1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. भारत
  4. उत्तर प्रदेश
  5. Gyanvapi Masjid : ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट के बाद आज पहला जुमा, बड़ी संख्या में जुटे नमाजी

Gyanvapi Masjid : ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट के बाद आज पहला जुमा, बड़ी संख्या में जुटे नमाजी

Gyanvapi Masjid : सर्वे रिपोर्ट पेश होने के बाद आज पहला जुमा है और बड़ी संख्या में नमाजी मस्जिद परिसर में पहुंचे रहे हैं।

Niraj Kumar	Edited by: Niraj Kumar @nirajkavikumar1
Updated on: May 20, 2022 13:07 IST
Gyanvapi Masjid - India TV Hindi
Image Source : PTI Gyanvapi Masjid 

Highlights

  • ज्ञानवापी मस्जिद में बड़ी संख्या में पहुंचे नमाजी
  • मस्जिद के आसपास बड़ी संख्या में सुरक्षा बल तैनात

Gyanvapi Masjid : ज्ञानवापी (Gyanvapi) को लेकर जहां आज सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में सुनवाई होनी है वहीं ज्ञानवापी मस्जिद (Gyanvapi Masjid) के आसपास हलचल तेज है। कोर्ट कमिश्नर द्वारा ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट ( Gyanvapi survey report)पेश करने के बाद आज पहला जुमा है और बड़ी संख्या में नमाजी नमाज अदा करने के लिए मस्जिद परिसर में पहुंचे हैं। इस बीच पूरी मस्जिद भर चुकी है। मस्जिद कमेटी की ओर से यह ऐलान किया जा रहा है अब और नमाजी मस्जिद परिसर में नमाज न आएं क्योंकि मस्जिद फुल हो चुकी है। वहीं मस्जिद के आसपास बड़ी संख्या में सुरक्षा बल तैनात हैं।

आज सुप्रीम कोर्ट में होगी मामले की सुनवाई

आपको बता दें कि ज्ञानवापी परिसर के वीडियोग्राफी सर्वे के लिए यहां की एक अदालत द्वारा गठित आयोग ने अपनी रिपोर्ट बृहस्पतिवार को अदालत को सौंप दी। इस बीच सुप्रीम कोर्ट ने आज तीन बजे तक वाराणसी की निचली अदालत की कार्यवाही पर रोक लगा दी थी। आज सुप्रीम कोर्ट में इस मामले की सुनवाई होनी है।

काशी विश्वनाथ मंदिर से बिल्कुल सटा है ज्ञानवापी मस्जिद

उल्लेखनीय है कि ज्ञानवापी मस्जिद प्रतिष्ठित काशी विश्वनाथ मंदिर के करीब स्थित है। वाराणसी की निचली अदालत महिलाओं के एक समूह द्वारा इसकी बाहरी दीवारों पर बने विग्रहों की दैनिक पूजा अर्चना की अनुमति की मांग करने वाली याचिका पर सुनवाई कर रही है। ज्ञानवापी-श्रृंगार गौरी परिसर का वीडियोग्राफी सर्वे कार्य सोमवार को पूरा किया गया था। सर्वे के अंतिम दिन हिंदू पक्ष ने दावा किया था कि मस्जिद के वजूखाने में एक कथित शिवलिंग मिला है। मगर मुस्लिम पक्ष ने यह कहते हुए इस दावे को गलत बताया था कि मुगल काल की तमाम मस्जिदों में वजूखाने के ताल में पानी भरने के लिये नीचे एक फव्वारा लगाया जाता था और जिस पत्थर को शिवलिंग बताया जा रहा है, वह फव्वारे का ही एक हिस्सा है। 

इनपुट-भाषा