1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. विदेश
  4. अमेरिका
  5. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने 'मेक इन इंडिया' से 'मेक फॉर द वर्ल्ड' की ओर तेज़ी से बढ़ने का किया आह्वान

वाशिंगटन डीसी पहुंचे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने 'मेक इन इंडिया' से 'मेक फॉर द वर्ल्ड' की ओर तेज़ी से बढ़ने का किया आह्वान

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने वाशिंगटन डीसी पहुंचने के बाद अमेरिकी एयरोस्पेस और रक्षा प्रमुख बोइंग और रेथियॉन से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने कंपिनयों को भारत में नीतिगत पहलों का लाभ उठाने के लिए 'मेक इन इंडिया' से 'मेक फॉर द वर्ल्ड' की ओर तेज़ी से बढ़ने का आह्वान किया।

IndiaTV Hindi Desk Edited by: IndiaTV Hindi Desk
Updated on: April 11, 2022 9:58 IST
'मेक इन इंडिया' से 'मेक फॉर द वर्ल्ड' की ओर - India TV Hindi
Image Source : ANI 'मेक इन इंडिया' से 'मेक फॉर द वर्ल्ड' की ओर 

Highlights

  • पांच दिवसीय अमेरिका दौरे पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह
  • अमेरिकी एयरोस्पेस और रक्षा प्रमुख बोइंग और रेथियॉन से मुलाकात की
  • 'मेक इन इंडिया' से 'मेक फॉर द वर्ल्ड' की ओर बढ़ने का किया आह्वान

Washington DC: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने वाशिंगटन डीसी पहुंचने के बाद अमेरिकी एयरोस्पेस और रक्षा प्रमुख बोइंग और रेथियॉन से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने कंपिनयों को भारत में नीतिगत पहलों का लाभ उठाने के लिए 'मेक इन इंडिया' से 'मेक फॉर द वर्ल्ड' की ओर तेज़ी से बढ़ने का आह्वान किया। 

बता दें, रक्षा मंत्री अपनी पांच दिवसीय अमेरिकी यात्रा तहत रविवार को वाशिंगटन डीसी पहुंचे। राजनाथ सिंह की यात्रा में भारत-अमेरिका 2+2 मंत्रिस्तरीय वार्ता शामिल है। रक्षा मंत्री ने शनिवार को एक ट्वीट में अपनी इस यात्रा के बारे में जानकारी दी थी। उन्होंने लिखा था- 'मैं 10 अप्रैल से 15 अप्रैल तक संयुक्त राज्य अमेरिका की यात्रा के लिए आज रात नयी दिल्ली से प्रस्थान करूंगा। मैं वाशिंगटन डीसी में चौथे भारत-अमेरिका 2+2 मंत्रिस्तरीय संवाद में भाग लेने के लिए उत्सुक हूं। इसके अलावा मैं INDOPACOM मुख्यालय का दौरा करूंगा।' 

वहीं विदेश मंत्री एस जयशंकर भी 11-12 अप्रैल को अमेरिका का दौरा करेंगे। वे अपने समकक्ष विदेश मंत्री ब्लिंकन से अलग से भी मुलाकात करेंगे। फिर भारत-अमेरिका रणनीतिक वैश्विक साझेदारी को आगे बढ़ाने के लिए अमेरिकी प्रशासन के वरिष्ठ सदस्यों से भी मुलाकात करेंगे। इस दौरे की जानकारी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने एक ब्रीफिंग के दौरान दी।