1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. हेल्थ
  4. इन लोगों को ज्यादा हल्दी खाने से करना चाहिए परहेज, हो सकती हैं ये परेशानियां

इन लोगों को ज्यादा हल्दी खाने से करना चाहिए परहेज, हो सकती हैं ये परेशानियां

यूं तो हल्दी को आयुर्वेद में सेहत के लिए रामबाण मसाला कहा गया है लेकिन वहीं कुछ लोगों को हल्दी के ज्यादा सेवन के प्रति सचेत भी किया गया है।

India TV Health Desk Edited by: India TV Health Desk
Published on: January 25, 2022 15:40 IST
turmeric- India TV Hindi
Image Source : INDIA TV turmeric

Highlights

  • एनीमिया के रोगियो को हल्दी का कम ही सेवन करना चाहिए
  • पीलिया से पीड़ित लोग हल्दी का कम करें सेवन

हल्दी हमारे किचन का एक मसाला भर नहीं है। आयुर्वेद में हल्दी को एक अच्छा सेहतमंद मसाला कहा गया है जो सेहत से जुड़ी कई बीमारियों में रामबाण माना जाता है। इम्यूनिटी बूस्ट करने के साथ साथ मौसमी बीमारियों से  बचाने के साथ साथ हल्दी खूबसूरती भी बढ़ाती है कई बड़ी बीमारियों की रोकथाम में भी काफी फायदेमंद है। 

लेकिन हर चीज की तरह हल्दी को भी ज्यादा खा लेना गलत है। इसके ज्यादा सेवन से कई परेशानियां पैदा हो सकती हैं।  खासकर सेहत संबंधी कॉम्प्लिकेशन से जूझ रहे लोगों को हल्दी का सोच समझकर सेवन करना चाहिए। 

चलिए जानते हैं कि किन हालात में हल्दी का ज्यादा सेवन नहीं करना चाहिए। 

हाई ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने के लिए पार्सले असरदार, इन घरेलू चीजों का भी है जबर्दस्त रोल

डायबिटीज के मरीज

यूं तो डायबिटीज और हल्दी का आपस में कोई संबंध नहीं दिखता लेकिन ऐसे मरीजों को ज्यादा हल्दी का सेवन करने की सलाह आयुर्वेद नहीं देता, जो खून पतला करने की दवाएं ले रहे हैं। दरअसल हल्दी का सेवन करने से शरीर में खून के थक्के नहीं जमते और अगर मरीज इसी बात के लिए किसी दवा का सेवन कर रहा है तो सीमा से ज्यादा हल्दी का सेवन उसके लिए नुकसानदेय हो सकता है। 

पीलिया के मरीज
पीलिया के मरीज हैं तो हल्दी का सेवन सोच समझ कर ही करें। आमतौर पर ज्वाइंडिस यानी पीलिया की बीमारी के वक्त डॉक्टर भी हल्दी से परहेज रखने को कहते हैं, इसलिए अगर पीलिया के मरीज हैं तो इसके सेवन से पहले अपने डॉक्टर से जरूर बात कर लें।

पथरी के मरीज
जी हां, जिन लोगों को बार बार पथरी की समस्या होती है, उन्हें हल्दी के संयमित सेवन की सलाह दी जाती है। दरअसल हल्दी में घुलनशील ऑक्सालेट के उच्च स्तर होते हैं जो आसानी से कैल्शियम से जुड़ सकते हैं और अघुलनशील कैल्शियम ऑक्सलेट बना सकते हैं। अघुलनशील कैल्शियम ऑक्सालेट किडनी की 75% परेशानियों की वजह निकलता है। 

रक्तस्राव की समस्या वाले
जिन लोगों को नकसीर या ब्लीडिंग की दिक्कत ज्यादा होती है उन्हें भी ज्यादा हल्दी के सेवन से बचने की सलाह दी जाती है। 

एनीमिया के मरीज
जिन लोगों के भीतर खून की कमी है उन्हें भी हल्दी की कम ही सेवन करना चाहिए। दरअसल ज्यादा हल्दी के सेवन से शरीर में आयरन का अब्जार्शन बढ़ जाता है और इससे एनीमिया के बढऩे की समस्या पैदा हो जाती है।

वृद्ध लोग जो खून पतला करने की दवा ले रहे हों
वो लोग या वृद्ध जो खून पतला करने की दवा ले रहे हों, उन्हें भी हल्दी का कम ही सेवन करना चाहिए। क्योंकि हल्दी भी यही काम करती है और अगर दवा के साथ इसका सेवन जारी किया गया तो परेशानी बढ़ सकती है।

Disclaimer: यह जानकारी आयुर्वेदिक नुस्खों के आधार पर लिखी गई है। इंडिया टीवी इनके सफल होने या इसकी सत्यता की पुष्टि नहीं करता है। इनके इस्तेमाल से पहले चिकित्सक का परामर्श जरूर लें।  

erussia-ukraine-news