Monday, July 22, 2024
Advertisement

अमेरिका ने कड़े प्रतिबंधों से कर दिया चीन को चित्त, जिनपिंग बोले दादागीरी कर रहा ह्वाइट हाउस

अमेरिका ने रूस और चीन की रक्षा निर्माता कंपनियों समेत कई अन्य पर कड़े कानूनी प्रतिबंध लगा दिया है। इससे चीन बौखला उठा है। ड्रैगन ने सोमवार को अमेरिका पर आरोप लगाया कि वह चीनी कंपनियों पर नये गैर कानूनी प्रतिबंध लगाकर स्पष्ट रूप से ‘‘दादागीरी और दोहरे मानक’’ दिखा रहा है।चीन ने कहा कि अमेरिका ऐसा करके बहुत गलत कर रहा है।

Edited By: Dharmendra Kumar Mishra @dharmendramedia
Published on: February 27, 2023 20:36 IST
चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन- India TV Hindi
Image Source : FILE चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन

नई दिल्लीः अमेरिका ने रूस और चीन की रक्षा निर्माता कंपनियों समेत कई अन्य पर कड़े कानूनी प्रतिबंध लगा दिया है। इससे चीन बौखला उठा है। ड्रैगन ने सोमवार को अमेरिका पर आरोप लगाया कि वह चीनी कंपनियों पर नये गैर कानूनी प्रतिबंध लगाकर स्पष्ट रूप से ‘‘दादागीरी और दोहरे मानक’’ दिखा रहा है। चीन ने कहा कि अमेरिका ऐसा करके बहुत गलत कर रहा है, क्योंकि इससे चीन को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है। इसलिए उसका यह कदम ठीक नहीं है।

रूस के वैगनर समूह के खिलाफ भी कार्रवाई

चीन के मुताबिक ये प्रतिबंध रूस के वैगनर समूह के खिलाफ अमेरिकी कार्रवाई के तहत लगाए गए हैं जो कंपनियों और व्यक्तियों से संबंधित हैं। यूक्रेन युद्ध और अफ्रीका में मानवाधिकारों के हनन समेत अन्य गतिविधियों में भूमिका निभाने को लेकर कंपनियों को निशाना बनाया गया है। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता माओ निंग ने प्रेस वार्ता के दौरान कहा, ‘‘ प्रतिबंधों का अंतरराष्ट्रीय कानून में कोई आधार नहीं है। ये प्रतिबंध गैर कानूनी और एकपक्षीय हैं।’’ माओ ने कहा, ‘‘दंडात्मक कदम चीन के हितों को गंभीर रूप से नुकसान पहुंचा रहे हैं। चीन सख्ती के साथ इसे खारिज करता है और भर्त्सना करता है।

चीन ने अमेरिका पर लगाया बदनाम करने का आरोप
चीन की ओर से अमेरिकी पक्ष के समक्ष गंभीर शिकायत दर्ज कराई गई है। चीन ने कहा, ‘‘अमेरिका ने युद्ध में शामिल एक पक्ष को हथियार भेजने के अपने प्रयास तेज कर दिये हैं, जिसकी परिणति अंतहीन युद्ध के रूप में हुई है, लेकिन यह चीन द्वारा रूस को हथियार आपूर्ति के बारे में अक्सर गलत सूचनाएं फैला रहा है। साथ ही अमेरिका चीनी कंपनियों पर बिना वजह प्रतिबंध लगाने का अवसर ढूंढ़ रहा है।’’ अमेरिका के वित्त और विदेश विभागों ने समन्वित बयान जारी कर कहा था कि वैगनर समूह से संबंधित दर्जनों कंपनियों को निशाना बनाया गया है, जिनमें से कुछ मध्य अफ्रीकी गणराज्य और संयुक्त अरब अमीरात में हैं। वैगनर रूस की एक निजी सैन्य कंपनी है, जो पूर्वी यूक्रेन में जारी भीषण जंग में शामिल है।

यह भी पढ़ें

देश से हजारों करोड़ कर्ज लेकर विदेश भागने से अब नहीं बचेगी जान, G20 में ये करने जा रहा हिंदुस्तान

यूक्रेन युद्ध में रूस की 60 फीसदी सेना खल्लास! सैनिकों ने रोते हुए पुतिन को भेजा वीडियो; कहा- अपने ही कमांडर मार रहे गोली

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Asia News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement