Sunday, May 26, 2024
Advertisement

महंगाई और बिजली बिल के खिलाफ व्यापारियों की देशव्यापी हड़ताल से हिल गया पाकिस्तान, प्रदर्शनकारियों ने लगाई आग

पाकिस्तान में मंहगे बिजली बिल और आसमान छूते खाद्य वस्तुओं के दाम ने आम जनता की कमर तोड़ दी है। व्यापारी भी महंगे बिजली बिलों से तंग आ गए हैं। इसलिए पाकिस्तानी व्यापारियों ने शनिवार को देशव्यापी हड़ताल की। इस दौरान सभी प्रतिष्ठान और दुकानों को बंद रखा गया। प्रदर्शनकारियों ने सड़क पर टायर जलाकर अपने गुस्से का इजहार किया।

Written By: Dharmendra Kumar Mishra @dharmendramedia
Published on: September 02, 2023 18:52 IST
पाकिस्तन में महंगाई और बिजली बिल अधिक होने के खिलाफ सड़क पर प्रदर्शनकारी।- India TV Hindi
Image Source : AP पाकिस्तन में महंगाई और बिजली बिल अधिक होने के खिलाफ सड़क पर प्रदर्शनकारी।

पाकिस्तान में महंगाई और महंगे बिजली बिल के खिलाफ व्यापारियों ने देशव्यापी हड़ताल की। इस दौरान व्यापारियों ने देश भर में दुकानों और प्रतिष्ठानों को बंद रखा। लोग भी उनके समर्थन में सड़क पर उतर आए। प्रदर्शन कारियों ने पूरे पाकिस्तान का चक्का जाम कर दिया। पाकिस्तानी व्यापारी शनिवार को उच्च ईंधन और उपयोगिता बिलों और डॉलर के मुकाबले रुपये की रिकॉर्ड गिरावट सहित जीवनयापन की बढ़ती लागत के खिलाफ हड़ताल कर रहे थे। पाकिस्तान सरकार के खिलाफ जनता में भी व्यापक असंतोष फैल गया है। व्यापारियों ने देश भर में अपनी दुकानें बंद कर दीं, जबकि प्रदर्शनकारियों ने अपना गुस्सा व्यक्त करने के लिए सड़कों पर टायर जलाए।

हड़ताल का आह्वान पूर्व सीनेटर सिराजुल हक ने किया था, जो धार्मिक राजनीतिक दल जमात-ए-इस्लामी के प्रमुख हैं। इस हड़ताल को बड़े पैमाने पर व्यापार और व्यापारिक निकायों, बाजार संघों, वकील संघों और ट्रांसपोर्टरों ने समर्थन दिया था। देश का वाणिज्यिक और आर्थिक केंद्र, कराची, लगभग पूरी तरह से बंद था और सड़कों पर वाहन यातायात कम था, सभी बाजार और शॉपिंग सेंटर बंद रहे। पाकिस्तानी व्यापारियों ने कहा कि हमने विरोध में अपनी दुकानें बंद कर दी हैं। ताकि हमारा संदेश शासक वर्ग तक पहुंच सके। अगर वे हमारी समस्याओं पर विचार नहीं करते हैं, तो हम आगे की रणनीति तैयार करेंगे।

बिजली के महंगे बिल के खिलाफ व्यापारियों में उबाल

कराची के एक व्यापारी फहद अहमद ने कहा, "यदि आप अपनी दुकान के लिए किराए के रूप में 100,000 रुपये (330 डॉलर) का भुगतान करते हैं और आपको उतनी ही राशि का भुगतान बिजली बिल के लिए भी करना है तो आप कैसे जीवित रह सकते हैं?" हड़ताल की वजह से पंजाब प्रांत की राजधानी, पूर्वी शहर लाहौर में, सभी मुख्य बाज़ार दिन भर के लिए बंद थे। वकील अदालतों से बाहर रहे और इंटरसिटी और स्थानीय सार्वजनिक परिवहन नहीं चल रहे थे। पेशावर का उत्तर-पश्चिमी शहर और क्वेटा का दक्षिण-पश्चिमी शहर आंशिक रूप से बंद था। सरकारी सांख्यिकी ब्यूरो द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, अगस्त में पाकिस्तान की वार्षिक मुद्रास्फीति दर 27.4% थी। अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष के साथ जीवनरेखा सौदा हासिल करने से पहले पाकिस्तान डिफ़ॉल्ट के कगार पर था।

बेलआउट पैकेज के लिए पाकिस्तान पर लगाई गई थी कड़ी शर्तें

कर्ज हासिल करने के लिए पाकिस्तान को बेलआउट पैकेज की शर्तों के तहत बिजली पर दी जाने वाली सब्सिडी को कम करने की शर्त थी। इसने संभवतः कीमतों में वृद्धि में योगदान दिया, विशेषकर ऊर्जा लागत में। प्रमुख अर्थशास्त्री और टॉपलाइन सिक्योरिटीज के प्रमुख मोहम्मद सोहेल ने कहा कि आईएमएफ कार्यक्रम के बावजूद पाकिस्तान चुनौतीपूर्ण समय से गुजर रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार आईएमएफ द्वारा निर्धारित दर्दनाक सुधारों को लागू करने की कोशिश कर रही है, जबकि राजनीतिक ध्रुवीकरण भावनाओं को प्रभावित कर रहा है। सोहेल ने कहा, "महंगाई आम पाकिस्तानियों के लिए एक बड़ी समस्या है। और यह मुद्रास्फीति मुख्य रूप से गिरते रुपये के कारण है। विदेशी मुद्रा भंडार में सुधार के साथ सख्त स्थिरीकरण उपाय मुद्रा और मुद्रास्फीति को स्थिर कर सकते हैं।"

यह भी पढ़ें

पाकिस्तान में तबाही मचाने के लिए ISIS ने भेजी महिला आतंकवादियों की फौज, 5 को किया गया गिरफ्तार

क्रीमिया ब्रिज को उड़ाने ही वाले थे यूक्रेन के 3 ड्रोन अटैकर, मगर रूस ने आखिरी वक्त में कर दिया काम खल्लास

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Asia News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement