उत्तर कोरिया के परमाणु परीक्षण का ऐसे जवाब देगा अमेरिका, जानें क्यों सनके हैं किम जोंग उन ?

US On N. Korea nuclear test:अमेरिका की बार-बार चेतावनी के बाद किम जोंग की सनक उतरने का नाम नहीं ले रही। सनकी तानाशाह ने तमाम अमेरिकी प्रतिबंधों के बीच धड़ाधड़ मिसाइल परीक्षण के सिलसिले को जारी रखा है। अब किम जोंग ने परमाणु परीक्षण करने की तैयारी शुरू कर दी है। इससे अमेरिका में हलचल मची है।

Dharmendra Kumar Mishra Edited By: Dharmendra Kumar Mishra @dharmendramedia
Published on: November 05, 2022 14:46 IST
किम जोंग उन (फाइल फोटो)- India TV Hindi
Image Source : AP किम जोंग उन (फाइल फोटो)

US On N. Korea nuclear test:अमेरिका की बार-बार चेतावनी के बाद किम जोंग की सनक उतरने का नाम नहीं ले रही। सनकी तानाशाह ने तमाम अमेरिकी प्रतिबंधों के बीच धड़ाधड़ मिसाइल परीक्षण के सिलसिले को जारी रखा है। अब किम जोंग ने परमाणु परीक्षण करने की तैयारी शुरू कर दी है। इससे अमेरिका में हलचल मची है। अमेरिका रक्षामंत्रालय पेंटागन के हवाले से कहा गया है कि अमेरिका आवश्यक होने पर उत्तर कोरिया द्वारा भविष्य में किए जाने वाले परमाणु परीक्षण का जवाब देगा। समाचार एजेंसी योनहाप की रिपोर्ट के अनुसार रक्षा विभाग की उप प्रवक्ता सबरीना सिंह ने निकट भविष्य में उत्तर कोरियाई परमाणु परीक्षण की संभावना पर प्रकाश डालते हुए यह टिप्पणी की।

उत्तर कोरिया के परमाणु परीक्षण की संभावना के बारे में पूछे जाने पर सिंह ने कहा, हम इस क्षेत्र में अपने सहयोगियों और भागीदारों के साथ संपर्क में हैं और अगर ऐसा कोई परीक्षण होता है, तो जरूरत पड़ने पर हम तुरंत जवाब देंगे। इसके पहले सियोल और वाशिंगटन की ओर से कहा गया था कि उत्तर कोरिया ने अपने सातवें परमाणु परीक्षण के लिए सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं। पेंटागन के प्रवक्ता ने एक दैनिक प्रेस वार्ता में कहा,हम उत्तर कोरिया की परमाणु परीक्षण की संभावनाओं को लेकर चिंतित हैं। हम जानते हैं कि उत्तर कोरिया ने परीक्षण की तैयारी कर ली है। हमने यह बात पहले भी कही थी।

सातवां परमाणु परीक्षण करने जा रहा कोरिया

अमेरिका के रक्षा सचिव लॉयड ऑस्टिन ने गुरुवार को दक्षिण कोरिया के रक्षा मंत्री ली जोंग-सुप के साथ बैठक में उल्लेख किया था कि प्योंगयांग द्वारा अमेरिका या उसके सहयोगियों के खिलाफ परमाणु हमले का परिणाम उत्तर कोरियाई शासन का अंत होगा। ऑस्टिन ने कोरियाई प्रायद्वीप में और उसके आसपास उत्तर कोरियाई उकसावे को रोकने या उनका मुकाबला करने के लिए अमेरिकी बलों की तैयारी पर भी सहमति व्यक्त की। यह पूछे जाने पर कि अमेरिका ने इस क्षेत्र में अपनी रणनीतिक उपस्थिति को बढ़ाने की योजना कैसे बनाई है, सिंह ने टिप्पणी करने से इनकार कर दिया, लेकिन संयुक्त सैन्य अभ्यास के महत्व पर प्रकाश डाला। उल्लेखनीय है कि उत्तर कोरिया अपना सातवां परमाणु परीक्षण करने जा रहा है।

अमेरिका ने कहा दक्षिण कोरिया के साथ सैन्य अभ्यास से घबराया है उत्तर कोरिया
दक्षिण कोरिया और अमेरिका के संयुक्त सैन्य अभ्यास का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि अमेरिका की सैन्य रणनीतियों के संबंध में बताने के लिए आज मेरे पास कुछ नहीं है, लेकिन चल रहा संयुक्त सैन्य अभ्यास विजिलेंट स्टॉर्म खुद बोलता है। उन्होंने कहा, इन अभ्यासों से हमारा विश्वास बढ़ता है और हम आगे भी दक्षिण कोरिया या जापान के साथ अभ्यास जारी रखेंगे। व्हाइट हाउस राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के प्रवक्ता जॉन किर्बी ने उत्तर कोरिया के लगातार उकसावे के बाद कोरियाई प्रायद्वीप पर बढ़ते तनाव के बीच रक्षा तैयारियों और क्षमताओं के महत्व को भी रेखांकित किया। पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि हम इन उकसावों के बारे में चिंतित हैं। यह सब प्रायद्वीप और इस क्षेत्र को और अधिक असुरक्षित और अस्थिर बना रहा है। प्योंगयांग ने इस साल 50 से अधिक बैलिस्टिक मिसाइलें दागी हैं, इनमें सितंबर के अंत से अब तक एक दर्जन से अधिक मिसाइलें शामिल हैं।

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Around the world News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन