Thursday, May 16, 2024
Advertisement

शिल्पा शेट्टी की बहन शमिता को है ये गंभीर बीमारी, असहनीय दर्द और प्रेगनेंसी हो जाती है मुश्किल

What Is Endometriosis: एक्ट्रेस शमिता शेट्टी ने हाल ही में अपनी बीमारी का खुलासा किया है। शमिता शेट्टी को एंडोमेट्रियोसिस नामक बीमारी है, जिसमें तेज दर्द से इंसान परेशान रहता है। इतना ही नहीं इस बीमारी में प्रेगनेंसी भी मुश्किल हो जाती है। जानिए क्या है एंडोमेट्रियोसिस?

Bharti Singh Written By: Bharti Singh
Updated on: May 15, 2024 13:17 IST
Endometriosis- India TV Hindi
Image Source : INSTAGRAM Endometriosis

महिलाओं को होने वाली एक गंभीर बीमारी है एंडोमेट्रियोसिस, जिसमें गर्भाशय (Uterus) के जैसे टिशूज यानि ऊतक शरीर के दूसरे हिस्सों में बढ़ने लगते हैं। जब ये टिशूज गलत जगह पर बढ़ते हैं, तो इससे काफी परेशानी होने लगती है। कई बार दर्द असहनीय हो जाता है जिससे आपकी डेली लाइफ प्रभावित होती है। एंडोमेट्रियोसिस से पीड़ित कुछ महिलाओं में प्रेगनेंसी को लेकर भी समस्या होने लगती है।

क्या है एंडोमेट्रियम बीमारी?

एंडोमेट्रियम यूटेरस के इनर लाइनिंग में बनने वाले टिशूज हैं जो पीरियड्स के दौरान निकल जाते हैं। एंडोमेट्रियम को इस तरह समझें कि ये टिशूज यूटेरस के अंदर लेयर के तौर पर जमा होने लगते हैं। जब पीडियड्स होते हैं तो ये लेकर यूटेरस की वॉल से अलग हो जाती हैं और बाहर निकल जाती हैं। 

कहां विकसित होते हैं एंडोमेट्रियल टिशूज?

जब आपको एंडोमेट्रियोसिस होता है, तो एंडोमेट्रियल जैसे टिशूज किसी अंग में बढ़ने लगते हैं। ये आपके पेट, पेल्विस या फिर चेस्ट के अंदर भी विकसित हो सकते हैं। ये टिशूज हार्मोनल रूप से संवेदनशील होते हैं पीरियड साइकल के दौरान इसमें सूजन भी आ सकती है। ये टिशूज शरीर के अंदर ओवेरियन सिस्ट (ovarian cysts), सुपरफीशियल लेसिन्स (superficial lesions),  डीप नोड्यूल (deeper nodules) जैसी समस्याओं का कारण बन सकते हैं। एंडोमेट्रियोसिस होने पर शरीर में कई लक्षण नजर आते हैं।

एंडोमेट्रियोसिस के लक्षण

  • बहुत तेज दर्द होना
  • पीरियड होने पर तेज ऐंठन और दर्द
  • पीरिडय के दौरान पेट या पीठ में दर्द
  • रिलेशन बनाते वक्त दर्द महसूस होना
  • पीरियड्स में हैवी ब्लीडिंग या बीच में स्पॉटिंग
  • प्रेगनेंसी में दिक्कत बढ़ना
  • सुबह फ्रेश होने पर दर्द होना

एंडोमेट्रियोसिस होने के कारण

ऐसी कुछ वजह हैं जो शरीर में एंडोमेट्रियोसिस विकसित होने के खतरे को बढ़ाती हैं। इसमें शामिल हैं-

  • एंडोमेट्रियोसिस की फैमिली हिस्ट्री होना
  • 11 साल से पहले ही पीरियड्स शुरू होना
  • पीरियड्स का साइकल और कितने दिन होता है
  • यूटेरस में या फैलोपियन ट्यूब में कोई डिफेक्ट होना

एंडोमेट्रियोसिस नामक ये बीमारी वैसे तो किसी भी उम्र में हो सकती है। कुछ मामलों में पीरियड्स के शुरुआत में ये उभरती है, लेकिन 25 साल से 40 साल तक ज्यादा मामले सामने आते हैं। हालांकि मोनोपॉज के बाद इस समस्या से काफी हद तक छुटकारा मिल जाता है। अगर शरीर में इस तरह के कोई भी लक्षण नजर आएं तो बिना देरी किए डॉक्टर को दिखा लें।

Source: Cleveland Clinic

(ये आर्टिकल सामान्य जानकारी के लिए है, किसी भी उपाय को अपनाने से पहले डॉक्टर से परामर्श अवश्य लें)

 

Latest Health News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। News in Hindi के लिए क्लिक करें हेल्थ सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement