Wednesday, July 03, 2024
Advertisement
  1. Hindi News
  2. पैसा
  3. मेरा पैसा
  4. Investment: निवेश करने से पहले यहां समझें SIP के प्रकार, जानें किस ऑप्शन में क्या होते हैं प्रावधान

Investment: निवेश करने से पहले यहां समझें SIP के प्रकार, जानें किस ऑप्शन में क्या होते हैं प्रावधान

एक रेगुलर एसआईपी एक व्यवस्थित निवेश योजना का सबसे आसान रूप है। इसमें आपको नियमित अंतराल पर पैसे डालने होते हैं। आप चाहें तो मासिक, द्वि-मासिक, त्रैमासिक या अर्ध-वार्षिक ऑप्शन चुन सकते हैं।

Written By: Sourabha Suman @sourabhasuman
Updated on: June 20, 2024 8:21 IST
टॉप-अप एसआईपी को स्टेप-अप एसआईपी के नाम से भी जाना जाता है।- India TV Paisa
Photo:FILE टॉप-अप एसआईपी को स्टेप-अप एसआईपी के नाम से भी जाना जाता है।

सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान यानी एसआईपी, म्यूचुअल फंड में लंबी अवधि के लिए निवेश करने का एक तरीका है। इसके जरिये निवेश काफी आसान होता है। एसआईपी अलग-अलग प्रकार के हैं, जिनमें आप निवेश करना चुन सकते हैं। एसआईपी निवेशकों को पूर्व निर्धारित अंतराल पर निश्चित राशि निवेश करने की अनुमति देता है। आइए, यहां इसके प्रकार पर चर्चा करते हैं, ताकि निवेश में आपको आसानी हो सके।

रेगुलर एसआईपी

एक रेगुलर एसआईपी एक व्यवस्थित निवेश योजना का सबसे आसान रूप है। इसमें आपको नियमित अंतराल पर पैसे डालने होते हैं। आप चाहें तो मासिक, द्वि-मासिक, त्रैमासिक या अर्ध-वार्षिक ऑप्शन चुन सकते हैं। आपके द्वारा किए गए योगदान को फिर आपकी पसंद के म्यूचुअल फंड में निवेश किया जाता है। जब आप इस एसआईपी को ऑनलाइन ओपन करते हैं, तो आपको अवधि, योगदान राशि और फ्रीक्वेंसी चुनने का ऑप्शन दिया जाता है। हां, एक बार जब आप तय राशि चुन लेते हैं, तो आप इसे बाद में नहीं बदल सकते।

फ्लेक्सिबल एसआईपी  

फ्लेक्सी एसआईपी यानी लचीला एसआईपी के नाम से जानी जाने वाली एक लचीली व्यवस्थित निवेश योजना एक रेगुलर एसआईपी की तरह ही होती है। मोतीलाल ओसवाल के मुताबिक, हालांकि, दोनों के बीच एकमात्र अंतर निवेश राशि का है। एक फ्लेक्सी स्कीम में, आप किसी भी समय उस राशि को एडजस्ट या बदल सकते हैं जो आप इसमें करना चाहते हैं। आपको निवेश राशि बदलने की अनुमति देकर, फ्लेक्सी एसआईपी आपको एक नियमित योजना के मुकाबले अपने निवेश पर ज्यादा कंट्रोल प्रदान करते हैं।

टॉप-अप एसआईपी

टॉप-अप एसआईपी को स्टेप-अप एसआईपी के नाम से भी जाना जाता है। ऐसी व्यवस्थित निवेश योजना आपको कुछ पूर्व निर्धारित अंतराल पर अपना योगदान बढ़ाने की परमिशन देती है। जैसे, आप हर महीने 5,000 रुपये का निवेश करके शुरुआत कर सकते हैं और फंड हाउस को यह निर्देश दे सकते हैं कि वह कार्यकाल के आखिर तक हर छह महीने में योगदान की राशि में 1,000 रुपये की बढ़ोतरी करे। एसआईपी के पहले छह महीनों में आप हर महीने 5,000 रुपये का योगदान करेंगे और अगले छह महीनों के लिए आप हर महीने 6,000 रुपये का योगदान करेंगे। यह एसआईपी अवधि के आखिर तक चलता रहता है।

ट्रिगर एसआईपी   

ट्रिगर एसआईपी सिर्फ तभी म्यूचुअल फंड में ऑनलाइन निवेश करता है जब कोई निर्दिष्ट घटना घटित होती है। यह निर्दिष्ट घटना अनुकूल बाजार आंदोलनों, इंडेक्स लेवल या यहां तक ​​कि एनएवी लेवल से कुछ भी हो सकती है। जैसे आप सिर्फ तभी निवेश शुरू करने के लिए ट्रिगर एसआईपी सेट कर सकते हैं जब म्यूचुअल फंड का एनएवी स्तर एक विशेष स्तर से नीचे चला जाए।इसमें सलाह यह है कि आपको इस तरह की स्कीम को तभी चुनना चाहिए जब आपने शेयर बाजार के बारे में पर्याप्त जानकारी और विशेषज्ञता हासिल कर ली हो।  

कॉन्टिन्यूअस एसआईपी

कॉन्टिन्यूअस एसआईपी की कोई निश्चित अवधि नहीं होती। जब तक व्यक्ति रेगुलर अंतराल पर निवेश करता रहता है, तब तक निवेश योजना जारी रहती है। यह तभी बंद होती है जब निवेशक फंड हाउस को स्टॉप इंस्ट्रक्शन देता है। साथ ही कॉन्टिन्यूअस एसआईपी और नियमित योजना के बीच बहुत ज़्यादा अंतर नहीं है।

Latest Business News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Personal Finance News in Hindi के लिए क्लिक करें पैसा सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement