1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. गुजरात
  4. पावागढ़ मंदिर की ध्वजा देश के सांस्कृतिक गौरव का प्रतीक: पीएम मोदी

PM Modi Gujarat Visit: पावागढ़ मंदिर की ध्वजा देश के सांस्कृतिक गौरव का प्रतीक: पीएम मोदी

PM Modi Gujarat Visit: पीएम मोदी ने कहा कि गुजरात ने आजादी की लड़ाई में जितना योगदान दिया। उतना ही योगदान देश के विकास के लिए भी किया है।

Deepak Vyas Written by: Deepak Vyas @deepakvyas9826
Updated on: June 18, 2022 12:48 IST
PM Modi Gujarat Visit- India TV Hindi
Image Source : ANI PM Modi Gujarat Visit

Highlights

  • गुजरात दौरे के दौरान आज पावागढ़ पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
  • कालिका माता के दर्शन व पूजन-अर्चन किया
  • पीएम मोदी ने काली मंदिर के शिखर का ध्वजारोहण किया

PM Modi Gujarat Visit: दो दिनी गुजरात दौरे के दूसरे दिन आज शनिवार को पीएम मोदी पावागढ़ के कालीमाता मंदिर पहुंचे। नरेंद्र मोदी ने पंचमहल ज़िले के पावागढ़ पहाड़ी पर पुनर्विकसित कालिका माता मंदिर का दौरा किया और मंदिर का उद्घाटन किया। यहां मंदिर में उन्होंने ​दर्शन किए और पूजन—अर्चन किया। साथ ही यहां काली मंदिर के शिखर का ध्वजारोहण किया। इस दौरान उनके साथ राज्य के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल भी मौज़ूद थे। इस दौरान उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि प्रचीन पहचान पर हर भारतीय गर्व करता है। हमारा यह आध्यात्मिक स्थल हमारी आस्था के साथ ही नई संभावनाओं के स्रोत बन रहे हैं। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज सदियों बाद पावागढ़ मंदिर में एक बार फिर से मंदिर के शिखर पर ध्वज फहरा रहा है। यह शिखर ध्वज केवल हमारी आस्था और आध्यात्म का ही प्रतीक नहीं है। यह शिखर ध्वज इस बात का भी प्रतीक है कि सदियां बदलती हैं, युग बदलते हैं, लेकिन आस्था का शिखर शाश्वत रहता है। उन्होंने कहा गुजरात ने आजादी की लड़ाई में जितना योगदान दिया। उतना ही योगदान देश के विकास के लिए भी किया है। सदियों के संघर्ष के बाद जब भारत आजाद हुआ, तब गुलामी के घावों से भरे हुए थे। अपने अस्तित्व को फिर खड़ा करने की चुनौती थी। सरदार पटेल के नेतृत्व में ही नए राष्ट्र के संकल्प की शुरुआत सोमनाथ से हुई थी। आज जो ध्वजा फहराई गई वह देश और गुजरात के सांस्कृतिक गौरव की ध्वजा है। इस मंदिर की भव्यता के लिए निरंतर प्रयास हुए। 

पीएम मोदी ने कहा कि आज भारत के आध्यात्मिक और सांस्कृतिक गौरव फिर से स्थापित हो रहे हैं। आज नया भारत अपनी आधुनिक आकांक्षाओं के साथ-साथ अपनी प्राचीन धरोहर और प्राचीन पहचान को उसी उमंग और उत्साह के साथ जी रहा है। हर भारतीय उस पर गर्व कर रहा है।