‍कम पाउडर हो, परफ्यूम हो, धूपबत्‍ती या फ‍िर अगरबत्‍ती। आप चाहें तो रोज माथे पर चंदन का टीका भी लगा सकते हैं। इससे राहु दोष से राहत मिलेगी, आपका दिमाग शांत होगा और गुस्सा कम होगा। 

सुबह सोकर उठते के बाद सबसे पहले धरती मां को प्रणाम करें। इसके बाद सबसे पहले दायां पैर जमीन पर रखें। ब‍िस्‍तर छोड़ने के बाद कम से कम 15 म‍िनट तक क‍िसी से भी बात न करें। मान्‍यता है क‍ि ऐसा न‍ियम‍ित रूप से करने से गुस्‍सा कम होने लगता है और दिमाग में शीतलता आती है।

सुबह नहा धोकर सूर्यदेव को जल अर्पित करें और सूर्यदेव का ध्यान करें।

अगर गुस्से की वजह से बनते काम बिगड़ जाते हैं तो रोज घर में पूर्व दिशा में दोनों वक्त दीपक जलाएं।

रोजमर्रा की लाइफ में लाल कपड़ों का कम प्रयोग करें। सफेद, क्रीम रंग के कपड़े चूज करें।

प्रतिदिन हनुमान चालीसा का पाठ करें। इससे मंगल शांत होता है और गुस्सा कम होता है।

सोमवार को रात के वक्त चंद्रमा को अर्घ्‍य दें। चंद्रमा को देखने से भी गुस्सा शांत होता है।

डिस्क्लेमर - ये आर्टिकल जन सामान्य सूचनाओं और लोकोक्तियों पर आधारित है। इंडिया टीवी इसकी सत्यता की पुष्टि नहीं करता।