Monday, July 22, 2024
Advertisement

Strongest Solar Storm Hit Earth: कोरोनल होल से आया खतरनाक सौर तूफान, धरती से टकराया, स्पीड जानते हैं...

20 पृथ्वी से अधिक चौड़े एक कोरोनल होल से आया सबसे खतरनाक सौर तूफान धरती से टकराया। तूफान 2.1 मिलियन किमी/घंटा की रफ्तार से अधिक की गति से सौर हवाओं को उगल रहा था।

Edited By: Kajal Kumari
Published on: March 25, 2023 21:40 IST
Strongest solar storm hit earth- India TV Hindi
Image Source : TWITTER (NOAA) धरती से टकराया खतरनाक सौर तूफान

Solar Storm Hit Earth: नेशनल ओशनिक एंड एटमॉस्फेरिक एडमिनिस्ट्रेशन (NOAA) ने जानकारी दी है कि छह साल के बाद पृथ्वी से एक बेहद खतरनाक और शक्तिशाली तूफान टकराया। NOAA ने इसकी तस्वीरें जारी की हैं और कहा कि पृथ्वी से लगभग छह वर्षों में एक शक्तिशाली सौर तूफान टकराया, जिससे पूरे अमेरिका में अरोरा फैल गया। बता दें कि NOAA ने पहले ही इसे लेकर 23 से 25 मार्च के बीच मध्यम जी2 तूफान और जी3 स्थितियों की घोषणा की थी और इससे संबंधित ट्वीट के माध्यम से जारी की थीं। जी2 तूफान और जी3 नहीं बल्कि पृथ्वी ने जी4 परिमाण का एक जियोमेग्नेटिक तूफान देखा, जिससे NOAA ने अपनी चेतावनी को अपडेट किया।

NOAA ने बताया कि ‘जियोमेग्नेटिक तूफान की प्रतिक्रिया में वृद्धि हुई और जी4 का स्तर का तूफान पहली बार 24 मार्च को 12.04 ईडीटी पर पृथ्वी पर पहुंचा।’ लाइव साइंस ने बताया कि यह 20 पृथ्वी से अधिक चौड़े एक कोरोनल होल से आया था, जो 2.1 मिलियन किमी/घंटा से अधिक की गति से सौर हवाओं को उगल रहा था। 

Space.com ने बताया कि तूफान की अप्रत्याशित गति ने न केवल अमेरिका में बल्कि न्यू मैक्सिको के दक्षिण में भी अरोरा फैला दिया, बल्कि इसने स्पेसफ्लाइट कंपनी रॉकेट लैब को लॉन्च में 90 मिनट की देरी करने के लिए भी मजबूर कर दिया। रिपोर्ट में कहा गया है कि हम इस शक्तिशाली भू-चुंबकीय तूफान जैसी अधिक चरम अंतरिक्ष मौसम की घटनाओं की उम्मीद कर सकते हैं, क्योंकि सूरज अपने 11 साल के सौर गतिविधि चक्र में अपने चरम की ओर बढ़ रहा है।

देखें शानदार तस्वीरें 

रिपोर्ट में कहा गया कि ‘सीएमई का प्रभाव जारी है और 24 मार्च को 12:04 पूर्वाह्न ईडीटी (24/0404 यूटीसी) पर जी4 (गंभीर) तूफान के स्तर तक जियोमेग्नेटिक प्रतिक्रिया बढ़ गई है। जी3 चेतावनी सुबह 5:00 ईडीटी (24/0900 यूटीसी) तक प्रभावी रहती है। एनओएए के अनुसार एक शक्तिशाली जियोमेग्नेटिक तूफान पृथ्वी के चुंबकीय क्षेत्र में गंभीर गड़बड़ी का कारण बनता है, कोरोनल मास इजेक्शन (CME) सूर्य के ऊपरी वायुमंडल या कोरोना से आवेशित प्लाज्मा के बड़े निष्कासन से सौर सामग्री उगलता है।

 

एनओएए के अनुसार एक शक्तिशाली भू-चुंबकीय तूफान पृथ्वी के चुंबकीय क्षेत्र में गंभीर गड़बड़ी का कारण बन सकता है, कोरोनल मास इजेक्शन (सीएमई) से सौर सामग्री उगलता है - सूर्य के ऊपरी वायुमंडल या कोरोना से आवेशित प्लाज्मा के बड़े निष्कासन का कारण बनता है। यह सौर तूफान एक "चुपके" सीएमई का परिणाम था। 

ये भी पढ़ें:

Earth Hour 2023: आज रात 8.30 से 9.30 बजे तक एक घंटे अपने घर की 'लाइट्स ऑफ' रखें, जानिए खास वजह

माहे रमजान में आसमान में दिखा दुर्लभ नजारा, चमकीले चांद के नीचे छुपा वीनस, देखकर कहेंगे-वाह

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Around the world News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement