Som Pradosh Vrat 2022: सोम प्रदोष व्रत के दिन करें ये उपाय, शिवजी दूर करेंगे हर परेशानी

Som Pradosh Vrat 2022: इस साल 21 नवंबर को सोम प्रदोष का व्रत रखा जाएगा। इस व्रत के करने से शिवजी भक्तों की हर इच्छा पूर्ण करते हैं। साथ ही प्रदोष व्रत के दिन कुछ विशेष उपाय अपनाने से जीवन की पर परेशानी दूर होती है।

Written By : Acharya Indu Prakash Edited By : Vineeta MandalPublished on: November 20, 2022 0:07 IST
Som Pradosh Vrat 2022 - India TV Hindi
Image Source : INDIA TV Som Pradosh Vrat 2022

Som Pradosh Vrat 2022: सोमवार को द्वादशी तिथि सुबह 10 बजकर 7 मिनट तक रहेगी, उसके बाद त्रयोदशी तिथि लग जाएगी। आप सभी जानते हैं कि हर माह के कृष्ण और शुक्ल, दोनों पक्षों की त्रयोदशी को प्रदोष व्रत होता है। सप्ताह के सातों दिनों में से जिस दिन प्रदोष व्रत पड़ता है, उसी के नाम पर उस प्रदोष का नाम रखा जाता है। सोमवार के दिन सोम प्रदोष का व्रत पड़ रहा है। किसी भी प्रदोष व्रत में प्रदोष काल का बहुत महत्व होता है और त्रयोदशी आज रात के समय रहेगी। इसलिए प्रदोष व्रत आज ही के दिन किया जाएगा। प्रदोष व्रत के दिन भगवान शंकर की पूजा करनी चाहिए। कहते हैं आज के दिन जो व्यक्ति भगवान शंकर की पूजा करता है और प्रदोष व्रत करता है, वह सभी पापकर्मों से मुक्त होकर पुण्य को प्राप्त करता है और उसे उत्तम लोक की प्राप्ति होती है।

अच्छी सेहत और जीवन के लिए

सुबह स्नान आदि रोजमर्रा के कार्यों से निवृत्त होकर अपने घर के आस-पास किसी शिव मंदिर में जाएं और वहां जाकर शुद्ध जल में दूध और गंगाजल डालकर

शिवलिंग पर चढ़ाएं। साथ ही भगवान से अपनेअच्छे स्वास्थ्य और बेहतर जीवन के लिए प्रार्थना करें।

धन के लिए 

सोम प्रदोष के दिन सवा किलो साबुत चावल लें और उनमें से कुछ चावल शिव मंदिर में चढ़ाएं और बाकी चावलों को किसी जरूरतमंद में बांट दें। आज के दिन ऐसा करने से आपके धन के भंडार हमेशा भरे रहेंगे। 

परिवार की खुशहाली के लिए

अगर अपने घर के सदस्यों की खुशहाली और तरक्की चाहते है तो आज सुबह स्नान आदि के बाद शिव मन्दिर जाकर सबसे पहले शिवलिंग पर शुद्ध जल चढ़ाएं और धूप-दीप आदि से भगवान की पूजा करें। शाम के समय फिर से संभव हो तो स्नान करके साफ कपड़े पहनकर शिव मंदिर जाएं। अगर दोबारा स्नान नहीं कर सकते तो केवल हाथ-पैर धोकर, साफ-सुथरे कपड़े पहनकर मंदिर में जाएं और वहां जाकर ठीक सुबह की तरह धूप-दीप आदि से भगवान शंकर की पूजा करें। अगर दोनों समय पूजा करना आपके लिये संभव नहीं है तो केवल शाम के समय शिव पूजा करें और सुबह घर पर ही भगवान का आशीर्वाद ले लें।

मानसिक रूप से शांति के लिए

अगर मानसिक रूप से शांति प्राप्त के लिए और अपने अंदर पॉजिटिव ऊर्जा की बढ़ोतरी करना चाहते हैं तो आज सुबह के समय भगवान शिव की मूर्ति या तस्वीर के आगे आसन बिछाकर बैठ जाएं। मूर्ति स्थापना और आसन बिछाते समय इस बात का ध्यान रखें कि आसन पर बैठते समय आपका मुंह पूर्व दिशा की तरफ होना चाहिए और भगवान की प्रतिमा ठीक आपके सामने होनी चाहिए। इस तरह सब अच्छे से व्यवस्थित होने के बाद केवल “ऊँ” शब्द का तेज आवाज में गहरी सांस लेकर उच्चारण करें। ऐसा कम से कम 11 बार करना चाहिए।

पुरानी बीमारी से जल्द छुटकारा के लिए

अगर आपको या आपके परिवार के किसी भी सदस्य को कोई पुरानी बीमारी है और आप उससे जल्द से जल्द छुटकारा पाना चाहते हैं, तो आज शाम के समय घर में किसी एकांत जगह परआसन बिछाकर बैठ जायें और महामृत्युंजय मंत्र का 11 बार जाप करें। मंत्र है-

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्।
उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥

मंत्र जाप करते समय इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि आपके सामने कोई न आए और जाप के बाद सबसे पहले भगवान शिव के दर्शन करने चाहिए।

एक अच्छे जीवन के लिए

अगर आप समाज में अपना प्रभाव और अपना रुतबा कायम के लिए साथ ही राजा के समान जीवन जीना चाहते हैं तो आज के दिन बालू, राख, गुड़ और
मक्खन मिलाकर शिवलिंग बनाएं और उसका विधि-विधान से पूजन करें। बाद में उस बालू, राख से बनी शिवलिंग को शिव मन्दिर में जाकर रख आएं। इस प्रकार शिवलिंग बनाने और उसकी पूजा करने से समाज में आपका रुतबा बढ़ेगा और आप एक अच्छा जीवन बीताएंगे।

शत्रुओं पर जीत के लिए

अगर आप अपने शत्रुओं को परास्त करना चाहते है और मुकदमे में जीत हासिल करना चाहते हैं तो आज शिवलिंग पर ‘ऊँ नमः शिवाय’ बोलते हुए धतूरा चढ़ाएं। प्रदोष व्रत के दिन ऐसा करने से आपको शत्रुओं पर विजय मिलेगी और मुकदमे में जीत हासिल होगी।

मनचाहा पार्टनर के लिए

आगर आप मनचाहा जीवनसाथी पाना चाहते है और अगर आपकी पहले से शादी हो चुकी है तो उसमें प्यार को बरकरार रखना चाहते है तो आज दूध में थोड़ा-सा केसर और कुछ फूल डालकर शिवलिंग पर चढ़ाएं। ऐसा करने से आपको मनचाहा जीवनसाथी मिलेगा और आप दोनों के बीच प्यार बना रहेगा।

नहीं लगेगी किसी की नजर

अगर आप चाहते है की आपके घर की सुख-समृद्धि को किसी की नजर ना लगे। इसके लिए आज के दिन हाथ में जौ का आटा लेकर भगवान शंकर के चरणों में स्पर्श कराकर, बाद में उस जौ के आटे की रोटियां बना लें और गाय के बछड़े या बैल को खिला दें। आज के दिन ऐसा करने से घर की सुख-समृद्धि को किसी की नजर नहीं लगेगी।

संतान की तरक्की के लिए

अगर आप अपने किसी महत्वपूर्ण काम में सफलता पाना चाहते है तो आज बेल पत्र से भगवान शंकर का पूजन करें। शिवलिंग पर बेल पत्र चढ़ाते समय “ऊँ नमः शिवाय” मंत्र का जाप जरूर करें। आज के दिन ऐसा करने से आपको और आपकी संतान की तरक्की जरूर होगी।

तरक्की के लिए

अगर आप अपने बिजनेस की बढ़ोतरी चाहते है तो आज रंगोली वाले पांच अलग-अलग रंग लें। शाम के समय शिव मंदिर में जाकर उन रंगों से एक छोटी सी गोल आकृति में रंगोली बनाएं। अब इस रंगोली के बींचो-बीच घी का दीपक जलाएं और अपने बिजनेस की बढ़ोतरी के लिये भगवान से प्रार्थना करें। आज के दिन ऐसा करने से आपकी दिन-दुगनी, रात-चौगनी तरक्की होगी।

नहीं होगा किसी तरह का भय

अगर आपको हर समय किसी न किसी चीज का भय बना रहता है तो आज शाम के समय शिव जी की प्रतिमा के आगे दीपक जलाकर, आसन बिछाकर पश्चिम दिशा की ओर मुंह करके बैठना चाहिए। संभव हो तो रुद्राक्ष या चंदन की माला से “ऊँ नमः शिवाय” मंत्र का जाप करें। अगर आपके पास रुद्राक्ष या चंदन की माला उपलब्ध नहीं है तो करमाला पर गिनकर 108 बार मंत्र का जाप कर लें। आज के दिन ऐसा करने से आपको कभी किसी चीज का भय नहीं होगा और स्वयं के अंदर एक नई ऊर्जा महसूस करेंगे।

(आचार्य इंदु प्रकाश देश के जाने-माने ज्योतिषी हैं, जिन्हें वास्तु, सामुद्रिक शास्त्र और ज्योतिष शास्त्र का लंबा अनुभव है। इंडिया टीवी पर आप इन्हें हर सुबह 7।30 बजे भविष्यवाणी में देखते हैं।)

ये भी पढ़ें-

फेंगशुई ऊंट से घर आएगी सुख, समृद्धि और खुशहाली, जानें इससे जुड़े नियम

Utpanna Ekadashi Upay: उत्पन्ना एकादशी पर तुलसी से जुड़ा ये उपाय करने पर वैवाहिक जीवन में घुलेगी मिठास, साथ ही सभी समस्याएं होंगी दूर

Vastu Tips: इस दिशा में सीढ़ियां बनवाने से आती है कई तरह की परेशानियां, हो जाएं सतर्क

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Vastu Tips News in Hindi के लिए क्लिक करें धर्म सेक्‍शन