Diwali 2022: कब है दिवाली? जानें शुभ मुहूर्त और पूजन की विधि

Diwali 2022: दिवाली 24 अक्टूबर को मनाई जाएगी। 24 अक्टूबर को दिवाली का शुभ मुहूर्त शाम 6 बजकर 54 मिनट से रात 8 बजकर 18 मिनट तक है।

Poonam Shukla Written By: Poonam Shukla
Published on: September 29, 2022 11:13 IST
Diwali 2022- India TV Hindi
Image Source : DIWALI 2022 Diwali 2022

Highlights

  • दिवाली 24 अक्टूबर को मनाई जाएगी।
  • 24 अक्टूबर को दिवाली का शुभ मुहूर्त शाम 6 बजकर 54 मिनट से रात 8 बजकर 18 मिनट तक है।

Diwali 2022: दिवाली हिंदू धर्म का सबसे बड़ा त्योहार है। दिवाली का इंतजार बच्चों से लेकर बड़ों तक को होता है। बता दें दिवाली (Diwali) हिंदू धर्म का प्रमुख त्योहार है। इस दिन को लोग बड़ें ही धूम-धाम से मनाते हैं। नए कपड़े पहनते है, फटाखें जलाते हैं, खुशियां मनाते हैं, मिठाई बांटते हैं। इस दिन माता लक्ष्मी (Goddess) और भगवान गणेश (Lord Ganesh) की पूजा की जाती है। इस साल दिवाली 24 अक्टूबर को है।  आइए जानते हैं कि दिवाली पर शुभ मुहूर्त (Diwali Shubh Muhurat) कब है और पूजन विधि क्या है? 

October Festival List 2022 : जानिए कब है दिवाली, दशहरा, धनतेरस, करवा चौथ? एक क्लिक में देखें अक्टूबर के सारे त्योहार

दिवाली पर शुभ मुहूर्त कब है?

इस साल अमावस्या तिथि 24 और 25 अक्टूबर को है। अमावस्या तिथि 25 अक्टूबर को प्रदोष काल से पहले ही समाप्त हो जाएगी। वहीं अमावस्या तिथि 24 अक्टूबर को प्रदोष काल में होगी,लेकिन 24 अक्टूबर को निशित काल में भी अमावस्या तिथि होगी। दिवाली 24 अक्टूबर को मनाई जाएगी। 24 अक्टूबर को शाम 5 बजकर 28 मिनट पर अमावस्या शुरू होगी जो मंगलवार शाम को 4 बजकर 19 मिनट तक रहेगी। 24 अक्टूबर को दिवाली का शुभ मुहूर्त शाम 6 बजकर 54 मिनट से रात 8 बजकर 18 मिनट तक है।

Vastu Tips: इस दिशा में पूजा पाठ और जाप करने से मां लक्ष्मी होती हैं नाराज, जानें सही दिशा

पूजा विधि

  • दिवाली के दिन माता लक्ष्मी और भगवान गणेश की पूजा की जाती है। कहते है इस दिन अच्छे मन से अगर लक्ष्मी मां की पूजा की जाती है तो लक्ष्मी मां बहुत प्रसन्न होती है। साथ ही आपके जीवन में बहुत  सुख-समृद्धि मिलता है। 
  • दिवाली की पूजा के लिए घर में लक्ष्मी-गणेश की नई मूर्ति लाकर विराजमान करें।
  •  घर में रंगोली बनाएं और पूजा स्थल पर एक चौकी रखें।
  • चोकी में लाल कपड़ा बिछा दें। 
  • उस लाल कपड़े में माता लक्ष्मी और भगवान गणेश की मूर्ति विराजमान करें।
  • चौकी के पास जल का एक कलश भी रखें। इसके बाद माता लक्ष्मी और भगवान गणेश की मूर्ति को तिलक लगाएं और दीपक जलाएं।
  • इसमें जल, अक्षत, मौली, गुड़, फल और हल्दी अर्पित करें।
  • अब सब परिवार के साथ मिलकर लक्ष्मी मां की अरती करें। 

Guru Margi 2022: इस दिन देवगुरु बृहस्पति होंगे मार्गी, इन 3 राशियों के जीवन पर पड़ेगा बुरा प्रभाव

Disclaimer: यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं। इंडिया टीवी इस बारे में किसी तरह की कोई पुष्टि नहीं करता है।

 

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Festivals News in Hindi के लिए क्लिक करें धर्म सेक्‍शन