West Bengal: TMC नेताओं पर CBI ने कसा शिकंजा, बंगाल में आवासों पर की छापेमारी

West Bengal: अधिकारियों ने बताया कि CBI अधिकारियों के 6 टीमों ने करीम खान और उनके करीबी जियाउल हक समेत तृणमूल कांग्रेस (TMC) के स्थानीय नेताओं के इलमबाज़ार और नानूर स्थित आवासों पर छापेमारी की।

Shailendra Tiwari Edited By: Shailendra Tiwari @@only_Shailendra
Updated on: August 03, 2022 18:38 IST
Representational Image- India TV Hindi News
Image Source : FILE PHOTO Representational Image

Highlights

  • टुडू मंडल के आवास पर भी छापेमारी
  • करीम खान काफी समय से फरार हैं
  • अंगरक्षक को भी गिरफ्तार किया गया है।

West Bengal: ED के बाद CBI ने TMC के नेताओं पर अपना शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। सेंट्रल ब्यूरो आफ इन्वेस्टिगेशन (CBI) ने कथित मवेशी तस्करी घोटाला मामले की जांच के सिलसिले में बुधवार को पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले में 6 अलग-अलग जगहों पर छापेमारी की। करीम खान और जियाउल हक के आवासों पर छापेमारी की गई है।

करीम खान और उनके करीबी जियाउल हक समेत अन्य नेताओं के आवासों पर छापेमारी

अधिकारियों ने बताया कि CBI अधिकारियों के 6 टीमों ने करीम खान और उनके करीबी जियाउल हक समेत तृणमूल कांग्रेस (TMC) के स्थानीय नेताओं के इलमबाज़ार और नानूर स्थित आवासों पर छापेमारी की। उन्होंने बताया कि केंद्रीय एजेंसी के अधिकारियों ने TMC के बीरभूम अध्यक्ष अनुब्रत मंडल के सहयोगी और पत्थर कारोबारी टुडू मंडल के आवास पर भी छापेमारी की। 

टुडू मंडल दो बार CBI के सामने हो चुके पेश

अधिकारियों में से एक ने बताया, ''करीम खान काफी समय से फरार हैं और उनका मोबाइल नंबर भी पहुंच से बाहर है।'' टुडू मंडल इससे पहले दो बार CBI के सामने पेश हुए थे। जांच के तहत उनके निजी अंगरक्षक को भी गिरफ्तार किया गया है।

बीते साल CBI ने BSF से सतीश कुमार को किया था गिरफ्तार

बता दें कि बीते साल पश्चिम बंगाल के मवेशी तस्करी घोटाले में CBI द्वारा चार्जशीट दाखिल कर दी गई थी। CBI द्वारा फाइल की गई चार्जशीट में BSF अफसर का भी नाम शामिल था। इनमें कुल 7 लोगों के नाम थे, जिनके नाम इनामुल हक, अनारुल शेख, गुलाम मुस्तफा, तानिया कुमार, रसिया बीबी, बादल कृष्णा सानियाल हैं। इसी मामले में CBI ने BSF से सतीश कुमार को गिरफ्तार कर लिया था। गौरतलब है कि इस केस को लेकर मामला दर्ज किया गया था जिसमें BSF अधिकारियों की मदद से तस्करों पर बंगाल और बांग्लादेश के बीच अवैध तरीके से मवेशियों को तस्कर करने का आरोप था।

navratri-2022