1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. जून तक कोरोना पर नहीं हुआ नियंत्रण तो घट सकती है दुनिया भर की जीडीपी ग्रोथ: रिपोर्ट

जून तक कोरोना पर नहीं हुआ नियंत्रण तो घट सकती है दुनिया भर की जीडीपी ग्रोथ: रिपोर्ट

कोरोना वायरस से दुनिया भर की अर्थव्यवस्था में असर पड़ने की आशंका बनी

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: February 20, 2020 15:45 IST
Coronavirus- India TV Paisa

Coronavirus

नई दिल्ली: कोरोना वायरस का दुनिया भर की अर्थव्यवस्थाओं पर असर जल्द देखने को मिल सकता है। एक रिपोर्ट के मुताबिक अगर वायरस पर जून तक नियंत्रण नहीं पाया गया तो पूरी दुनिया की जीडीपी  ग्रोथ 1 फीसदी घट सकती है। दुनिया भर की कंपनियों के प्रदर्शन पर नजर रखने वाली कंपनी डन एंड ब्रैडस्ट्रीट की रिपोर्ट में इस बात की आशंका जताई गई है। रिपोर्ट मे कहा गया है कि वायरस ने चीन की अर्थव्यवस्था को काफी हद तक नुकसान पहुंचाया है और समय बीतने के साथ इसका असर दूसरी अर्थव्यवस्थाओं पर दिखने लगा है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि जिस वक्त चीन में कोरोना वायरस का असर बढ़ना शुरू हुआ उस दौरान चीन में सालाना छुट्टियों का वक्त था। चीन की घरेलू कंपनियां और चीन से कारोबार कर रहीं दुनिया भर की कंपनियां सप्लाई और मांग के हिसाब से इस वक्त की पहले से योजना बना कर रखती हैं। इसी वजह से दुनिया भर की अर्थव्यवस्थाओं पर इस वायरस का अब तक असर सीमित रहा है। हालांकि वायरस पर नियंत्रण जल्द नहीं हुआ तो दुनिया भर की कंपनियों को नुकसान उठाना पड़ेगा। 

रिपोर्ट के मुताबिक फिलहाल चीन 2 करोड़ से ज्यादा कारोबारी यूनिट जो कि पूरे चीन के कारोबार का 90 फीसदी है, कोरोना वायरस से प्रभावित इलाकों में आते हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि अगर जून तक वायरस पर नियंत्रण नहीं होता और कारोबारी गतिविधियों में तेजी देखने को नहीं मिलती तो दुनिया भर की अर्थव्यवस्थाओं के लिए ये बड़ा झटका साबित होगा। जिसमें भारत भी शामिल है। फिलहाल देश की 220 कंपनियों के चीन की 330 कंपनियों के साथ बड़े करार हैं। 

रिपोर्ट के मुताबिक चीन संकट का असर सेक्टर पर अलग अलग तरह से होगा। रिटेल कारोबार और ट्रांसपोर्टेशन से जुड़ी कंपनियों को सीधे तौर पर आय में नुकसान सहना होगा। वहीं कंस्ट्रक्शन और बड़े मैन्युफैक्चरिंग प्रोजेक्ट से जुडी कंपनियों के ऑर्डर में रुकावट देखने को मिलेगी । ऑर्डर आगे बढ़ने से अगली तिमाही या वित्त वर्ष के लिए उन्हे रणनीति बदलनी पड़ेगी। दूसरी तरफ मेडिकल उपकरण बनाने वाली कंपनियां चीन में अपनी सप्लाई बढ़ा सकती हैं। 

Write a comment