ye-public-hai-sab-jaanti-hai
  1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. अर्थव्यवस्था में अनुमान से तेज रिकवरी के संकेत, 2021 में तेजी की उम्मीद: रिपोर्ट

अर्थव्यवस्था में अनुमान से तेज रिकवरी के संकेत, 2021 में तेजी की उम्मीद: रिपोर्ट

रिपोर्ट के मुताबिक वाहन बिक्री, आयात में वृद्धि, जीएसटी संग्रह, विनिर्माण पीएमआई (परचेजिंग मैनेजर इंडेक्स) और डीजल की बिक्री बेहतर हुई है, जिससे अर्थव्यवस्था के तेजी से पटरी पर आने के संकेत मिल रहे हैं वहीं त्योहार और जाड़े के मौसम के बावजूद संक्रमण के नये मामलों में कमी भी सकारात्मक संकेत है।

India TV Paisa Desk Edited by: India TV Paisa Desk
Published on: January 04, 2021 21:51 IST
अर्थव्यवस्था में...- India TV Paisa
Photo:GOOGLE

अर्थव्यवस्था में रिकवरी के संकेत

नई दिल्ली। कोरोना संकट के दबाव से निकल कर देश की अर्थव्यवस्था तेजी से सामान्य स्तर की ओर वापस बढ़ रही है। जापान की ब्रोकरेज कंपनी नोमुरा ने अपनी रिपोर्ट में ये बात कही है। नोमुरा ने अपनी एक स्टडी में कहा कि तीन जनवरी को समाप्त सप्ताह के दौरान घरेलू अर्थव्यवस्था से जुड़े संकेत बताते हैं कि अर्थव्यस्था सकारात्मक दिशा में है। नोमुरा इंडिया व्यापार पुन:आरंभ सूचकांक यानि Business Resumption Index (NIBRI) तीन जनवरी को खत्म हुए सप्ताह में 94.5 रहा जो दिसंबर में औसतन 91.7 के स्तर पर था।

उल्लेखनीय है कि कोविड-19 महामारी और उसकी रोकथाम के लिये 25 मार्च से लगाये गये ‘लॉकडाउन’ से आर्थिक गतिविधियां लगभग ठप हो गयी थीं। इससे विश्लेषकों ने आर्थिक प्रदर्शन के अनुमान को कम कर दिया था। हालांकि रिकवरी की गति उम्मीद से भी तेज रही हैं और आरबीआई अब 2020-21 में केवल 7.5 प्रतिशत गिरावट की उम्मीद कर रहा है। ब्रोकरेज कंपनी के अनुसार बिजली मांग में पिछले दो सप्ताह में 2.7 प्रतिशत और 3.1 प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्ज हुई थी। इसमें ताजा सप्ताह में साप्ताहिक आधार पर 2.7 प्रतिशत का सुधार देखने को मिला है। वहीं श्रम भागीदारी दर नरम होकर जनवरी की शुरुआत में 40.3 प्रतिशत रही जो दिसंबर में 40.9 थी।

बयान के अनुसार बिजनेस रिजम्पशन इंडेक्स-एनआईबीआरआई सूचकांक दिसंबर में 91.7 रहा जो नवंबर के 86.3 के मुकाबले अधिक है। वहीं जनवरी में बढ़कर 94.5 पर पहुंच गया। यानि इसमें लगातार और तेज बढ़त देखने को मिल रही है। नोमुरा के अनुसार, ‘‘ वाहन बिक्री, आयात में वृद्धि, जीएसटी संग्रह, विनिर्माण पीएमआई (परचेजिंग मैनेजर इंडेक्स) और डीजल की बिक्री बेहतर हुई है, जिससे अर्थव्यवस्था के तेजी से पटरी पर आने के संकेत मिल रहे हैं वहीं त्योहार और जाड़े के मौसम के बावजूद संक्रमण के नये मामलों में कमी से भी सकारात्मक संकेत हैं।

हालांकि बयान में ये भी कहा गया है कि छोटी अवधि में में कमजोर वैश्विक वृद्धि और महामारी के फैलने को लेकर जोखिम बने हुए हैं। वहीं मध्यम अवधि में आसान वित्तीय स्थिति, मजबूत वैश्विक मांग और टीकाकरण में तेजी 2021 में अर्थव्यवस्था को तेज गति दे सकती है।

Write a comment
elections-2022