Sudan News: सूडान में भारी बारिश ने मचाई तबाई, बाढ़ से 50 से ज्यादा लोगों की मौत

Sudan News: सूडान की सरकारी ‘सुना’ समाचार एजेंसी के मुताबिक, अब्दुल रहीम ने कहा कि इस साल अब तक कम से कम 25 लोग घायल हुए हैं।

Shailendra Tiwari Edited By: Shailendra Tiwari @@Shailendra_jour
Updated on: August 14, 2022 10:23 IST
Representational Image- India TV Hindi News
Image Source : PTI Representational Image

Highlights

  • भारी बारिश से 16 सरकारी केंद्र और करीब 40 दुकानें डूबीं
  • अब तक कम से कम 25 लोग घायल
  • उत्तरी कोर्दोफन प्रांत में 19 लोगों की मौत

Sudan News: सूडान में मौसमी मूसलाधार बारिश के कारण आई बाढ़ में अब तक 50 से अधिक लोगों की मौत हो गई है और 8,170 से अधिक मकान जलमग्न हो गए हैं। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने इसकी जानकारी दी। 

सितंबर में चरम पर होती है बाढ़

सूडान की नेशनल सिविल डिफेंस काउंसिल के प्रवक्ता ब्रिगेडियर जनरल अब्दुल-जलील अब्दुल रहीम ने कहा कि उत्तरी कोर्दोफन प्रांत में 19 लोगों की मौत हुई है, इसके बाद नील नदी प्रांत में 7 लोगों की मौत हुई है। उन्होंने कहा कि पश्चिमी दारफुर क्षेत्र, जिसमें पांच प्रांत हैं, में 16 लोगों की मौत हुई है। उन्होंने यह नहीं बताया कि पहली घटना कब हुई। सूडान का बरसात का मौसम आमतौर पर जून में शुरू होता है और सितंबर तक रहता है, अगस्त और सितंबर में बाढ़ चरम पर होती है। 

 38,000 लोग प्रभावित

सूडान की सरकारी ‘सुना’ समाचार एजेंसी के मुताबिक, अब्दुल रहीम ने कहा कि इस साल अब तक कम से कम 25 लोग घायल हुए हैं। अब्दुल रहीम ने कहा कि बाढ़ और भारी बारिश से 16 सरकारी केंद्र और करीब 40 दुकानें जलमग्न हो गई हैं और देश भर में कम से कम 540 फेदान (एकड़) खेत क्षतिग्रस्त हो गए हैं। मानवीय मामलों के समन्वय के लिए संयुक्त राष्ट्र कार्यालय ने कहा है कि मई के बाद से पूर्वी अफ्रीकी देश में भारी वर्षा से अनुमानित 38,000 लोग प्रभावित हुए हैं।

एक लाख से ज्यादा घर डूबे

पिछले साल बाढ़ और भारी बारिश से 80 से अधिक लोगों की जान चली गई थी और देश भर में हजारों मकान बाढ़ के पानी में बह गए थे। अधिकारियों ने 2020 में सूडान को एक प्राकृतिक आपदा क्षेत्र घोषित किया और बाढ़ और भारी बारिश के बाद देश भर में 3 महीने के लिए आपातकाल की स्थिति लागू कर दी और बाढ़ जनित घटनाओं में लगभग 100 लोगों की मौत हो गई और एक लाख से ज्यादा मकान जलमग्न हो गए।

Latest World News

navratri-2022