America Pentagon: कई अमेरिकी अधिकारियों को भी नहीं मिलती पेंटागन में एंट्री, लेकिन बिना रुकावट आ सकता है भारत, जानिए इस पांच कोने वाली बिल्गिंड के बारे में खास बातें

America Pentagon: अमेरिका और भारत के संबंध काफी मजबुत हुए हैं। अमेरिकी रक्षा मंत्रालय ने अब भारतीय रक्षा अधिकारियों को बिना किसी प्रतिबंध के पेंटागन में प्रवेश करने की अनुमति दे दी है।

Ravi Prashant Edited By: Ravi Prashant @iamraviprashant
Updated on: August 17, 2022 15:53 IST
America Pentagon- India TV Hindi News
Image Source : TWITTER America Pentagon

Highlights

  • । इस इमारत का निर्माण 11 सितंबर 1941 को शुरू हुआ था
  • इस आतंकी हमले में 184 लोग मारे गए थे
  • 13,000 से अधिक श्रमिकों ने दिन-रात काम किया

America Pentagon: अमेरिका और भारत के संबंध काफी मजबुत हुए हैं। अमेरिकी रक्षा मंत्रालय ने अब भारतीय रक्षा अधिकारियों को बिना किसी प्रतिबंध के पेंटागन में प्रवेश करने की अनुमति दे दी है। ये अधिकारी आमतौर पर एक राजनयिक मिशन से जुड़े एक सैन्य विशेषज्ञ होते हैं। अमेरिकी वायुसेना के सचिव फ्रैंक केंडल ने कहा कि यह बहुत बड़ा फैसला है। उन्होंने कहा, 'अगर किसी को लगता है कि बिना किसी रुकावट के पेंटागन पहुंचना आम बात है तो मैं बता दूं कि मैं भी वहां बिना एस्कॉर्ट के नहीं जा सकता.' आइए जानते हैं 

पेंटागन क्या है?

पेंटागन अमेरिका की रक्षा की रीढ़ है। दो मंजिला भूमिगत मंजिल सहित यह पांच मंजिला और पांच कोण वाली इमारत वाशिंगटन डीसी के पास वर्जीनिया में स्थित है। इसमें अमेरिकी सेना, नौसेना, वायु सेना का कार्यालय भी है। अमेरिका ने इसे द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान बनाया था। पेंटागन का निर्माण 1941-43 के बीच हुआ था। यह सबसे बड़ी इमारतों में से एक है। इसके निर्माण के समय तत्कालीन अमेरिकी पूर्व राष्ट्रपति फ्रैंकलिन डी. रूजवेल्ट ने इसे बिना खिड़कियों के बनाने को कहा था लेकिन बाद में भवन के इंजीनियरों ने उन्हें समझाया कि इस तरह के निर्माण के लिए यह विचार व्यावहारिक नहीं है।

पांच कोण क्यों हैं?
अर्लिंग्टन फार्म को सबसे पहले पेंटागन के निर्माण के लिए चुना गया था, जिसे पेंटागन के आकार का बनाया गया था लेकिन इसके निर्माताओं ने बाद में पाया कि यह अर्लिंग्टन नेशनल सेरेमनी और वाशिंगटन के व्यू ब्लॉक को ब्लॉक कर देगा। हालांकि उस समय तक पंचकोणीय आकृति निश्चित हो चुकी थी, और राष्ट्रपति ने भी इसकी स्वीकृति दे दी थी क्योंकि एरिया पहले से फिक्स कर लिया गया था इसलिए इसे बदला नहीं गया। रूजवेल्ट ने यह भी कहा कि उन्हें यह डिज़ाइन बहुत पसंद आया क्योंकि आज से पहले ऐसा कुछ भी नहीं बनाया गया था। 

13,000 श्रमिकों ने बनाया भवन
प्रथम विश्व युद्ध के दौरान सैन्य कार्यालय को एक केंद्र से जोड़ना अमेरिका के लिए एक आवश्यकता बन गया। 13,000 से अधिक श्रमिकों ने दिन-रात काम किया। मात्र 8 महीनों में पेंटागन इतना अधिक हो गया था कि तत्कालीन युद्ध सचिव हेनरी स्टिमसन ने अपना कार्यालय स्थानांतरित कर दिया था। एक रिपोर्ट के अनुसार इसे 1943 में 83 मिलियन डॉलर की लागत से पूरा किया गया था। यह इतना विशाल था कि यह उस समय का सबसे बड़ा कार्यालय भवन था। यह 29 एकड़ में बना है जिसमें 25,000 लोग काम कर सकते हैं। इसके बीच में पांच एकड़ का पार्क है।

सार्वजनिक पेंटागन भी 9/11 से जुड़ा हुआ है
पेंटागन से जुड़ा एक संयोग है। इस इमारत का निर्माण 11 सितंबर 1941 को शुरू हुआ था। 9/11 के हमले इस तारीख के 60 साल बाद हुए थे। इस दौरान पेंटागन बिल्डिंग पर अमेरिकन एयरलाइंस का हाईजैक प्लेन भी क्रैश हो गया। विमान दुर्घटना के कारण पहली मंजिल तक की इमारत का एक हिस्सा क्षतिग्रस्त हो गया। विशेषज्ञों का मानना ​​है कि डिजाइन की वजह से पेंटागन सुरक्षित रूप से जीवित रह सका। पेंटागन में हुए इस आतंकी हमले में 184 लोग मारे गए थे, जिनमें से 120 पेंटागन के कर्मचारी थे।

Latest World News

navratri-2022