1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. राष्ट्रीय
  5. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विश्वभारती के छात्रों से किया ये आग्रह

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विश्वभारती के छात्रों से किया ये आग्रह

पीएम नरेंद्र मोदी ने विश्व भारती के छात्रों से कहा कि विश्व भारती के छात्र छात्राएं पौष मेले में आने वाले कलाकारों से संपर्क करें और उनके उत्पादों के बारे में जानकारी इकट्ठा करें और इन गरीब कलाकारों की कलाकृतियां ऑनलाइन कैसे बिक सकती हैं, इसपर काम करें।

IndiaTV Hindi Desk IndiaTV Hindi Desk
Updated on: December 24, 2020 11:56 IST
PM Narendra Modi appeal to students of visva bharati । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने छात्रों से किया - India TV Hindi
Image Source : PTI PM Narendra Modi appeal to students of Visva Bharati । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने छात्रों से किया ये आग्रह

नई दिल्ली. पीएम नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को रवींद्रनाथ टैगोर द्वारा स्थापित विश्वविद्यालय विश्वभारती के शताब्दी समारोह के अवसर पर विश्वविद्यालय के छात्रों को संबोधित किया। इस दौरान पीएम नरेंद्र मोदी ने विश्व भारती के छात्रों से कहा कि विश्व भारती के छात्र छात्राएं पौष मेले में आने वाले कलाकारों से संपर्क करें और उनके उत्पादों के बारे में जानकारी इकट्ठा करें और इन गरीब कलाकारों की कलाकृतियां ऑनलाइन कैसे बिक सकती हैं, इसपर काम करें। भविष्य में भी स्थानीय कलाकार अपने उत्पाद विश्व बाजार तक ले जा सके, इसके लिए भी उन्हें सिखाईए, इस तरह के अनेक प्रयासों से ही देश आत्मनिर्भर बनेगा और गुरुदेव के सपनों को पूरा कर पाएंगे।

पढ़ें- किसान आंदोलन के बीच राहुल गांधी का बड़ा बयान

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि विश्वभारती की सौ वर्ष यात्रा बहुत विशेष है। विश्वभारती, माँ भारती के लिए गुरुदेव के चिंतन, दर्शन और परिश्रम का एक साकार अवतार है। भारत के लिए गुरुदेव ने जो स्वप्न देखा था, उस स्वप्न को मूर्त रूप देने के लिए देश को निरंतर ऊर्जा देने वाला ये एक तरह से आराध्य स्थल है।  उन्होंने कहा कि हमारा देश विश्व भारती से निकले संदेश को पूरे विश्व तक पुहंचा रहा है।  भारत आज इंटरनेशनल सोलर एलांयस के माध्यम से पर्यावरण संरक्षण के विषय में विश्व के अंदर एक बहुत बड़ी भूमिका निभा रहा है। भारत पूरे विश्व में एकलौता बड़ा देश है जो पेरिस समझौते को लागू करने में तेज गति से आगे बढ़ रहा है।

पढ़ें- रेलवे ने दी गुड न्यूज! जारी की कई और ट्रेनों की लिस्ट, यहां है पूरी जानकारी

