1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. उत्तर प्रदेश
  5. बहुजन समाज पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव ने की अखिलेश यादव से मुलाकात

बहुजन समाज पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव ने की अखिलेश यादव से मुलाकात

पूर्व में विधायक और विधान परिषद सदस्य रह चुके कुशवाहा ने वर्ष 2009 में रायबरेली से कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया गांधी के खिलाफ चुनाव लड़ा था।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Updated on: September 27, 2021 20:16 IST
Bahujan Samaj Party National General Secretary R S Kushwaha meet Akhilesh Yadav- India TV Hindi
Image Source : TWITTER-@SAMAJWADIPARTY बीएसपी के राष्ट्रीय महासचिव आर. एस. कुशवाहा ने सोमवार को एसपी अध्यक्ष अखिलेश यादव से मुलाकात की।

लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) के राष्ट्रीय महासचिव आर. एस. कुशवाहा ने सोमवार को समाजवादी पार्टी (एसपी) अध्यक्ष अखिलेश यादव से मुलाकात की। कुशवाहा ने एसपी राज्य मुख्यालय में अखिलेश से मुलाकात की। उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव से पहले हुई इस मुलाकात को लेकर तरह-तरह के कयास लगाए जा रहे हैं। एसपी ने दोनों नेताओं के बीच बैठक की एक तस्वीर टैग करते हुए ट्वीट किया, "बीएसपी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष आर एस कुशवाहा ने पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव से शिष्टाचार मुलाकात की।"

कुशवाहा ने कहा, "हां मैंने अखिलेश जी से मुलाकात की। यह एक शिष्टाचार भेंट थी।" हालांकि, उन्होंने एसपी मुखिया से हुई बातचीत के बारे में विस्तार से कुछ भी नहीं बताया। लखीमपुर के रहने वाले कुशवाहा ने वर्ष 2018 में एसपी और बीएसपी के बीच महागठबंधन के दौरान बीएसपी के प्रदेश अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी निभाई थी।

पूर्व में विधायक और विधान परिषद सदस्य रह चुके कुशवाहा ने वर्ष 2009 में रायबरेली से कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया गांधी के खिलाफ चुनाव लड़ा था। इससे पहले, बीएसपी से निष्कासित किए जा चुके वरिष्ठ नेता लालजी वर्मा और राम अचल राजभर ने भी पिछले हफ्ते अखिलेश से मुलाकात की थी। उस बैठक को भी एक शिष्टाचार भेंट कहा गया था।

उस वक्त ऐसी अटकलें लगाई गई थीं कि वर्मा और राजभर एसपी के टिकट पर अगला विधानसभा चुनाव लड़ सकते हैं। लालजी वर्मा जहां बीएसपी विधायक दल के नेता थे, वहीं राजभर इसी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष रह चुके हैं। वर्मा और राजभर को बीएसपी प्रमुख मायावती ने गत तीन जून को पार्टी विरोधी गतिविधियों में लिप्त होने के आरोप में दल से निष्कासित कर दिया था। गौरतलब है कि एसपी और बीएसपी दोनों ने ही ऐलान किया है कि वे वर्ष 2022 का उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव अपने-अपने बलबूते पर लड़ेंगी।

ये भी पढ़ें

Click Mania
bigg boss 15