ye-public-hai-sab-jaanti-hai
  1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. लाइफस्टाइल
  4. जीवन मंत्र
  5. जुबान पर कंट्रोल नहीं रहता? संबंध बिगाड़ता है कुंडली में बैठा राहु, जानिए इसके लक्षण

जुबान पर कंट्रोल नहीं रहता? संबंध बिगाड़ता है कुंडली में बैठा राहु, जानिए इसके लक्षण

अगर किसी जातक का जुबान पर कंट्रोल नहीं रहता, वो भ्रम में रहता है तो समझ लीजिए कि कुंडली पर राहु की टेढ़ी नजर है। जानिए इसके और लक्षण

India TV Lifestyle Desk Edited by: India TV Lifestyle Desk
Published on: January 15, 2022 12:40 IST
rahu effects- India TV Hindi
Image Source : SOCIAL MEDIA rahu effects

ज्योतिषशास्त्र में राहु और केतू को छाया ग्रह बताया गया है जिनसे हर कोई भय खाता है। एक राक्षस के शरीर से जन्में राहु केतु अगर किसी की कुंडली में बैठ जाएं तो अशुभ फल मिलने शुरू हो जाते हैं। खासकर राहु की नजर अगर किसी जातक पर पढ़ जाए तो उसकी आर्थिक और सामाजिक स्थिति को चौपट होना तय मान लिया जाता है।

शास्त्रों में राहु को दैत्यरा हिरण्याकश्यप की पुत्री सिंहिका का पुत्र कहा गया है। 

शनिवार के ये 5 उपाय बदल देंगे किस्मत, शनिदेव की होगी कृपा, बनेंगे बिगड़े काम

राहु वो रहस्यवादी ग्रह है जिसके कुंडली में आते ही कई तरह केलक्षण दिखने शुरू हो जाते हैं। राहु की खास नजर किसी जातक के दिमाग और जुबान पर रहती है। 

राहु कुंडली में हावी हो जाए तो दिखते हैं ये लक्षण - 

दिमाग में भ्रम पैदा होना, इसके चलते व्यक्ति खुद ही अपना बुरा कर डालता है।

गलत बात सुनना, सही बातों को नजरंदाज करना
जुबान पर नियंत्रण खो बैठना,इसके चलते सामाजिक संबंध खराब हो जाते हैं। 
अतीत को लेकर रोना और आने वाले कल को लेकर बड़े बड़े ख्वाब बुनना।
कुछ न होने पर भी आशंका,डर, बैचेनी का शिकार होना
रात को बहुत ज्यादा सपने आना
किसी भी फैसले को लेने में असफल होना, बार बार फैसला बदलना
दूसरों पर विश्वास नहीं करना, इससे भी सामाजिक संबंध खराब होते हैं
धोखेबाजी, बेईमानी करने के विचार आना
ग्रह कलेश होने लगते हैं
सिर में बार बार चोट लगना
वो जगहें जहां राहु का वास होता है, मांस मछली, मद्यपान बिकने वाली जगहों पर बार बार जाना
गलत फैसलों के चलते आमदनी का घटना, बिजनेस में घाटा

डिस्क्लेमर- ये आर्टिकल जन सामान्य सूचनाओं और लोकोक्तियों पर आधारित है। इंडिया टीवी इसकी सत्यता की पुष्टि नहीं करता।

uttar-pradesh-elections-2022
elections-2022