पीएम नरेंद्र मोदी के भाषण में और क्या कहा

  1. जब हम स्वतंत्रता संग्राम की बात करते हैं तो हमारे मन में सीधे 19-20वीं सदी का विचार आता है। लेकिन ये भी एक तथ्य है कि इन आंदोलनों की नींव बहुत पहले रखी गई थी। भारत की आजादी के आंदोलन को सदियों पहले से चले आ रहे अनेक आंदोलनों से ऊर्जा मिली थी। भारत की आध्यात्मिक और सांस्कृतिक एकता को भक्ति आंदोलन ने मजबूत करने का काम किया था।
  2. भक्ति युग में, हिंदुस्तान के हर क्षेत्र, हर इलाके, पूर्व-पश्चिम-उत्तर-दक्षिण, हर दिशा में हमारे संतों ने, महंतों ने, आचार्यों ने देश की चेतना को जागृत रखने का प्रयास किया। भक्ति आंदोलन वो डोर थी जिसने सदियों से संघर्षरत भारत को सामूहिक चेतना और आत्मविश्वास से भर दिया। भक्ति का ये विषय तब तक आगे नहीं बढ़ सकता जब तक महान काली भक्त श्रीरामकृष्ण परमहंस की चर्चा ना हो। वो महान संत, जिनके कारण भारत को स्वामी विवेकानंद मिले। स्वामी विवेकानंद भक्ति, ज्ञान और कर्म, तीनों को अपने में समाए हुए थे।
  3. भक्ति आंदोलन के सैकड़ों वर्षों के कालखंड के साथ-साथ देश में कर्म आंदोलन भी चला। भारत के लोग गुलामी और साम्राज्यवाद से लड़ रहे थे। चाहे वो छत्रपति शिवाजी हों, महाराणा प्रताप हों, रानी लक्ष्मीबाई हों, कित्तूर की रानी चेनम्मा हों, भगवान बिरसा मुंडा का सशस्त्र संग्राम हो। अन्याय और शोषण के विरुद्ध सामान्य नागरिकों के तप-त्याग और तर्पण की कर्म-कठोर साधना अपने चरम पर थी। ये भविष्य में हमारे स्वतंत्रता संग्राम की बहुत बड़ी प्रेरणा बनी।
  4. जब भक्ति और कर्म की धाराएं पुरबहार थी तो उसके साथ-साथ ज्ञान की सरिता का ये नूतन त्रिवेणी संगम, आजादी के आंदोलन की चेतना बन गया था। आजादी की ललक में भाव भक्ति की प्रेरणा भरपूर थी। समय की मांग थी कि ज्ञान के अधिष्ठान पर आजादी की जंग जीतने के लिए  वैचारिक आंदोलन भी खड़ा किया जाए और साथ ही उज्ज्वल भावी भारत के निर्माण के लिए नई पीढ़ी को तैयार भी किया जाए। और इसमें बहुत बड़ी भूमिका निभाई, कई प्रतिष्ठित शिक्षण संस्थानों ने, विश्वविद्यालयों।
  5. इन शिक्षण संस्थाओं ने भारत की आज़ादी के लिए चल रहे वैचारिक आंदोलन को नई ऊर्जा दी, नई दिशा दी, नई ऊंचाई दी। भक्ति आंदोलन से हम एकजुट हुए,  ज्ञान आंदोलन ने बौद्धिक मज़बूती दी और 
  6. कर्म आंदोलन ने हमें अपने हक के लिए लड़ाई का हौसला और साहस दिया। सैकड़ों वर्षों के कालखंड में चले ये आंदोलन त्याग, तपस्या और तर्पण की अनूठी मिसाल बन गए थे। इन आंदोलनों से प्रभावित होकर हज़ारों लोग आजादी की लड़ाई में बलिदान देने के लिए आगे आए।
  7. वेद से विवेकानंद तक भारत के चिंतन की धारा गुरुदेव के राष्ट्रवाद के चिंतन में भी मुखर थी। और ये धारा अंतर्मुखी नहीं थी। वो भारत को विश्व के अन्य देशों से अलग रखने वाली नहीं थी। उनका विजन था कि जो भारत में सर्वश्रेष्ठ है, उससे विश्व को लाभ हो और जो दुनिया में अच्छा है, भारत उससे भी सीखे। आपके विश्वविद्यालय का नाम ही देखिए: विश्व-भारती। मां भारती और विश्व के साथ समन्वय। विश्व भारती के लिए गुरुदेव का विजन आत्मनिर्भर भारत का भी सार है। आत्मनिर्भर भारत अभियान भी विश्व कल्याण के लिए भारत के कल्याण का मार्ग है। ये अभियान, भारत को सशक्त करने का अभियान है, भारत की समृद्धि से विश्व में समृद्धि लाने का अभियान है।

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन
Write a comment