1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. लाइफस्टाइल
  4. जीवन मंत्र
  5. घर में इस खूबसूरत पत्थर को सजाइए, चंद दिनों में चमक जाएगी किस्मत

घर में इस खूबसूरत पत्थर को सजाइए, चंद दिनों में चमक जाएगी किस्मत

माना जाता है ये पत्थर समुद्र किनारे पाया जाता है। ये दिखने में रंग-बिरंगा होता है।

India TV Lifestyle Desk Written by: India TV Lifestyle Desk
Published on: March 22, 2022 11:40 IST
atma ratna stone- India TV Hindi
Image Source : TWITTER atma ratna stone

Highlights

  • इनको धारण करने से गृहदशा सुधर जाती है साथ ही कई अन्य लाभ भी मिलते हैं
  • माना जाता है ये पत्थर समुद्र किनारे पाया जाता है

कई बार खराब गृहदशा के चलते हम कुछ चीजों का सहारा लेते हैं, जिनमें मोती, पत्थर या कई तरह के रत्न हो सकते हैं। इनको धारण करने से गृहदशा सुधर जाती है साथ ही कई अन्य लाभ भी मिलते हैं। इनमें से ही एक है आत्मरत्न पत्थर। इसका जिक्र पौराणिक ग्रंथों में किया गया है। ज्योतिषाचार्य के मुताबिक जिसके हाथ ये पत्थर लग जाता है उसकी किस्मत बदल जाती है और मां लक्ष्मी कृपा उसपर बनी रहती है। आइए जानते हैं इस रत्न के बारे में-

कैसा दिखता है पत्थर-

माना जाता है ये पत्थर समुद्र किनारे पाया जाता है। ये दिखने में रंग-बिरंगा होता है। दिखने में खूबसूरत इस पत्थर को आत्मरत्न के नाम से जाना जाता है। ये आत्मरत्न पत्थर समुद्र में तैरता है, जो कि वहां के नाविकों के लिए बहुत काम आता है। इन गोल और चिकने पत्थरों की माला बनाई जाती है। साथ ही घर में साज सज्जा के लिए भी इसका इस्तेमाल किया जाता है। 

पौराणिक ग्रंथों के अनुसार ये पत्थर चमत्कारिक रूप से लाभ देता है। काले-भूरे रंग का ये पत्थर देखने में शालीग्राम जैसा लगता है। धार्मिक मान्यता है कि इसे घर में रखने से लोगों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती हैं। साथ ही जीवन में आ रही आर्थिक परेशानियों से भी मुक्ति मिलती है। इतना ही नहीं, ये शारीरिक कष्टों से भी मुक्ति दिलाता है। विदेशों में भी इस पत्थर को चमत्कारी माना जाता है। पौराणिक ग्रंथों में भी आत्मरत्न पत्थर का उल्लेख मिलता है। यह चमत्कारिक रूप से लाभ देने वाला होता है। इस रत्न को सोने या चांदी के अंगूठी में जड़वाकर पहनने से कोई दिव्य आत्मा हमेशा उनकी रक्षा करती है। इस रत्न की सबसे बड़ी विशेषता ये है कि इसे गौर से देखने पर इसकी लकीरे हिलती-डुलती नज़र आती हैं।  देखने में इसका स्वरूप अंडाकार होता है।

Disclaimer: यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं। इंडिया टीवी इस बारे में किसी तरह की कोई पुष्टि नहीं करता है। इसे सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर यहां प्रस्तुत किया गया है।