1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. ONGC कर सकती है देश की तीसरी सबसे बड़ी तेल कंपनी HPCL का अधिग्रहण, 44 हजार करोड़ रुपए करेगी खर्च

ONGC कर सकती है देश की तीसरी सबसे बड़ी तेल कंपनी HPCL का अधिग्रहण, 44 हजार करोड़ रुपए करेगी खर्च

सार्वजनिक क्षेत्र की ऑयल एंड नेचूरल गैस कॉरपोरेशन (ONGC) भारत की तीसरी सबसे बड़ी ऑयल मार्केटिंग कंपनी HPCL का अधिग्रहण कर सकती है।

Abhishek Shrivastava Abhishek Shrivastava
Updated on: February 27, 2017 16:51 IST
ONGC कर सकती है देश की तीसरी सबसे बड़ी तेल कंपनी HPCL का अधिग्रहण, 44 हजार करोड़ रुपए करेगी खर्च- India TV Paisa
ONGC कर सकती है देश की तीसरी सबसे बड़ी तेल कंपनी HPCL का अधिग्रहण, 44 हजार करोड़ रुपए करेगी खर्च

नई दिल्‍ली। सार्वजनिक क्षेत्र की ऑयल एंड नैचुरल गैस कॉरपोरेशन (ONGC) भारत की तीसरी सबसे बड़ी ऑयल मार्केटिंग कंपनी हिंदुस्‍तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (HPCL) का अधिग्रहण कर सकती है। ओएनजीसी इसके लिए 44,000 करोड़ रुपए (6.6 अरब डॉलर) खर्च करेगी। सरकार की देश में एक एकीकृत बड़ी तेल कंपनी बनाने की योजना के तहत इसे महत्‍वपूर्ण माना जा रहा है।

वित्‍त मंत्री अरुण जेटली द्वारा बजट भाषण में एक एकीकृत ऑयल कंपनी बनाने की घोषणा के तहत भारत की सबसे बड़ी ऑयल और गैस उत्‍पादक ओएनजीसी एचपीसीएल में सरकार की संपूर्ण 51.11 प्रतिशत हिस्‍सेदारी खरीद सकती है। एचपीसीएल के अन्‍य शेयरधारकों से अतिरिक्‍त 26 प्रतिशत हिस्‍सेदारी खरीदने के लिए ओपन ऑफर लाया जाएगा।

सूत्रों के मुताबिक सरकार एक एकीकृत ऑयल कंपनी बनाने की योजना पर काम कर रही है और इसके पीछे विचार है कि एक ऑयल उत्‍पादक कंपनी का विलय रिफाइनरी कंपनी के साथ किया जाए।

  • इस सेक्‍टर में केवल छह सरकारी कंपनियां हैं, जिनमें ओएनजीसी और ऑयल इंडिया लिमिटेड ऑयल उत्‍पादक हैं।
  • इंडियन ऑयल कॉर्प (आईओसी), एचपीसीएल और भारत पेट्रोलियम कॉर्प लिमिटेड (बीपीसीएल) रिफाइनरी बिजनेस में हैं।
  • गेल मिडस्‍ट्रीम गैस ट्रांसपोर्टेशन बिजनेस में कार्यरत है।
  • अन्‍य कंपनियां जैसे ओएनजीसी विदेश, चेन्‍नई पेट्रोलियम कॉर्प, नुमालीगढ़ रिफाइनरी लिमिटेड और मैंगलोर रिफाइनरी इन छह पीएसयू में से किसी न किसी की अनुषंगी हैं।
  • इसलिए यहां विकल्‍प बहुत सीमित हैं। एक विकल्‍प है कि एचपीसीलए और बीपीसीएल को ओएनजीसी के साथ विलय कर दिया जाए।
  • वहीं दूसरी ओर आईओसी को ऑयल इंडिया के साथ विलय कर दिया जाए।
  • इससे देश में दो बड़ी और एकीकृत ऑयल कंपनियों का उदय होगा।
Write a comment
bigg boss 15