Punjab News: अमृतसर में SI की बोलेरो गाड़ी के नीचे रखा बम, CCTV में कैद हुई वारदात

Punjab News: पुलिस अधिकारियों ने मंगलवार को बताया कि रंजीत एवेन्यू इलाके में एक कार क्लीनर ने पुलिस के सब-इसंपेक्टर दिलबाग सिंह की गाड़ी के नीचे विस्फोटक सामान देखा।

Swayam Prakash Edited By: Swayam Prakash @@SwayamNiranjan
Updated on: August 17, 2022 6:26 IST

Highlights

  • अमृतसर में पुलिस अधिकारी की गाड़ी के नीचे बम
  • सीसीटीवी फुटेज में बाइक से दिखे दो नकाबपोश लोग
  • पुलिस ने मौके से एक डेटोनेटर भी बरामद किया

Punjab News: पंजाब के अमृतसर में एक पुलिस अधिकारी की एसयूवी कार बोलेरो के नीचे विस्फोटक सामग्री रखने की खबर सामने आई है। पुलिस अधिकारियों ने मंगलवार को बताया कि रंजीत एवेन्यू इलाके में एक कार क्लीनर ने पुलिस के सब-इसंपेक्टर दिलबाग सिंह की गाड़ी के नीचे विस्फोटक सामान देखा। पुलिस ने बताया कि सीसीटीवी फुटेज से पता चलता है कि मोटरसाइकिल सवार दो अज्ञात लोगों ने एसयूवी के नीचे विस्फोटक सामग्री रखी और फिर मौके से फरार हो गए। 

बोलेरो के नीचे बम, मौके से मिला डेटोनेटर 

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि बम निरोधक दस्ते के साथ भारी पुलिस बल मौके पर पहुंचा और विस्फोटक सामग्री को निष्क्रिय कर दिया। पुलिस ने कहा कि विस्फोटक सामग्री रखने वाले लोगों का पता लगाने के लिए जांच की जा रही है। पुलिस ने बताया कि एसआई दिलबाग सिंह की गाड़ी के नीचे बम लगया गया है और मौके से एक डेटोनेटर बरामद हुआ है। 

गाड़ी साफ करने वाले को मिला था बम
इस पूरी घटना का वीडियो सीसीटीवी में कैद हो गया है। सीसीटीवी फुटेज में साफ दिख रहा है कि दो अज्ञात लोग बाइक पर बैठकर आए हैं और पुलिस अधिकारी के घर के बाहर खड़ी हरे रंग की बोलेरो गाड़ी के नीचे बम लगा दिया। सबके होश तब उड़ गए जब इसकी जानकारी सुबह गाड़ी साफ करने आए युवक ने एसआई को दी। गाड़ी साफ करने वाले की सूजबूझ की वजह से अमृतसर में बम धमाका होने से बच गया।

आतंकवाद के खिलाफ एक्टिव रहे दिलबाग सिंह 
बताते चलें कि पंजाब पुलिस के सब इंसपेक्टर दिलबाग सिंह आतंकवाद के दौर में काफी एक्टिव रहे हैं और शादय यही वजह है कि उन्हें निशाना बनाने की कोशिश की गई है। सोमवार की रात CCTV में मोटरसाइकल पर दो लोग गाड़ी में बम लगाते कैद हुए हैं। इस फुटेज में दो अज्ञात लोग सफेद कुर्ता पहनकर गाड़ी के नीच बम लगाते हुए दिखे हैं। इस घटना को लेकर खुद एसआई ने कहा कि इससे पहले भी कई बार उन्हें धमकी मिली थी और इसकी जानकारी उन्होंने पुलिस को दे दी थी। खुद दिलबाग सिंह ने बताया कि उन्होंने आतंकवाद के खिलाफ काम किया था और उन्हें पांच जून को धमकी मिली थी। दल खालसा का उन्होंने जिक्र किया और इसकी जानकारी उन्होंने पुलिस के अधिकारियों को दी थी।

Latest India News

navratri-2022