1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. Maharaja Is Back: 68 साल बाद AIR India की हुई घर वापसी, Tata Sons ने जीती बोली

Maharaja is Back: 68 साल बाद AIR India की हुई घर वापसी, Tata Sons ने जीती बोली

जहांगीर रतनजी दादाभाई (जेआरडी) टाटा ने 1932 में एयरलाइन की स्थापना की थी। उस समय इस विमानन कंपनी को टाटा एयरलाइंस कहा जाता था।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Updated on: October 08, 2021 18:07 IST
Air India sale live updates Tata sons wins Bid for Air India- India TV Paisa
Photo:INDIA TV

Air India sale live updates Tata sons wins Bid for Air India

नई दिल्‍ली। एयर इंडिया आखिरकार 68 साल बाद अपने पुराने मालिक के पास लौट आई है। एयर इंडिया की बोली टाटा संस ने जीत ली है। एक बार फिर एयर इंडिया टाटा समूह के पास आ गई है। कंपनी ने इसके लिए सबसे बड़ी बोली लगाई। निवेश और सार्वजनिक परिसंपत्ति प्रबंधन विभाग (दीपम) के सचिव ने बताया  गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता वाले मंत्रियों के समूह (जीओएम) ने एयर इंडिया के लिए विजेता बोली को मंजूरी दे दी है। टाटा संस ने एयर इंडिया के लिए 18,000 करोड़ रुपये की विजेता बोली लगाई। टाटा संस एयर इंडिया के 15,300 करोड़ रुपये के कर्ज का भुगतान करेगी और शेष 2700 करोड़ रुपये की राशि सरकार को नकद में देगी।

एयर इंडिया के निजीकरण की प्रक्रिया दिसंबर अंत तक पूरा करने की योजना है। स्पाइसजेट के प्रवर्तक अजय सिंह ने एयर इंडिया के लिए 12,000 करोड़ रुपये की बोली लगाई थी। निवेश और सार्वजनिक संपत्ति प्रबंधन विभाग के सचिव तुहिन कांत पांडेय ने कहा कि सरकार ने एयर इंडिया के लिए वित्तीय बोलियों को मंजूरी दे दी है। टाटा संस की बोली स्वीकार कर ली गई है। पिछले करीब दो दशकों से भारत सरकार एयर इंडिया के निजीकरण की कोशिश कर रही थी। इस दौरान केंद्र में कई सरकारें आई, मगर इस दिशा में प्रक्रिया आगे नहीं बढ़ी। अब आखिरकार कर्ज से जूझ रही एयर इंडिया के विनिवेश की प्रक्रिया को पूरी करने में सरकार की कोशिश कामयाब हो गई।

रतन टाटा ने कहा वेलकम बैक एयर इंडिया

टाटा संस के मानद चेयरमैन रतन टाटा ने शुक्रवार को ट्विट कर कहा, “टाटा संस द्वारा एयर इंडिया की बोली जीतना एक बड़ी खबर है। ”

आरक्षित मूल्‍य था 12,906 करोड़ रुपये

दीपक सचिव ने बताया कि सरकार ने एयर इंडिया की बिक्री के लिए 12,906 करोड़ रुपये का आरक्षित मूल्‍य तय किया था। टाटा संस ने इस आरक्षित मूल्‍य की तुलना में 18,000 करोड़ रुपये की बोली लगाकर इसे जीत लिया है।

सभी कर्मचारियों को एक साल तक रखना होगा काम पर

नागरिक उड्डयन सचिव ने बताया कि टाटा संस को एयर इंडिया के सभी कर्मचारियों को एक साल तक काम पर रखना होगा और दूसरे साल कंपनी कर्मचारियों के लिए स्‍वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना (वीआरएस) की पेशकश कर सकती है।

पांच साल तक नहीं कर सकती बिक्री

दीपम सचिव ने बताया कि टाटा संस अगले 5 साल तक एयर इंडिया ब्रांड, लोगो को ट्रांसफर नहीं कर सकती है। पांच साल बाद कंपनी को केवल भारतीय व्‍यक्ति को ही इसे बेचने की अनुमति होगी।

1932 में जेआरडी टाटा ने की थी स्‍थापना

हांगीर रतनजी दादाभाई (जेआरडी) टाटा ने 1932 में एयरलाइन की स्थापना की थी। उस समय इस विमानन कंपनी को टाटा एयरलाइंस कहा जाता था। 1946 में टाटा संस की एविएशन कंपनी को एयर इंडिया के नाम से लिस्‍ट किया गया। 1948 में, यूरोप के लिए उड़ान के साथ एयर इंडिया इंटरनेशनल की शुरुआत की गई। यह अंतरराष्‍ट्रीय सेवा भारत में पहली सार्वजनि‍क-निजी भागीदारी थी। सरकार की इसमें 49 प्रतिशत और टाटा की 25 प्रतिशत हिस्‍सेदारी थी। शेष्‍ज्ञ हिस्‍सेदारी सार्वजनिक थी। 1953 में एयर इंडिया का राष्‍ट्रीयकरण कर दिया गया। 

सरकार ने बेची पूरी हिस्‍सेदारी

केंद्र सरकार सरकारी स्वामित्व वाली एयरलाइन में अपनी 100 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचना चाहती है जिसमें एआई एक्सप्रेस लिमिटेड में एयर इंडिया की 100 प्रतिशत हिस्सेदारी और एयर इंडिया एसएटीएस एयरपोर्ट सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड में 50 प्रतिशत हिस्सेदारी शामिल हैं।

यह भी पढ़ें: RBI ने महंगे पेट्रोल-डीजल को लेकर कही आज ये बात...

यह भी पढ़ें: दुनिया पर मंडरा रहा है गंभीर संकट, जो कर देगा पेट्रोल-डीजल से लेकर गैस और बिजली सबकुछ महंगा

यह भी पढ़ें: RBI ने दी आज देशवासियों को बड़ी खुशखबरी, IMPS की सीमा बढ़ाकर की दोगुनी से भी ज्‍यादा

यह भी पढ़ें: Ola app के जरिये अब आप खरीद सकेंगे नए-पुराने वाहन...

यह भी पढ़ें: खुशखबरी, नया वाहन खरीदने पर मिलेगी रोड टैक्‍स में 25% की छूट...

Write a comment
bigg boss 15